Thursday, September 29, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड में शामिल संदिग्ध आतंकी गिरोहों के ठिकानों पर NIA की छापेमारी

NIA ने सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड से जुड़े संदिग्ध 'आतंकी गिरोहों' के खिलाफ दिल्ली, हरियाणा और पंजाब सहित विभिन्न स्थानों पर तलाशी ली है।

नई दिल्ली: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या से जुड़े संदिग्ध ‘आतंकवादी गिरोहों’ के खिलाफ दिल्ली, हरियाणा और पंजाब सहित विभिन्न स्थानों पर तलाशी ली है। जानकारी के अनुसार, एनआईए ने हरियाणा, पंजाब और दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में विभिन्न तलाशी अभियानों का नेतृत्व किया।

इससे पहले शनिवार को पश्चिम बंगाल में भारत-नेपाल सीमा से इस हत्याकांड के मुख्य आरोपी शूटर दीपक मुंडी और उसके दो साथियों को गिरफ्तार कर पंजाब पुलिस इस मामले में 23 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। पुलिस ने कहा कि आरोपियों को उस समय गिरफ्तार किया गया जब वे नेपाल भागने की कोशिश कर रहे थे।

गिरफ्तार किए गए अन्य दो लोगों की पहचान कपिल पंडित और राजिंदर उर्फ ​​जोकर के रूप में हुई है। इस ऑपरेशन को पंजाब पुलिस की एंटी गैंगस्टर टास्क फोर्स (AGTF) ​​ने दिल्ली पुलिस और केंद्रीय एजेंसियों के साथ संयुक्त रूप से अंजाम दिया।

 

ISI कनेक्शन

पंजाब पुलिस ने कहा, “जैसे ही पंजाब पुलिस ने मामले में छठे और आखिरी शूटर को गिरफ्तार किया, पूरी साजिश और तौर-तरीकों के साथ-साथ इन गैंगस्टरों के आतंकी संगठनों के साथ लिंक-अप का भी खुलासा हुआ।” एआईजी गुरमीत चौहान और डीएसपी बिक्रम बराड़ के नेतृत्व में एजीटीएफ की एक टीम शनिवार देर रात मुंडी और उनके दो सहयोगियों को हवाई मार्ग से पंजाब ले आई। इन तीनों को रविवार को छह दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा गया है।

पंजाब के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गौरव यादव ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, “मुख्य हत्यारे दीपक मुंडी ने पंजाबी गायक शुभदीप सिंह उर्फ ​​सिद्धू मूसेवाला पर अंधाधुंध गोलियां चलाई थीं, जिनकी 29 मई को मौत हो गई थी।”

डीजीपी गौरव यादव ने कहा कि मूसेवाला के हत्या के मामले में गिरफ्तार किए गए गैंगस्टरों और आतंकी समूहों के बीच मजबूत सांठगांठ है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI इस सांठगांठ का फायदा उठा रही है।

जानकारी के मुताबिक मूसेवाला हत्याकांड में कुल 35 लोग आरोपी हैं, जिनमें से 23 को गिरफ्तार कर लिया गया है और दो मारे जा चुके हैं। अन्य चार देश से बाहर हैं और छह अभी भी फरार हैं।

कपिल पंडित ने सलमान ख़ान को भी मारने की रची थी साजिश

कपिल पंडित, जो राजस्थान के जि़ला चूरू में उसके पैतृक गाँव बेवड़ के एक व्यक्ति के कत्ल के दोष में जेल में बंद था, से प्राथमिक पूछताछ से पता लगा है कि वह अपनी माँ की अंतिम रस्मों में शामिल होने के लिए साल 2021 में पैरोल पर बाहर आया था और तब से ही वह फऱार था।

डीजीपी गौरव यादव ने कहा कि तब ही उसके साथ लॉरेंस बिश्नोयी गैंग ने सम्पत नेहरा और गोल्डी बराड़ के द्वारा बॉलीवुड अभिनेता सलमान ख़ान की हत्या को अंजाम देने के लिए संपर्क किया था। डीजीपी गौरव यादव ने कहा कि सलमान ख़ान को मारने की रणनीति बनाने के लिए कपिल को सचिन बिश्नोयी और संतोष यादव के साथ मिलकर रेकी करने के लिए कहा गया था।

कपिल ने खुलासा किया कि विक्की मिड्डूखेड़ा के कत्ल का बदला लेने के लिए लॉरेंस बिश्नोयी गैंग के इशारे पर पहले भी उसने सिद्धू मूसेवाला को मारने के इरादे से कई बार रेकी की थी।

डीजीपी ने कहा कि इस मामले में विदेशों को फऱार हुए गैंगस्टरों को पकडऩे के लिए ठोस प्रयास किए जा रहे हैं। इसी सिलसिले के अंतर्गत गैंगस्टर सचिन थापन को अजऱबाईजान में हिरासत में लिया गया है और जल्द ही उसको भारत के हवाले कर दिया जायेगा। जि़क्रयोग्य है कि पुलिस ने इस मामले में 24 मुलजिमों के खि़लाफ़ चालान पेश किया है।
उन्होंने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के दिशा-निर्देशों पर पंजाब पुलिस द्वारा गैंगस्टरों के विरुद्ध छेड़ी गई जंग की उपलब्धियों में यह एक और बढ़त मिली है।

बताने योग्य है कि पुलिस ने गिरफ़्तार किए गए व्यक्तियों को रविवार को मानसा अदालत में पेश करके छह दिनों का रिमांड हासिल किया है।

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -