---विज्ञापन---

विधायकों के दलबदल पर चिराग पासवान का सीएम नीतीश पर तंज, ‘जिनके घर शीशे के बने हों, वे दूसरों पर पत्थर ना फेंके’

पटना: लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के नेता चिराग पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा है। दरअसल, सीएम नीतीश ने मणिपुर में जदयू के पांच विधायकों के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने के बाद, शनिवार को तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि क्या यह “संवैधानिक” था? इस पर टिप्पणी करते […]

Edited By : Pulkit Bhardwaj | Updated: Sep 5, 2022 13:31
Share :

पटना: लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के नेता चिराग पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा है। दरअसल, सीएम नीतीश ने मणिपुर में जदयू के पांच विधायकों के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने के बाद, शनिवार को तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि क्या यह “संवैधानिक” था? इस पर टिप्पणी करते हुए पासवान ने कहा है कि जिनके अपने घर शीशे के बने हैं, उन्हें दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकना चाहिए।”

लोजपा (रामविलास) प्रमुख ने न केवल बिहार के सीएम पर उनकी टिप्पणी को लेकर हमला किया, बल्कि उन्होंने नीतीश कुमार पर उनकी पार्टी में फूट डालने और उनके परिवार को विभाजित करने का भी आरोप लगाया। चिराग पासवान ने अपने ट्विटर पर कहा, “मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने एक बात बिल्कुल सही कही: अन्य पार्टियों से विधायक तोड़कर अपनी पार्टी में मिलाना असंवैधानिक होता है, तो मुख्यमंत्री जी, जब आपने लोक जनशक्ति पार्टी के विधायकों और सांसद तोड़े, तब कौनसा संवैधानिक कृत्य क्या था?”

अभी पढ़ें Jharkhand: एक दिन का विशेष सत्र कल, रांची पहुंचे विधायक

आगे जोड़ते हुए चिराग ने कहा, ”इतना ही नहीं, तुमने मेरे घर को, मेरे परिवार को बांट दिया, फिर कहां सो रहे थे? आज जब मामला आपके सामने आया तो आपने संवैधानिक और असंवैधानिक चर्चा शुरू कर दी। नीतीश कुमार जी जब अपना घर शीशे का बना हो तो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकने चाहिए।”

बता दें कि लोजपा पार्टी का विभाजन तब हुआ जब चिराग के चाचा पशुपति पारस और 4 अन्य लोकसभा सांसदों ने निचले सदन के अध्यक्ष ओम बिरला से 13 जून, 2021 को लोकसभा में संसदीय दल के नेता के रूप में चिराग पासवान को हटाने का आग्रह किया।

इसके बाद सिलसिलेवार घटनाओं के कारण पार्टी में विभाजन हुआ और दो गुटों- लोजपा (रामविलास) और राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के गठन की ओर अग्रसर हुआ। विशेष रूप से, तब से, चिराग नीतीश कुमार पर अपनी पार्टी को तोड़ने का आरोप लगाते रहे हैं क्योंकि वह 2020 के विधानसभा चुनावों में कुमार के खिलाफ खड़े थे।

अभी पढ़ें डेढ़ साल की खोज के बाद बनाए गए थे टाटा ग्रुप में चेयरमैन, चार साल काम करने के बाद हुआ था विवाद 

मणिपुर में जदयू के 6 में से 5 विधायक बीजेपी में शामिल

2 सितंबर को मणिपुर विधानसभा सचिव के मेघजीत सिंह ने बताया कि अध्यक्ष थोकचोम सत्यब्रत सिंह ने संविधान की 10 वीं अनुसूची के तहत जदयू के पांच विधायकों के भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए में विलय को स्वीकार कर लिया है।

जदयू के जिन पांच विधायकों का भाजपा में विलय हुआ है, उनमें खुमुक्कम जोयकिसन सिंह, नगुरसंगलूर सनाटे (टिपईमुख), मोहम्मद अचब उद्दीन (जिरीबाम), थंगजाम अरुणकुमार (वांगखेई) और एलएम खौटे शामिल हैं। जदयू के छठे विधायक, जिन्होंने भाजपा की ओर रुख नहीं किया, वे लिलोंग निर्वाचन क्षेत्र के विधायक मोहम्मद नासिर हैं।

विशेष रूप से, नीतीश कुमार की जदयू ने इस साल की शुरुआत में 60 सदस्यीय मणिपुर विधानसभा में छह सीटें जीतीं और मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार को अपना समर्थन दिया।

अभी पढ़ें –  देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

First published on: Sep 04, 2022 04:07 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें