Wednesday, September 28, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

‘डाइनेस्टी, मनी और कट्टा’, जेपी नड्डा ने तमिलनाडु में बताई DMK की परिभाषा

जेपी नड्डा ने कहा कि भाजपा एकमात्र ऐसी पार्टी है जो तमिल भाषा, साहित्य और संस्कृति सहित लोगों की क्षेत्रीय आकांक्षाओं का ख्याल रख रही है

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने स्टालिन और उनकी पार्टी विकास के बारे में बात नहीं कर सकते, क्योंकि डीएमके में D शब्द का मतलब डाइनेस्टी (वंश), M का मतलब ‘मनी’ (पैसा) और K का अर्थ कट्टा पंचायत (कंगारू कोर्ट) होता है।

अभी पढ़ें NIA रेड के बाद केरल में PFI वर्कर्स का तांडव, RSS दफ्तर पर फेंका पेट्रोल बम, गाड़ियों में तोड़फोड़

बता दें कि नड्डा इन दिनों पार्टी की कई बैठकें करने के लिए तमिलनाडु में हैं। इस दौरान उन्होंने तमिलनाडु में सत्तारूढ़ द्रमुक पर तीखा हमला किया। उन्होंने डीएमके को वंशवादी, धन ठगी और कट्टा पंचायत कहा। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि द्रमुक की विकास में कोई दिलचस्पी नहीं है और वह केवल एक वंश को कायम रखने में दिलचस्पी रखती है जो लोकतंत्र की अवधारणा का कड़ा विरोध करता है।

नड्डा ने कहा कि यह DMK की विचारधारा है, परिवार ही शो चला रहा है। यह वंशवाद ला रहा है और वे सारा पैसा ठग रहे हैं। वे परिवार को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार चलाते हैं। पुलिस स्टेशन से लेकर हर जगह कट्टा पंचायत है।

द्रमुक के लिए एक नया नाम गढ़ते हुए उन्होंने कहा कि यह डी-डायनेस्टी, एम- मनी स्विंडलिंग और के-कट्टा पंचायतों के लिए है। नड्डा ने कहा कि तमिलनाडु में सत्तारूढ़ द्रमुक की कोई क्षेत्रीय आकांक्षा नहीं है और देश भर के कई क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की तरह वह वंशवाद की राजनीति को जारी रखना चाहती है। उन्होंने लोगों से राज्य से वंशवादी पार्टी को ‘मुक्त’ करने का आह्वान किया।

नड्डा ने कहा कि स्टालिन और उनके डीएमके की कोई क्षेत्रीय आकांक्षाएं नहीं हैं और कोई योगदान नहीं है। एम करुणानिधि (पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके आइकन) वहां थे। अब उनके बेटे एम के स्टालिन आए और छोटे स्टालिन (उदयनिधि) आए, जबकि पार्टी में अन्य सभी लोग पहले जैसे ही बने हुए हैं।

अभी पढ़ें महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे को बॉम्बे हाई कोर्ट से बड़ी राहत, शिवाजी पार्क में दशहरा रैली की मिली अनुमति

नड्डा ने की केंद्र सरकार की तारीफ

भाजपा के अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा देश की एकमात्र राष्ट्रीय पार्टी है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गतिशील नेतृत्व में तमिल भाषा, साहित्य और संस्कृति सहित लोगों की क्षेत्रीय आकांक्षाओं का ख्याल रख रही है और आगे बढ़ रही है। उन्होंने द्रमुक पर निशाना साधते हुए कहा कि डीएमके समाज को बांटने की कोशिश कर रही है।

अभी पढ़ें   देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़े

Click Here – News 24 APP अभी download करें

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -