Thursday, September 29, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

Elizabeth II Funeral: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होंगे ये देश

सैकड़ों विदेशी राजघरानों और नेताओं के सोमवार को लंदन में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के अंतिम संस्कार में शामिल होने की उम्मीद है।

नई दिल्ली: ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का अंतिम संस्कार सोमवार को भारतीय समयानुसार दोपहर 3.30 बजे से होगा। सैकड़ों विदेशी राजघरानों और नेताओं के सोमवार को लंदन में महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के अंतिम संस्कार में शामिल होने की उम्मीद है। यह दशकों की सबसे बड़ी राजनयिक सभाओं में से एक है।

बीबीसी और स्काई न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, वेस्टमिंस्टर एब्बे वेन्यू पर लगभग 2,000 लोगों के लिए जगह है। इस अवसर पर लगभग 500 राष्ट्राध्यक्षों और विदेशी गणमान्य व्यक्तियों और उनके सहयोगियों के आने की उम्मीद है। इसके अलावा राजकीय अंतिम संस्कार में रानी के परिवार के सदस्य, दरबारी, सार्वजनिक हस्तियां और यूके के राजनेता शामिल होंगे।

अभी पढ़ें इमाम हुसैन के बलिदान को याद करने पहुंचे लाखों श्रद्धालु, कर्बला में मनाई अरबीन

कई राजघरानों ने की पुष्टि
ब्रिटेन के सबसे लंबे समय तक शासन करने वाली महारानी के अंतिम संस्कार में यूरोप और उससे आगे के कई राजघरानों ने अपनी उपस्थिति की पुष्टि की है। जापान के सम्राट नारुहितो और महारानी मासाको 2019 में सिंहासन संभालने के बाद अपनी पहली विदेश यात्रा में शामिल होंगे। यह यात्रा जापानी परंपरा का प्रतीक है। शायद ही कभी जापानी सम्राट को अंत्येष्टि में शामिल होते देखा गया है। यूरोप के शाही परिवार सदियों से एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं, इसलिए महाद्वीप के कई सम्राट इस अवसर पर हिस्सा ले सकते हैं। डच किंग विलेम-अलेक्जेंडर, क्वीन मैक्सिमा और क्राउन प्रिंसेस बीट्रिक्स, बेल्जियम के फिलिप किंग, नॉर्वे के किंग हेराल्ड वी और मोनाको के प्रिंस अल्बर्ट II भी भाग लेंगे।

डेनमार्क की महारानी भी शामिल होंगी। डेनमार्क की रानी मार्ग्रेथ II यूरोप की सबसे लंबे समय तक राज्य की प्रमुख और महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की मृत्यु के बाद शासन करने वाली एकमात्र रानी हैं। उन्होंने चचेरी बहिनके सम्मान के प्रतीक के रूप में अपनी 50 वीं जयंती के अवसर पर कई कार्यक्रमों को रद्द कर दिया है। स्पेन के किंग फेलिप VI भी अपनी पत्नी लेटिजिया के साथ वहां मौजूद रहेंगे। सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस और शासक मोहम्मद बिन सलमान को आमंत्रित किया गया है। सऊदी एजेंटों द्वारा तुर्की में पत्रकार जमाल खशोगी की 2018 की हत्या पर आक्रोश के बावजूद रविवार शाम को वह ब्रिटिश प्रधान मंत्री लिज़ ट्रस के साथ बातचीत करने के लिए तैयार थे।

वैश्विक नेताओं में ये लेंगे हिस्सा

कहा जा रहा है कि यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की की पत्नी ओलेना इसमें शामिल होंगी। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और उनकी पत्नी जिल बाइडेन राजनयिक अतिथि सूची में शामिल हैं। उन्होंने शनिवार देर रात ब्रिटेन के लिए उड़ान भरी। बाइडेन को अपने बख्तरबंद लवाजमे लिमोसिन का उपयोग करने की अनुमति दी गई है, जिसे द बीस्ट के नाम से जाना जाता है।

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ब्रिटेन के साथ अटूट बंधन दिखाने और रानी को सम्मान देने के लिए एलिसी पैलेस में भाग लेंगे। ब्रिटिश अधिकारियों ने कहा कि वह उन नेताओं में भी हैं जिन्हें अपने स्वयं के परिवहन का उपयोग करने की अनुमति है।

तुर्की के रेसेप तईप एर्दोगन और ब्राजील के जायर बोल्सोनारो भी आ रहे हैं। चीन ने घोषणा की है कि वह ब्रिटेन सरकार के निमंत्रण पर अपने उपाध्यक्ष वांग किशन को भेजेगा। यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के ब्रेक्सिट के बावजूद यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन और यूरोपीय परिषद के प्रमुख चार्ल्स मिशेल भी जाएंगे। अंतिम संस्कार में अन्य राष्ट्राध्यक्षों में इटली के राष्ट्रपति सर्जियो मटेरेला, जर्मनी के फ्रैंक-वाल्टर स्टीनमीयर, इज़राइल के इसाक हर्ज़ोग और कोरिया के यूं सुक-योल शामिल होंगे। रानी को श्रद्धांजलि देने के लिए एक प्रतीकात्मक कदम में आयरिश प्रधान मंत्री माइकल मार्टिन मौजूद रहेंगे।

राष्ट्रमंडल देशों से ये नेता लेंगे हिस्सा
कई नेता उन देशों से भी पहुंचे हैं, जो अभी भी एलिजाबेथ द्वितीय को अपनी रानी के रूप में मानते हैं। इनमें कनाडा के प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो, ऑस्ट्रेलियाई प्रधान मंत्री एंथनी अल्बनीस और न्यूजीलैंड के प्रधान मंत्री जैसिंडा अर्डर्न शामिल हैं। राष्ट्रमंडल नेताओं में दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा, बांग्लादेशी प्रधान मंत्री शेख हसीना, श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे और फ़िजी के प्रधान मंत्री फ्रैंक बैनीमारामा शामिल हैं।

अभी पढ़ें पाकिस्तान गजब है! डैम के लिए 40 मिलियन डॉलर जुटाए, इसके विज्ञापन पर ही खर्च कर दिए 63 मिलियन डॉलर: रिपोर्ट

ये देश आमंत्रित नहीं
तनावपूर्ण संबंधों के कारण यूके ने कई देशों- ईरान, निकारागुआ और उत्तर कोरिया के राष्ट्राध्यक्षों को नहीं, बल्कि राजदूतों को आमंत्रित करने का विकल्प चुना है। रूस और बेलारूस उन राष्ट्रों के एक छोटे समूह में शामिल हैं जिन्हें यूक्रेन पर मास्को के आक्रमण के बाद पूरी तरह से बाहर रखा गया है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन प्रतिबंधों के कारण ब्रिटेन की यात्रा प्रतिबंध के तहत पहले ही कह चुके थे कि वह इसमें शामिल नहीं होंगे। रूस और बेलारूस के लंदन में दूतावास हैं और उनके राष्ट्रपतियों ने किंग चार्ल्स III को शोक संदेश भेजा है। बिना आमंत्रण वाले अन्य देश तालिबान शासित अफगानिस्तान, म्यांमार, सीरिया और वेनेजुएला हैं। पिछले साल तख्तापलट के बाद से म्यांमार और पूर्व औपनिवेशिक शासक ब्रिटेन के बीच संबंधों में खटास आ गई है।

अभी पढ़ें  दुनिया से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -