Saturday, 20 April, 2024

---विज्ञापन---

डोनाल्ड ट्रम्प को मारना चाहते हैं; ईरान के शीर्ष कमांडर ने तैयार किया क्रूज मिसाइल

नई दिल्ली: ईरान अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से बदला लेना चाहता है। ईरान ने इसके लिए 1,650 किमी (1,025 मील) की दूरी के साथ एक क्रूज मिसाइल विकसित की है। शीर्ष गार्ड कमांडर ने शुक्रवार को कहा हम जल्द ही अपे कमांडर की हत्या का बदला लेंगे। रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स एयरोस्पेस फोर्स के प्रमुख […]

Edited By : Gyanendra Sharma | Updated: Feb 25, 2023 10:39
Share :

नई दिल्ली: ईरान अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से बदला लेना चाहता है। ईरान ने इसके लिए 1,650 किमी (1,025 मील) की दूरी के साथ एक क्रूज मिसाइल विकसित की है। शीर्ष गार्ड कमांडर ने शुक्रवार को कहा हम जल्द ही अपे कमांडर की हत्या का बदला लेंगे।

रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स एयरोस्पेस फोर्स के प्रमुख अमीराली हाजीज़ादेह ने भी ईरान के एक शीर्ष ईरानी कमांडर की अमेरिकी हत्या का बदला लेने के लिए ईरान की बार-बार की धमकी के बारे में बात करते हुए कहा, “हम पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड को मारना चाहते हैं।”

‘कमांडर कासिम सोलेमानी की हत्या का लेंगे बदला’

हाजीजादेह ने स्टेट टीवी को बताया, 1,650 किमी की रेंज वाली हमारी क्रूज मिसाइल को इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान के मिसाइल शस्त्रागार में जोड़ा गया है। हाजीजादेह ने कहा कि ईरान ने “गरीब सैनिकों” को मारने का इरादा नहीं किया था, जब अमेरिका ने बगदाद में 2020 में अमेरिकी ड्रोन हमले में ईरानी सैन्य कमांडर कासिम सोलेमानी को मारा तो इसके कुछ दिनों बाद इराक में अमेरिकी नेतृत्व वाली सेना पर बैलिस्टिक मिसाइल हमला किया था।

और पढ़िए –यूक्रेन से जंग के बीच फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स का बड़ा एक्शन, रूस की सदस्यता की रद्द

बदला लेने के लिए कसम खाई

हाजीजादेह ने एक टेलीविजन साक्षात्कार में कहा कि अल्लाह ने चाहा तो हम ट्रंप को मारना चाहते हैं। ईरानी नेताओं ने अक्सर सुलेमानी का बदला लेने के लिए मजबूत शब्दों में कसम खाई है। संयुक्त राज्य अमेरिका के विरोध और यूरोपीय देशों द्वारा चिंता की अभिव्यक्ति के विरोध में ईरान ने अपने मिसाइल कार्यक्रम, विशेष रूप से अपनी बैलिस्टिक मिसाइलों का विस्तार किया है। तेहरान का कहना है कि यह कार्यक्रम विशुद्ध रूप से रक्षात्मक और निवारक प्रकृति का है।

ईरान ने कहा है कि उसने यूक्रेन में युद्ध से पहले मास्को को ड्रोन की आपूर्ति की थी। रूस ने बिजली स्टेशनों और नागरिक बुनियादी ढांचे को निशाना बनाने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया है। नवंबर में, पेंटागन ने कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका हाजीजादेह के हवाले से रिपोर्ट पर संदेह कर रहा था, जिसमें कहा गया था कि ईरान ने एक हाइपरसोनिक बैलिस्टिक मिसाइल विकसित की है।

और पढ़िए – गैजेट्स से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें यहाँ पढ़ेंं

First published on: Feb 25, 2023 08:53 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें