Saturday, November 26, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

Cash Limit for Home: घर में कैश रखने की लिमिट क्या है? जानें-टैक्स के नियम, कहीं फंस न जाएं!

Cash Limit for Home: ऐसी कई बार खबर आई कि सरकार घर पर कैश रखने की लिमिट तय कर रही है, लेकिन इसको सरकार द्वारा गलत दावा बताया गया। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि सरकार घर में रखे जा सकने वाले कैश की सीमा तय करेगी। यह सीमा 3 से 15 लाख रुपये के बीच होने का अनुमान लगाया गया था। हालांकि, सरकार ने इससे इनकार किया और कहा, ‘घर में कितनी नकदी रखी जा सकती है, इसकी कोई सीमा नहीं है।’

अभी पढ़ें EPFO Salary Increased Limit: बड़ी खबर! क्या ईपीएफओ की सैलरी लिमिट बढ़ा सकती है सरकार? वर्तमान में मिलते हैं 15,000 रुपये महीना

केवल इस बात का रखें ख्याल

विशेषज्ञों की राय थी कि भारत एक विकासशील अर्थव्यवस्था होने के कारण इसके लिए न्यूनतम सीमा निर्धारित करना कठिन होगा। बता दें कि आपके घर पर कैश रखने की कोई लिमिट नहीं है और न ही कोई नियम कि जिसके तहत आपको कैश रखना है। आप जितना चाहें उतना कैश घर में रख सकते हैं। बस एक ही नियम आपको याद होना चाहिए वो ये कि आपके पास एक-एक पाई का हिसाब होना चाहिए कि आपकी आय का स्रोत क्या है और आपने टैक्स चुकाया है या नहीं।

अभी पढ़ें Stock Market Opening: लगातार चौथे दिन शेयर बाजार में उछाल, Sensex और Nifty गुलजार

नगद लेनदेन

नकद लेन-देन पारंपरिक रूप से भारतीय अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और काले धन के संचय का एक निरंतर कारण है। सरकार ने काले धन से निपटने के लिए समय-समय पर नकद लेनदेन पर विभिन्न सीमाएं निर्धारित की हैं। इन सीमाओं से अधिक नकद भुगतान या प्राप्त करना भुगतान या प्राप्त राशि के 100 प्रतिशत तक के भारी जुर्माने से दंडनीय है।

भारत के आयकर कानून किसी भी कारण से 2 लाख रुपये से अधिक के नकद लेनदेन पर रोक लगाते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप एक ही लेन-देन में ₹ 3 लाख के सोने के आभूषण खरीद रहे हैं, तो आपको चेक, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या बैंक हस्तांतरण के माध्यम से भुगतान करना होगा।

अभी पढ़ें  बिजनेस से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -