Monday, September 26, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

Duleep Trophy 2022: 193 रन ठोक यश ढुल ने गढ़ा कीर्तिमान, सचिन तेंदुलकर के साथ एलीट लिस्ट में शामिल

घरेलू क्रिकेट में Yash Dhull का कोई जवाब नहीं है। भारत को खिताबी जीत दिलाने के बाद इस साल रणजी ट्रॉफी में पदार्पण करने वाले यश ने अपने पहले गेम में प्रत्येक पारी में शतक बनाए थे।

नई दिल्ली: टीम इंडिया को अंडर 19 वर्ल्ड कप जिताने वाले कप्तान यश ढुल रनों का अंबार लगा रहे हैं। हालांकि उन्हें इस साल आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स की ओर से खरीदा गया था, लेकिन उन्हें एक भी मैच में नहीं खिलाया गया। अंडर 19 के इस स्टार ने अब दलीप ट्रॉफी में तबाही मचा दी है।

घरेलू क्रिकेट में यश ढुल का कोई जवाब नहीं है। भारत को खिताबी जीत दिलाने के बाद इस साल रणजी ट्रॉफी में पदार्पण करने वाले यश ने अपने पहले गेम में प्रत्येक पारी में शतक बनाए थे। दाएं हाथ के बल्लेबाज ने छत्तीसगढ़ के खिलाफ अपने तीसरे मैच में दोहरा शतक बनाया और केवल तीन मैचों में 479 रनों के साथ सीजन खत्म किया। अपने प्रदर्शन के कारण यश ने दलीप ट्रॉफी टीम में जगह बनाई और उन्होंने अपने छोटे से करियर में एक और उपलब्धि हासिल की।

अभी पढ़ें फिर आ रहे हैं ‘सुपरहीरो’ एमएस धोनी, ‘अथर्व: द ओरिजिन’ कॉमिक बुक के रूप में रीलॉन्च

ठोके 193 रन
नॉर्थ जोन और ईस्ट जोन के बीच पॉन्डिचेरी में चल रहे मैच में नॉर्थ जोन की ओर से ओपनिंग करने उतरे यश ने 243 गेंदों में 28 चौके और दो छक्के ठोक 193 रन की ताबड़तोड़ पारी खेली। डेब्यू मैच में इस शानदार शतक की बदौलत यश सचिन तेंदुलकर के साथ एलीट लिस्ट में शामिल हो गए।

1988 में घरेलू क्रिकेट में पदार्पण करने वाले सचिन ने अपने रणजी ट्रॉफी और दलीप ट्रॉफी डेब्यू पर शतक बनाया था। भारत के दिग्गज ने अपने ईरानी कप डेब्यू में भी शतक बनाया। 28 साल बाद पृथ्वी शॉ ने अपने रणजी ट्रॉफी और दलीप ट्रॉफी डेब्यू पर भी शतक बनाए, लेकिन वह ईरानी कप में तीन अंकों का आंकड़ा नहीं तोड़ सके।

यदि यश दलीप ट्रॉफी में अपना प्रदर्शन जारी रखते हैं, तो ईरानी कप टीम में जगह बना सकते हैं। इसर के साथ उनके पास मास्टर ब्लास्टर के संग एक और विशिष्ट सूची में शामिल होने का अवसर होगा।

अभी पढ़ें फाइनल से पहले पाकिस्तान की पिटाई, श्रीलंका ने 5 विकेट से धोया

क्या है दलीप ट्रॉफी?
दलीप ट्रॉफी भारत में खेली जाने वाली एक घरेलू प्रथम श्रेणी क्रिकेट प्रतियोगिता है। नवानगर के कुमार दलीपसिंहजी (जिन्हें ‘दुलीप’ के नाम से भी जाना जाता है) के नाम पर प्रतियोगिता मूल रूप से भारत के भौगोलिक क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करने वाली टीमों द्वारा खेली गई थी। 2016-17 से यह बीसीसीआई चयनकर्ताओं द्वारा चुनी गई टीमों द्वारा खेला गया है। आठ वर्षों के बाद दलीप ट्रॉफी जोनल प्रारूप में 2022-23 के बीसीसीआई के घरेलू सत्र के लिए वापस आ गई है। दलीप ट्रॉफी साठ के दशक का टूर्नामेंट है।

अभी पढ़ें – खेल से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -