Sunday, December 4, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

गहलोत के आरोपों पर पायलट बोले- पहले भी निकम्मा-नकारा कह चुके हैं, लेकिन सभी आरोप बेबुनियाद

सीएम अशोक के आरोपों पर सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने पलटवार करते हुए कहा है कि झूठे आरोप ना लगाएं मुख्यमंत्री, राजनीति में उनके कद के नेता को ये बयान देना शोभा नहीं देता है।

जयपुर: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के राजस्थान आने से पहले सीएम अशोक गहलोत ने आज एक टीवी चैनल पर इंटरव्यू के दौरान सचिन पायलट पर हमला बोला था। सीएम गहलोत ने पायलट पर 2020 में भाजपा से फंडिंग लेने के आरोप लगाए, गद्दार तक बताया। इसके बाद सचिन पायलट ने पलटवार करते हुए कहा है कि झूठे आरोप ना लगाएं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत। राजनीति में उनके कद के नेता को ये बयान देना शोभा नहीं देता है।

पायलट बोले- ये समय BJP से लड़ने का है, आरोप लगाने का नहीं

आगे सचिन पायलट ने कहा कि वे पहले भी मुझे नाकारा, निकम्मा और गद्दार कह चुके हैं, उन्होंने मुझ पर जो आरोप लगाए हैं, वे बेबुनियाद हैं। पता नहीं कौन मुख्यमंत्री को ऐसी सलाह दे रहा है जो वो इस तरह की बातें कर रहे हैं। आगे बोले ये समय भाजपा से लड़ने का है, ऐसे झूठे आरोप लगाने की जरूरत नहीं है। वहीं उन्होंने ये भी कहा कि वे पार्टी के अनुभवी नेता हैं, उन्हें इतना असुरक्षित महसूस नहीं करना चाहिए और साथ मिलकर काम करना चाहिए। हम आज किसी पद पर है, तो जरूरी नहीं है कि हमेशा रहे।

जयराम रमेश ने भी दी ये प्रतिक्रिया

आज के घटनाक्रम को लेकर कांग्रेस सांसद जयराम रमेश ने कहा कि अशोक गहलोत एक वरिष्ठ और अनुभवी नेता हैं। उन्होंने अपने छोटे सहयोगी सचिन पायलट के साथ जो भी मतभेद व्यक्त किए हैं, उन्हें इस तरह से सुलझाया जाएगा जिससे कांग्रेस पार्टी मजबूत हो। फिलहाल सभी कांग्रेस जनों की जिम्मेदारी भारत जोड़ो यात्रा की कामयाबी को उत्तर भारत में और दमदार बनाने की है।

जानें क्या है पूरा मामला

गुरूवार को सीएम गहलोत ने एक टीवी चैनल को इंटरव्यू के दौरान सचिन पायलट पर निशाना साधते हुए कहा था कि जिसके पास 10 विधायक का भी समर्थन नहीं है, वह भला मुख्यमंत्री कैसे बन सकता है। ये भी कहा था कि राजस्थान में आलाकमान किसी को भी सीएम बना सकते हैं लेकिन सचिन पायलट को कोई भी स्वीकार नहीं करेगा।

इसके अलावा सीएम गहलोत ने 2020 के विद्रोह के दौरान बीजेपी से फंडिंग लेने का भी आरोप लगाया और कहा कि बगावत के दौरान 10 करोड़ रुपये बांटे गए हैं, बीजेपी के दिल्ली दफ्तर से पैसे उठाए गए हैं। गहलोत ने कहा कि उस दौरान पैसों के लेनदेन के मेरे पास सबूत हैं। गहलोत ने कहा कि नाराजगी के बाद पायलट कांग्रेस दफ्तर नहीं गए बल्कि मानेसर गए और बीजेपी के धर्मेंद्र प्रधान वहां मुलाकात करते थे।

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -