---विज्ञापन---

Rajasthan: संसद में स्मृति ईरानी और सोनिया गांधी के बीच नोकझोंक, सीएम गहलोत ने बताया ‘अहंकारी’

जयपुर: लोकसभा में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के अपमान का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता ने राष्ट्रपति का सदन के नेता होने के नाते, सड़क पर जाकर अपमान किया। इसके बाद लोकसभा में गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री के बीच […]

Edited By : Nirmal Pareek | Updated: Jul 29, 2022 13:15
Share :

जयपुर: लोकसभा में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के अपमान का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता ने राष्ट्रपति का सदन के नेता होने के नाते, सड़क पर जाकर अपमान किया। इसके बाद लोकसभा में गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री के बीच तीखी नोकझोंक हुई। इस पर कांग्रेस के नेताओं ने अपनी प्रतक्रिया दी है। कांग्रेस के दिग्गज नेता और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने स्मृति ईरानी पर निशाना साधा है। उन्होंने ईरानी को अहंकारी तक बता दिया।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बताया अहंकारी

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट करते हुए कहा है कि, ” केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी के साथ संसद में किया गया दुर्व्यवहार घोर निंदनीय है। यह श्रीमती स्मृति ईरानी की अपरिपक्वता एवं अहंकार की निशानी है.. सोनिया गांधी यूपीए चेयरपर्सन, पूर्व नेता विपक्ष, 5 बार की सांसद होने के नाते एक वरिष्ठ पार्लियामेंटेरियन हैं। संसद में इतने वरिष्ठ सदस्य से ऐसा दुर्व्यवहार अस्वीकार्य है।

कांग्रेस ने बताया अपमानजनक

स्मृति ईरानी और सोनियां गांधी के बीच हुई बहस पर, कांग्रेस पार्टी ने कहा, ‘संसद में आज मंत्री स्मृति ईरानी ने सांसद एवं कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी जी से अमर्यादित व्यवहार किया व उन्हें अपमानजनक शब्द कहे। सोनिया गांधी जी भाजपा की एक सांसद रमा देवी जी से बात कर रही थीं। स्मृति ईरानी ने सोनिया गांधी जी को घेरकर बड़े ही अपमानजनक लहजे में उनको अपशब्द कहे। कई अन्य पार्टियों के सांसद और कांग्रेस सांसद इस घटना के गवाह हैं। ये कौन सी मर्यादा है? क्या एक सांसद, साथी सांसद से बात भी नहीं कर सकती।

स्मृति ईरानी राजनीतिक तरीके से अपनी बात रख सकती हैं। वे एक 75 साल की वरिष्ठ सांसद और एक पार्टी की अध्यक्ष के साथ इस तरह का वेयवहार क्यों कर रही हैं? ये संसद एवं राजनीति की मर्यादा के खिलाफ है। राजनीतिक विरोध अपनी जगह है, लेकिन क्या किसी वरिष्ठ सांसद के साथ इस तरह का व्यवहार जायज है?’

वहीं राज्यसभा सांसद जयराम रमेश ने लोकसभा में स्मृति ईराने के व्यवहार पर टिप्पणी की है। उनका कहना है कि उनका व्यवहार अनर्यादित और अपमानजनक था।

दरअसल गुरुवार को संसद में कार्यवाही के दौरान सोनिया गांधी और स्मृति ईरानी के बीच तीखी बहस हो गई। दावा किया गया कि सोनिया गांधी ने स्मृति ईरानी से कथित तौर पर कहा- मुझसे बात ना करें। सूत्रों ने आंखों देखी बताते हुए कहा- कार्यवाही स्थगित होने के बाद सोनिया गांधी रमा देवी के पास गईं। सोनिया ने रमा देवी से- आप लोग मेरा नाम क्यों ले रहे हो? सोनिया ने कहा, ‘आप हमारा नाम नहीं ले सकते।’ सोनिया-रमा देवी की बातचीत के बीच में स्मृति ईरानी आईं। इसके बाद यह मामला सुर्ख़ियों में आ गया।

First published on: Jul 29, 2022 01:15 PM
संबंधित खबरें