Thursday, December 1, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

CWG 2022: 19 साल के लड़के ने डेब्यू में ही दिला दिया देश को दूसरा गोल्ड मेडल, जानिए कौन हैं जेरेमी लालरिनुंगा

नई दिल्ली: जेरेमी लालरिनुंगा! 19 साल का वो लड़का, जो स्टाइल में मंच पर आता है और आते ही दहाड़ मारता है। बेल्ट कसकर पैर पटकता है तो नसों में रोमांच भर जाता है। अंगुलियों में टेप लगाकर 140 किलो वजन को इस तरह कंधे पर उठा लेता है मानो उसका कॉन्फिडेंस इससे कहीं ज्यादा उठाने का हो। जी हां, 19 साल के इस लड़के का नाम आज हर उस जुंबा पर है, जो खेल में देश की प्रतिभाओं को आगे बढ़ते देखना चाहता है। जेरेमी लालरिनुंगा ने CWG 2022 में गोल्ड जीतकर इतिहास रचा है, उन्होंने इसी के साथ इस ईवेंट में नया कॉमनवेल्थ रिकॉर्ड बनाया। जेरेमी ने स्नैच में 140 किलो और क्लीन एंड जर्क में 160 किलो वजन उठाकर कुल 300 किग्रा भार उठाया, जो अब एक CWG रिकॉर्ड है।

 

और पढ़िएCWG 2022 Day 4, Schedule: कॉमनवेल्थ में भारत का जलवा, हॉकी टीम पर रहेगी नजर, जानें आज का शेड्यूल

 

मिजोरम के रहने वाले हैं जेरेमी
CWG 2022 से पहले ये नाम शायद ही किसी ने सुना हो, लेकिन अब इस युवा खिलाड़ी को दुनियाभर से बधाईयां मिल रही हैं। जेरेमी मिजोरम की राजधानी आइजोल के रहने वाले हैं। वे 2018 में अर्जेंटीना में हुए समर यूथ ओलपिंक्स में स्वर्ण पदक जीत चुके हैं। उनका यूट्यूब पर खुद के नाम से आधिकारिक पेज भी है। जिस पर करीब 14.5 हजार सब्स्क्राइबर हैं। उन्होंने कतर में खेले गए छठे इंटरनेशनल कप 2019 में भी शानदार प्रदर्शन किया था।

लालरिनुंगा के नाम राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी हैं। 67 किग्रा वर्ग में 141 किग्रा (स्नैच), 167 किग्रा (क्लीन एंड जर्क) के साथ कुल 306 किग्रा वजन उठाकर वे नेशनल रिकॉर्ड होल्डर हैं। उनके पिता मिजोरम के आइजोल में एक प्रसिद्ध चेहरा थे, लेकिन 90 के दशक की शुरुआत में भारोत्तोलन में उन्हें पहचान नहीं मिल सकी। उस समय वे पारिवारिक स्थिति की वजह से वह अपने सपनों को पूरा नहीं कर पाए। उनके पास स्थानीय बिजली निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) के साथ अनुबंध पर एक मजदूर काम शुरू करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था।

पिछले साल जीता गोल्ड
जेरेमी के चार भाई हैं। इससे पहले उन्होंने बॉक्सिंग भी शुरू की लेकिन बाद में उन्हें वेटलिफ्टिंग से प्यार हो गया। इसके बाद उन्होंने पुरुषों के 62 किग्रा वर्ग में 2018 युवा ओलंपिक में भारत के लिए पहला स्वर्ण जीतने का इतिहास बनाया। जेरेमी आर्मी की बॉयज़ स्पोर्ट्स कंपनी से निकले हैं, जिसने इससे पहले शीर्ष अंतर्राष्ट्रीय इवेंट (आयु वर्ग) में कई पदक जीते हैं। जेरेमी ने 2020 में कोलकाता में राष्ट्रीय चैंपियनशिप भी जीती है। पिछले साल ताशकंद में राष्ट्रमंडल चैंपियनशिप में उन्होंने गोल्ड मेडल जीतकर कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के लिए क्वालिफाई किया था।

और पढ़िएCWG 2022: ट्रैक से निकल कर दर्शक दिर्घा में घुस गए साइकलिस्ट, हो गया भयंकर हादसा, देखें वीडियो

 

चोटों से जूझे हैं जेरेमी
67 किग्रा वर्ग में प्रतिस्पर्धा करने वाले जेरेमी ने कहा, “यह मेरा पहला राष्ट्रमंडल खेल है और मैं बहुत अच्छा महसूस कर रहा हूं। युवा ओलंपिक के बाद यह चार साल बाद मेरे लिए सबसे बड़ी प्रतियोगिता है, क्योंकि मैं ओलंपिक से चूक गया था।” जेरेमी ने आगे कहा, मैं समझ गया था कि मुझे ज्यादा मेहनत करनी होगी क्योंकि मैं जो टोटल उठा रहा था वह काफी नहीं था। इससे मुझे यह भी एहसास हुआ कि जूनियर से सीनियर तक ओलंपिक कितना कठिन है। पिछले एक साल में जेरेमी को चोट से जूझना पड़ा। एशियाई चैंपियनशिप में उन्होंने निराशाजनक प्रदर्शन किया। बाद में पता चला कि उनके घुटने में समस्या थी, जिसने जूनियर विश्व चैंपियनशिप में उनके प्रदर्शन को भी प्रभावित किया।

जेरेमी ने कहा, मेरे घुटने के पीछे पानी भर गया। मुझे उसके लिए सर्जरी करानी पड़ी। वहीं विश्व चैंपियनशिप से कुछ हफ़्ते पहले उन्हें पीठ में गंभीर दर्द हुआ। इसके बाद पिछले साल के अंत में उन्हें कोविड हो गया। जेरेमी ने कहा, मुझे गले में दर्द और बुखार था। उसके बाद मेरे शरीर का वजन घटकर 63-62 किग्रा हो गया, यह मुश्किल समय था। “मैंने ठीक होने के लिए संघर्ष किया। हालांकि “मुझे सोचने का समय मिला और अब मैं राष्ट्रमंडल खेलों में अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं। मैं निश्चित रूप से अपने व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ से आगे जाने का प्रयास करूंगा।”

 

 

और पढ़िए – खेल से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

 

Click Here – News 24 APP अभी download करें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -