Thursday, 22 February, 2024

---विज्ञापन---

Kanpur: पीएम-सीएम के खिलाफ दरोगा की थी अभद्र टिप्पणी, विभाग ने ‘जबरिया रिटायर’ किया

Kanpur News: उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में पुलिस का अशोभनीय चेहरा सामने आया है। यहां नशे में धुत्त एक दरोगा ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभद्र टिप्पणी कर दी। मामले की जांच के बाद दरोगा को विभाग ने जबरिया रिटायर (Forced Retire) कर दिया है। साथ ही दरोगा के सभी […]

Edited By : Naresh Chaudhary | Updated: Aug 3, 2022 12:19
Share :

Kanpur News: उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में पुलिस का अशोभनीय चेहरा सामने आया है। यहां नशे में धुत्त एक दरोगा ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभद्र टिप्पणी कर दी। मामले की जांच के बाद दरोगा को विभाग ने जबरिया रिटायर (Forced Retire) कर दिया है। साथ ही दरोगा के सभी भत्तों के लिए तीन माह का समय दिया गया है।

और पढ़िएमुख्यमंत्री ने राष्ट्रमंडल खेलों में पदक विजेता हरजिन्दर कौर के लिए 40 लाख रुपए के नकद इनाम का किया ऐलान

 

मुख्यमंत्री ने दिए थे सूची तैयार कर के आदेश

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री योगी की ओर से एक आदेश जारी किया गया था, जिसमें 50 साल से ज्यादा की उम्र वाले अनुशासनहीन पुलिसकर्मियों की सूची बनाने को कहा गया था। सूची की जांच के लिए जिला स्तर पर एक कमेठी का गठन भी कराया गया था। सख्त आदेश थे कि आरोप सिद्ध होने पर पुलिस वाले को अनिवार्य रूप से रिटायर कर दिया जाए। मुख्यमंत्री योगी के इसी आदेश के तहत कानपुर के दरोगा नागेंद्र यादव के खिलाफ कार्रवाई की गई है।

दस साल में तीन बार दंडित हुआ दरोगा

जानकारी के मुताबिक कानपुर कोतवाली में नागेंद्र यादव दरोगा के पद पर तैनात थे। उन्होंने नशे में धुत्त होकर सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के खिलाफ अभद्र टिप्पणी कर दी थी। आदेश के मुताबिक दरोगा के खिलाफ मामले में जांच शुरू हुई। नागेंद्र के सर्विस ट्रैक रिकॉर्ड में भी कई खामियां मिली हैं। अधिकारियों ने बताया कि दस साल में तीन बार दरोगा को दंडित भी किया जा चुका है।

अधिकारियों से फोन अभद्र भाषा में बात करता था

दरोगा के खिलाफ सिर्फ इतनी ही शिकायतें नहीं हैं। आरोप है कि कई बार उन्होंने अधिकारियों के सीयूजी नंबर पर फोन करके उसने अभद्र भाषा में बात भी की है। ड्यूटी पर कई बार शराब पीकर आने का भी आरोप है। अधिकारियों का कहना है कि कई बार जांच में इसकी पुष्टि भी हो चुकी है। इस पर कमेटी ने अपनी रिपोर्ट एडिश्नल सीपी हेडक्वार्टर आनंद कुलकर्णी को सौंपी थी, जिस पर उन्होंने नागेंद्र को अनिवार्य रूप से रिटायर करने के निर्देश दिए हैं।

 

और पढ़िएफ्री इंशोरेंस के नाम पर कांस्टेबल के की गई 2.81 लाख की साइबर ठगी, जांच में जुटी पुलिस

 

एक सिपाही और दो फॉलोअर पर भी गाज

निर्देश के मुताबिक दरोगा तत्काल प्रभाव से रिटायर माना जाएगा। एडिश्नल सीपी हेडक्वाटर्स आनंद कुलकर्णी के अनुसार यह मामला पिछले साल का है। दरोगा के अलावा जिले के एक सिपाही और दो फॉलोअर को भी जबरन रिटायर किया गया है।

 

 

 

और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

 

 

Click Here – News 24 APP अभी download करें

First published on: Aug 03, 2022 11:10 AM
संबंधित खबरें