Wednesday, 24 April, 2024

---विज्ञापन---

पंजाब सरकार का बड़ा ऐलान, मृतक किसान के परिजनों को मिलेंगे एक करोड़ रुपये और सरकारी नौकरी

Farmers Protest Kisan Andolan: पंजाब सरकार ने मृतक किसान शुभकरण सिंह के परिजनों के लिए मुआवजे का ऐलान किया किया है। मृतक किसान के परिजनों को एक करोड़ रुपये और सरकारी नौकरी मिलेगी। 

Edited By : Achyut Kumar | Updated: Feb 23, 2024 11:06
Share :
farmers protest punjab government farmer shubhkaran
मृतक किसान शुभकरण के परिजनों को मिलेगी सरकारी नौकरी और एक करोड़ रुपये

Farmers Protest Kisan Andolan: पंजाब सरकार ने मृतक किसान शुभकरण सिंह के परिजनों के लिए मुआवजे का ऐलान किया है। मृतक किसान के परिजनों को एक करोड़ रुपये और सरकारी नौकरी मिलेगी। बता दें कि विरोध प्रदर्शन के दौरान शुभकरण की मौत हो गई थी। यह मौत खनौरी बॉर्डर पर हुई थी।

‘हम अपना फर्जी निभा रहे हैं’

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने ‘एक्स’ पर किए गए एक पोस्ट में कहा कि खनौरी बॉर्डर पर किसान आंदोलन के दौरान शहीद हुए शुभकरण सिंह के परिवार को पंजाब सरकार की ओर से एक करोड़ रुपये की आर्थिक सहयता और उनकी छोटी बहन को सरकारी नौकरी दी जाएगी। मान ने कहा कि दोषियों के खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी। हम अपना फर्ज निभा रहे हैं।

पंजाब सरकार पर सरवन सिंह पंढेर ने साधा निशाना 

बता दें कि पंजाब किसान मजदूर संघर्ष समिति के महासचिव सरवन सिंह पंढेर ने खनौरी बॉर्डर पर किसान की मौत पर एफआईआर दर्ज नहीं करने को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि पंजाब सरकार जिस तरह से हमारे शहीदों की शहादत का अपमान कर रही है, वह निंदनीय है।

एफआईआर दर्ज करने में देरी पर उठे सवाल

पंढेर ने एफआईआर दर्ज करने में हो रही देरी पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि हमारी मांग है कि शुभकरण सिंह को शहीद का दर्जा दिया जाए और उन पर हमला करने वालों के खिलाफ धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया जाए। उन्होंने यह भी मांग की थी कि शुभकरण के परिवार को मुआवजा दिया जाए और उनके शव के पोस्टमॉर्टम के लिए एक बोर्ड का गठन किया जाए, जिसकी वीडियोग्राफी होगी।

यह भी पढ़ें: Farmers Protest: ‘रासुका, ब्लैक डे, ट्रैक्टर मार्च, महापंचायत’; 7 पॉइंट्स में किसान आंदोलन के अपडेट्स

शहीदों का अपमान कर रही पंजाब सरकार

पंढेर ने कहा कि पंजाब सरकार हमारे शहीदों की शहादत का अपमान कर रही है। यह निंदनीय है। उन्होंने किसानों पर सुरक्षा बलों के हमले की निंदा करते हुए निष्क्रियता के लिए सरकार पर हमला बोला।

राकेश टिकैत ने ‘ब्लैड फ्राइडे’ मनाने का किया ऐलान

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने शुक्रवार को ‘ब्लैक फ्राइडे’ मनाने का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि संयुक्त किसान मोर्चा के नेतृत्व में प्रदर्शनकारी किसान पंजाब के संगरूर जिले में खनौरी बॉर्डर पर किसान की मौत के बाद ‘ब्लैक फ्राइडे’ मनाएंगे।  इस बीच, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि केंद्र सरकार किसानों के कल्याण के लिए समर्पित है। वह बातचीत के जरिए मामले को हल करने की कोशिश कर रही है। इसके साथ ही, कृषि मंत्रालय किसान संगठनों द्वारा उठाई गई चिंताओं पर काम कर रहा है।

हरियाणा की अंबाला पुलिस ने किसानों को चेताया

इससे पहले, हरियाणा की अंबाला पुलिस ने प्रदर्शनकारी किसानों को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर सरकारी और निजी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया तो इसकी भरपाई प्रदर्शनकारियों की संपत्ति को अटैच और उनके बैंक खातों को सीज कर की जाएगी। बता दें कि13 फरवरी को विरोध प्रदर्शन शुरू होने के बाद से प्रदर्शनकारी किसान अंबाला के पास शंभू बॉर्डर पर डेरा डाले हुए हैं। अब तक हुई झड़पों में कई किसान और पुलिस कर्मी घायल हुए हैं।

यह भी पढ़ें: क्या होती हैं पैरामिलिट्री फोर्स? किसान आंदोलन में लेनी पड़ रही मदद

First published on: Feb 23, 2024 09:59 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें