Wednesday, November 30, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

यूरिया की किल्लत से किसान परेशान, सीएम गहलोत ने केंद्र पर लगाया ये बड़ा आरोप 

Urea Fertilizer Shortage: प्रदेश के किसानों को इस बार यूरिया की कमी से दो-चार होना पड़ा रहा है। राज्य सरकार द्वारा केंद्र सरकार से यूरिया की मांग की जा रही है।

जयपुर: प्रदेश के किसानों को इस बार यूरिया की कमी से दो-चार होना पड़ा रहा है। राज्य सरकार द्वारा केंद्र सरकार से यूरिया की मांग की जा रही है। यूरिया को लेकर राज्य सरकार और केंद्र सरकार के बीच में अब ठन गई है। सीएम गहलोत ने केंद्र पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि प्रदेश को मांग के अनुरूप यूरिया और डीएपी खाद आपूर्ति नहीं की जा रही है।

केंद्र से कम यूरिया मिलने का आरोप 

सीएम गहलोत ने कहा कि राजस्थान में इस बार अच्छी बारिश हुई है जिससे रबी फसलों की बुआई अधिक एवं अग्रिम हुई है। राजस्थान को अक्टूबर माह में यूरिया की 4.50 लाख मैट्रिक टन स्वीकृत मांग के विरुद्ध 2.90 लाख मैट्रिक टन यूरिया की आपूर्ति ही केन्द्र सरकार ने की है। इसी प्रकार अक्टूबर में 2 लाख मैट्रिक टन डीएपी की स्वीकृत मांग के विरुद्ध 1.65 लाख मैट्रिक टन डीएपी की आपूर्ति केन्द्र सरकार द्वारा की गई।
आगे उन्होंने कहा कि नवंबर माह के लिए प्रदेश की 4.50 लाख मैट्रिक टन यूरिया की स्वीकृत मांग के विरुद्ध राजस्थान को केन्द्र सरकार द्वारा अभी केवल 2.31 लाख मैट्रिक टन यूरिया की आपूर्ति की गई है। 1.20 लाख मैट्रिक टन डीएपी की स्वीकृत मांग के विरुद्ध 61 हजार मैट्रिक टन डीएपी आपूर्ति ही भारत सरकार से हुई है।

भारत सरकार द्वारा आपूर्ति में कमी के कारण प्रदेश में खाद की कमी 

वहीं ये आरोप नहीं लगाया कि भारत सरकार द्वारा आपूर्ति में कमी के कारण प्रदेश में यूरिया एवं डीएपी की कमी हुई है। आशा करता हूं कि जल्दी ही भारत सरकार आवश्यकता के अनुरूप प्रदेश की यूरिया व डीएपी की सप्लाई बढ़ाएगी जिससे हमारे किसानों को परेशानी ना हो एवं उन्हें मांग के अनुसार यूरिया मिल सके।

कुछ दिन पहले खेल मंत्री ने भी लगाए थे ये आरोप 

बता दें कुछ दिन पहले खेल मंत्री अशोक चांदना ने भी बड़ा आरोप लगाते हुए कहा था कि केंद्र सरकार उन राज्यों में राजस्थान के हिस्से का यूरिया भेज रही है, जहां पर चुनाव होने जा रहे है। खेलमंत्री चांदना ने कहा कि राजस्थान बीजेपी के नेता और केंद्र में बने बैठे अपनी नाकामी को छिपाने के लिए बेवजह की बयानबाजी कर रहे हैं। किसानों को उकसाने का काम कर रहे हैं। चांदना ने कहा कि राज्य सरकार ने केंद्र से 5 लाख मैट्रिक टन की डिमांड की थी। जिसमें से राजस्थान को अब तक 1 लाख 21 हजार मैट्रिक टन ही यूरिया मिला है।

ओम बिरला ने उर्वरक मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक की 

इधर लोकसभा अध्यक्ष और कोटा से सांसद ओम बिरला ने राजस्थान में यूरिया संकट को लेकर मंगलवार को दिल्ली में रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक की है। संसद भवन परिसर में हुई बैठक में बिरला ने मंत्रालय के अधिकारियों से कहा कि राजस्थान भर के किसान रबी सीजन के लिए यूरिया की मांग कर रहे हैं, लेकिन उन्हें उनकी जरूरत के मुताबिक नहीं मिल रहा है।

अब मिलेगी प्रतिदिन यूरिया की आठ रेक 

उन्होंने कहा कि राजस्थान में यूरिया की कमी नहीं होनी चाहिए। राज्य में आपूर्ति बढ़ाने की तत्काल जरूरत है, ताकि किसान यूरिया के लिए परेशान न हों। चर्चा के बाद मंत्रालय के अधिकारियों ने बिरला को आश्वासन दिया कि अब यूरिया की आठ रेक प्रतिदिन राजस्थान भेजी जाएंगी। अधिकारी यह भी सुनिश्चित करेंगे कि यूरिया राज्य के हर हिस्से में पहुंचे। मंत्रालय के अधिकारी भी नियमित रूप से राजस्थान में यूरिया की आवश्यकता की समीक्षा करेंगे, ताकि मांग के अनुरूप आपूर्ति सुचारु रहे।

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -