Wednesday, September 28, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

मोदी बोले, भारत में डेयरी सेक्टर की असली ताकत छोटे किसान, इसकी मिसाल पूरी दुनिया में मिलना मुश्किल

ग्रेटर नोएडा इंडिया एक्सपो मार्ट में हो रहा चार दिवसीय शिखर सम्मेलन 'डेयरी फॉर न्यूट्रिशन एंड लाइवलीहुड' में पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। दुग्ध उत्पादन पर सम्मेलन को संबोधित किया।

Noida: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने सोमवार को भारत के डेयरी उद्योग क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी को प्रोत्साहित किया। इंटरनेशनल डेयरी फेडरेशन एंड वर्ल्ड डेयरी समिट (International Dairy Federation And World Dairy Summit-2022) के उद्घाटन समारोह में पीएम मोदी ने कहा कि महिलाएं भारत के डेयरी क्षेत्र में 70 प्रतिशत कार्यबल का प्रतिनिधित्व करती हैं। एक तिहाई से अधिक डेयरी सहकारी समितियों की सदस्य भी महिलाएं ही हैं। साथ ही भारत में डेयरी सेक्टर की असली ताकत छोटे किसान है। इनकी मिसाल पूरी दुनिया में मिलना मुश्किल है।

146 से बढ़कर अब 210 मिलियन टन है भारत में दुग्ध उत्पादन

उन्होंने कहा कि महिलाएं भारत के डेयरी क्षेत्र की असली नेता हैं। वर्ष 2014 में भारत ने दूध का 146 मिलियन टन उत्पादन किया था। जो अब बढ़कर 210 मिलियन टन हो गया है। इसका मतलब है कि लगभग 44 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। आपको बता दें कि इंटरनेशनल डेयरी फेडरेशन वर्ल्ड डेयरी समिट-2022 ग्रेटर नोएडा के इंडिया एक्सपो मार्ट में आयोजित हो रहा है। इस दौरान पीएम मोदी ने इंडिया एक्सपो मार्ट में एक प्रदर्शनी का भी निरीक्षण किया।

डेयरी उद्योग को डिजीटल क्रांति से मिली मदद

पीएम मोदी ने यहां सभा को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में डिजिटल क्रांति डेयरी क्षेत्र तक पहुंच गई है। भारत के डेयरी क्षेत्र के लिए विकसित डिजिटल भुगतान प्रणाली दुनियाभर के किसानों की मदद कर सकती है। उन्होंने कहा कि भारत का डेयरी क्षेत्र बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए पहचाना जाता है। आज 8 करोड़ परिवारों को डेयरी क्षेत्र में रोजगार मिल रहा है और यह सब किसानों के छोटे-छोटे समूहों के कारण हुआ है।

2025 तक देश में 100% होगा पशुओं का होगा टीकाकरण

उन्होंने कहा कि कई राज्यों से हाल ही में एक बीमारी के कारण पशुधन को काफी नुकसान के बारे में जानकारी मिली है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार, राज्य सरकारों के साथ मिलकर इसे नियंत्रित करने की कोशिश कर रही है। हम पशुओं के टीकाकरण पर भी जोर दे रहे हैं। संकल्प लिया है कि 2025 तक हम 100 प्रतिशत पशुओं में फुट एंड माउथ डिजीज (एफएमडी) और ब्रुसेलोसिस के खिलाफ टीकाकरण करेंगे। इस दौरान केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने वर्ल्ड डायरी समिट-2022 को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में 48 साल बाद इसका आयोजन किया जा रहा है।

48 साल बाद देश में हुआ है विश्व डेयरी शिखर सम्मेलन

पुरुषोत्तम रूपाला ने कहा कि भारत में 48 वर्षों के बाद विश्व डेयरी शिखर सम्मेलन-2022 का आयोजन किया गया है। आज भारत में दूध उत्पादन 210 मिलियन टन है। हम ‘आत्मनिर्भर भारत’ के अनुरूप अतिरिक्त दूध निर्यात करने की स्थिति में हैं। आपको बता दें कि चार दिवसीय यह सम्मेलन डेयरी फॉर न्यूट्रिशन एंड लाइवलीहुड विषय पर केंद्रित है। यह उद्योग जगत के नेताओं, विशेषज्ञों, किसानों और नीति नियोजकों समेत वैश्विक और भारतीय डेयरी हितधारकों का एक समूह है।

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -