Friday, 23 February, 2024

---विज्ञापन---

मांदर की ताल पर झूमे छत्तीसगढ़ CM विष्णुदेव साय, आदिवासियों के साथ नाचते-गाते और ढोलक बजाते देखें वीडियो

Chhattisgarh CM Vishnudev Sai Dance Video: वीडियो में सीएम विष्णुदेव साय को आदिवासियों के साथ डांस करते हुए देखा जा सकता है।

Edited By : Pooja Mishra | Updated: Feb 11, 2024 11:48
Share :
Chhattisgarh CM Vishnudev Sai Dance Video
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय का डांस वीडियो

Chhattisgarh CM Vishnudev Sai Dance Video: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही विष्णुदेव साय प्रदेश के लोगों के लिए हितकारी काम कर रहे हैं। इसके अलावा सीएम विष्णुदेव साय खुद कई बार सरकारी कामों और दफ्तरों को निरीक्षण करते रहते हैं। इसके इतर कई बार उन्हें राज्य के आज लोगों के साथ उनकी खुशी में शामिल होते हुए भी देखा गया है। हाल ही एक बार फिर से सीएम विष्णुदेव साय को आम लोगों के साथ मिल कर जश्न का लुत्फ उठाते हुए और सेलिब्रेट करते हुए देखा गया है। इस सेलिब्रेशन की कुछ वीडियो भी सामने आया हैं जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।

मांदर की ताल पर झूमे सीएम साय

दरअसल मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय पिछली रात आदिवासी लोक नृत्य प्रोग्राम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे। इस कार्यक्रम में मांदर की थाप, आकर्षक वेशभूषा और आदिवासी लोक नृतकों की हार्मोनी देख मुख्यमंत्री विष्णु देव साय खुद को रोक नहीं पाए और अपने गृहग्राम बगिया में कर्मा दलों के आग्रह करने पर उनके साथ शामिल हो गए। यहां मुख्यमंत्री ने उन लोगों के साथ मिलकर लोक नृत्य किया, उन्हें देखने बाद पता चला की वह एक मंझे लोक कलाकार हैं, क्योंकि डांस के साथ-साथ मुख्यमंत्री यहां ढोलक बजाते हुए दिखाई दिए। सीएम विष्णुदेव साय के मन में आदिवासी संस्कृति के प्रति आदर भाव और सम्मान देख कर जनमानस को सुखद अनुभूति हो रही थी।

यह भी पढ़ें: Chhattisgarh: सीएम विष्णु देव साय ने की अजिंक्य रहाणे से मुलाकात, सुनाया बचपन का दिलचस्प किस्सा

आदिवासी समाज का कर्मा नृत्य

बता दें कि जशपुर अंचल समेत पूरे छत्तीसगढ़ में कर्मा नृत्य काफी प्रसिद्ध है। यह आदिवासी समाज का सबसे प्रमुख नृत्य है। बता दें कि कर्मा नृत्य नई फसल आने की खुशी में किया जाता है। जानकारी के अनुसार, भादो मास की एकादशी को व्रत रखने के बाद कर्मवृक्ष की डाल को घर के आंगन में रोपित किया जाता है। इसके बाद दूसरे दिन उस डाल को देवता को नवान्न समर्पित किया जाता है, इसके बाद ही उसका उपभोग शुरू होता है।

First published on: Feb 11, 2024 11:37 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें