Wednesday, 28 February, 2024

---विज्ञापन---

‘ठाकुर कविता’ विवाद पर तेज प्रताप यादव का बयान – ठाकुर जी केवल एक, जो वृंदावन में रहते हैं…

Tej Pratap Yadav On Thakur Controversy : आरजेडी सांसद मनोज झा के द्वारा राज्यसभा में मशहूर दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मिकी की पढ़ी गई कविता को लेकर विवाद छिड़ गया है। पटना में एक कार्यक्रम के बाद मीडिया ने तेज प्रताप यादव को घेर लिया और इस विवाद के बारे में जानना चाहा। बता दें कि […]

Edited By : News24 हिंदी | Updated: Sep 28, 2023 18:27
Share :
Tej Pratap Yadav statement on Thakur Poem controversy

Tej Pratap Yadav On Thakur Controversy : आरजेडी सांसद मनोज झा के द्वारा राज्यसभा में मशहूर दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मिकी की पढ़ी गई कविता को लेकर विवाद छिड़ गया है। पटना में एक कार्यक्रम के बाद मीडिया ने तेज प्रताप यादव को घेर लिया और इस विवाद के बारे में जानना चाहा। बता दें कि कविता पर कुछ लोग आपत्ति दर्ज करा रहे हैं उनका कहना है कि यह कविता ठाकुरों की आलोचना करती है।

यह भी पढ़ें – आ गया पेट्रोल, डीजल का विकल्प, छत्तीसगढ़ में लगेगी देश की पहली इथेनॉल डिस्टिलरी

तेज प्रताप यादव ने कहा, सब बकवास है 

इस पूरे विवाद पर बोलते हुए लालू यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं है, यह सब बकवास है। उनका कहना है कि सभी इंसान बराबर हैं, और उन्हें किसी भी जाति-पाती से कोई लेना देना नहीं है। तेज प्रताप यादव ने आगे कहा कि उनके लिए ठाकुर शब्द का एक ही मतलब है और वो केवल वृंदावन में ही रहते हैं, इसे जाति के नजरिये से देखना गलत है।

मैं नहीं जानता कि लोग क्या कह रहे हैं 

तेज प्रताप यादव ने लोगों की प्रतिक्रियाओं पर ध्यान न देते हुए मीडिया से कहा कि मैं नहीं जानता कि लोग क्या कह रहे हैं, मैं बस इतना कह सकता हूं कि मनोज जी के कहने का मतलब किसी भी जाति का अपमान या आलोचना करना नहीं था। बता दें की मनोज झा, महिला आरक्षण पर बोलते हुए यह कविता सुना रहे थे। उनका कहना था कि हम सबके अंदर एक ठाकुर है, जिसे मारने की जरूरत है।

First published on: Sep 28, 2023 06:26 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें