Wednesday, 21 February, 2024

---विज्ञापन---

National Games 2022: मनरेगा मजदूर ने पैदल चाल में बनाया नेशनल रिकॉर्ड, जानें उनके संघर्ष की कहानी

National Games 2022: कहते हैं इंसान का हौसला बढ़ा हो तो परिस्थितियां उसे मजबूर नहीं कर सकती। इंसान अगर ठान ले तो वो क्या कुछ हासिल कर सकता है। इसका सीधा उदाहरण अहमदाबाद में खेले जा रहे नेशनल गेम्स में देखने को मिला जहां पर एक मनरेगा मजदूर राम बाबू ने पुरुषों की 35 किमी […]

Edited By : Siddharth Sharma | Updated: Oct 6, 2022 11:09
Share :
National Games 2022 Ram Babu
National Games 2022 Ram Babu

National Games 2022: कहते हैं इंसान का हौसला बढ़ा हो तो परिस्थितियां उसे मजबूर नहीं कर सकती। इंसान अगर ठान ले तो वो क्या कुछ हासिल कर सकता है। इसका सीधा उदाहरण अहमदाबाद में खेले जा रहे नेशनल गेम्स में देखने को मिला जहां पर एक मनरेगा मजदूर राम बाबू ने पुरुषों की 35 किमी पैदल चाल में राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाकर स्वर्ण पदक जीत लिया। राम बाबू ने दो घंटे 36 मिनट और 34 सेकेंड के समय के साथ खिताब जीता। उनकी कहानी बेहद रोचक है और संघर्ष से भरी हुई है।

अभी पढ़ें AUS vs WI: Odean Smith ने हेजलवुड की गेंद पर ठोका 108 मीटर लंबा पावरफुल छक्का, देखें वीडियो

लॉकडाउन के कारण करना पड़ा मजदूरी का काम

राम बाबू उत्तरप्रदेश के सोनभद्र के रहने वाले हैं। उन्होंने 2012 में ओलंपिक देखने के बाद दौड़ की प्रेक्टिस शुरू की थी। तैयारी के लिए और घर की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के चलते वे वाराणसी काम करने चले गए थे। वाराणसी में उन्होंने वेटर का काम किया। नौकरी के साथ साथ उन्हें दौड़ की भी प्रेक्टिस करनी थी इसके लिए वे सुबह जल्दी उठ जाते थे और प्रेक्टिस करने के बाद फिर से काम पर लौट जाते थे।

2018 में एक छोटे हादसे के बाद उन्होंने रेस वॉकिंग में चले गए और धीरे-धीरे राष्ट्रीय स्तर तक पहुंचे। महामारी ने हालांकि उनके वर्षों के प्रयास को तोड़कर रख दिया। लॉकडाउन के दौरान कई लोगों की तरह उनके पिता भी आर्थिक रूप से संघर्ष करने लगे। राम बाबू तब सरकार की मनरेगा योजना के तहत अपने पिता के साथ शारीरिक श्रम में शामिल हो गए जिससे उन्हें प्रतिदिन 300 रुपये की मजदूरी मिली। मनरेगा का काम करने के साथ ही वे अपनी ट्रेनिंग भी करते रहें।

अभी पढ़ें विजयादशमी के दिन अजिंक्य रहाणे के घर आया नन्हा मेहमान, दूसरी बार बने पिता

ओलंपिक में जाने का है सपना

राम बाबू इस जीत के बाद बेहद खुश हैं और उनका सपना है कि वे पेरिस में होने वाले ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करें। राम बाबू इसके अलावा सेना में भी शामिल होना चाहते हैं और उसकी भी तैयारी में जुट गए हैं। अब इस मेडल को जीतने के बाद उनके संघर्ष को हर कोई सलाम कर रहा है।

अभी पढ़ें  खेल से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

First published on: Oct 05, 2022 02:46 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें