Wednesday, 21 February, 2024

---विज्ञापन---

‘हमें गुरिल्ला युद्ध लड़ना है…’, बांग्लादेश के कोच चंडिका हथुरुसिंघा ने दिया बड़ा बयान

नई दिल्ली: चंडिका हथुरुसिंघा एक बार फिर बांग्लादेश की कोचिंग के लिए लौट आए हैं। पिछली बार उनका कार्यकाल थोड़ा विवादास्पद रहा था। करीब 9 साल पहले 2014 में अपने पहले कार्यकाल के दौरान हथुरुसिंघा ने शाकिब अल हसन के दुर्व्यवहार के बारे में बीसीबी अध्यक्ष नजमुल हसन से शिकायत की थी। जिसके बाद ऑलराउंडर […]

Edited By : Pushpendra Sharma | Updated: Feb 22, 2023 21:29
Share :
Chandika Hathurusingha
Chandika Hathurusingha

नई दिल्ली: चंडिका हथुरुसिंघा एक बार फिर बांग्लादेश की कोचिंग के लिए लौट आए हैं। पिछली बार उनका कार्यकाल थोड़ा विवादास्पद रहा था। करीब 9 साल पहले 2014 में अपने पहले कार्यकाल के दौरान हथुरुसिंघा ने शाकिब अल हसन के दुर्व्यवहार के बारे में बीसीबी अध्यक्ष नजमुल हसन से शिकायत की थी। जिसके बाद ऑलराउंडर को छह महीने के लिए बैन कर दिया गया। उस समय यह भी कहा गया कि हाथुरूसिंघा चाहते थे कि 2017 के श्रीलंका दौरे के दौरान महमूदुल्लाह को बाहर कर दिया जाए। उन पर मशरफे मुर्तजा को 2017 में टी20ई से रिटायर होने के लिए दबाव डालने का भी आरोप है।

मेरे और सीनियर खिलाड़ियों के बीच कोई टेंशन नहीं

हालांकि मुख्य कोच ने स्पष्ट किया है कि उनके और टीम के वरिष्ठ खिलाड़ियों के बीच कोई टेंशन नहीं है। अतीत में भी उनके लिए यह कभी चुनौती नहीं रही। हाथुरूसिंघा ने अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, “मेरे साथ किसी भी खिलाड़ी के साथ कोई तनाव नहीं है।” “मैं वास्तव में इस राइवलरी का आनंद लेता हूं। जब मैं बांग्लादेश को कोचिंग दे रहा था तो मैंने खिलाड़ियों को किसी भी विरोध का सामना और बहुत जुनून के साथ खेलना सिखाया। मुझे निदास ट्रॉफी और उसके बाद एशिया कप में खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर गर्व था।”

और पढ़िए – 41 साल के शोएब मलिक कब लेंगे संन्यास? क्रिकेटर ने दिया बड़ा बयान

सीनियर खिलाड़ियों के साथ काम करना चुनौती नहीं

मुझे नहीं लगता कि सीनियर खिलाड़ियों के साथ काम करना कोई चुनौती होगी। मैंने सभी सीनियर खिलाड़ियों से बात की है। हर किसी का ध्यान एक चीज पर है: टीम नंबर 1 है। हर कोई चाहता है कि टीम अच्छा करे। अपने अंतिम समय में भी मुझे किसी भी खिलाड़ी के साथ चुनौतियों का सामना नहीं करना पड़ा।”

सिस्टम को स्थापित करने में मदद करना चाहता हूं

उन्होंने आगे कहा- “जब मैं इस नौकरी को लेने के बारे में सोच रहा था, तो मेरे दिमाग में बड़ी तस्वीर थी। मुझे स्थानीय कोचों को विकसित करने में काफी संभावनाएं दिख रही हैं। मैं सिस्टम को स्थापित करने में मदद करना चाहता हूं।”
हाथुरूसिंघा ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की चल रही घरेलू श्रृंखला में घरेलू लाभ का उदाहरण दिया। उन्होंने यह भी बताया कि बांग्लादेश इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में कठिन परिस्थितियों का सामना कैसे करता है।

और पढ़िए – IPL 2023: MS धोनी की टीम को बड़ा झटका, बड़े मैचों में नहीं दिखेगा CSK का यह दिग्गज खिलाड़ी

हमें गुरिल्ला युद्ध लड़ना है

उन्होंने कहा- घरेलू लाभ क्या है? जब हम न्यूजीलैंड जाते हैं तो हमें किस तरह का विकेट मिलता है? जब हम वहां जाते हैं तो ऑस्ट्रेलिया या इंग्लैंड क्या करते हैं? भारत घर पर क्या कर रहा है? हम विदेशों में जो कुछ है उससे निपटने की कोशिश करेंगे। अगर हमारे पास मिसाइलें नहीं हैं तो आप कैसे लड़ेंगे? हमें गुरिल्ला युद्ध लड़ना है। हम छोटी बंदूकों से उनका मुकाबला नहीं कर सकते। अगर हमारे पास गोला-बारूद नहीं है, तो हम ऐसा नहीं कर सकते।

हम अपने खिलाड़ियों को विकसित कर सकते हैं

चंडिका ने आगे कहा- “इसलिए हम अपने खिलाड़ियों को विकसित कर सकते हैं। बांग्लादेश के खिलाड़ियों ने दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड में अच्छा प्रदर्शन किया। जब मैं यहां था तब एबादत हुसैन और नजमुल हुसैन शांतो युवा खिलाड़ी के रूप में न्यूजीलैंड गए थे वे अब अच्छा कर रहे हैं। इसमें समय लगता है। हमें घरेलू लाभ लेने की जरूरत है। हर देश ऐसा कर रहा है।” हाथुरूसिंघा ने कहा- “मैं किसी दिन वापस आना चाहता था, लेकिन फिर टी 20 विश्व कप के दौरान जब मैं राष्ट्रपति और कुछ अधिकारियों से मिला, तो हमने कुछ चीजों पर चर्चा की। मुझे लगा कि यह वनडे वर्ल्ड कप के साथ आने का सही समय है।” जैसे ही बिग बैश समाप्त हुआ, मैंने आने का फैसला किया।

और पढ़िए – खेल से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

First published on: Feb 22, 2023 08:06 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें