Thursday, 22 February, 2024

---विज्ञापन---

जेम्स एंडरसन को पछाड़ रविचंद्रन अश्विन बन सकते हैं नंबर-1 टेस्ट बॉलर, जानिए पूरे समीकरण

James Anderson vs Ravichandran Ashwin: इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ताजा ICC टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन टेस्ट बॉलर बन गए हैं। जबकि टीम इंडिया के स्टॉर स्पिनर रविचंद्रन अश्विन दूसरे स्थान पर हैं। खास बात यह है कि अश्विन के पास एंडरसन को पीछे छोड़ने का पूरा मौका है। हालांकि यह इतना आसान […]

Edited By : Arpit Pandey | Updated: Feb 23, 2023 11:58
Share :
ashwin can become number one test bowler by leaving james anderson (1)
ashwin can become number one test bowler by leaving james anderson (1)

James Anderson vs Ravichandran Ashwin: इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ताजा ICC टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन टेस्ट बॉलर बन गए हैं। जबकि टीम इंडिया के स्टॉर स्पिनर रविचंद्रन अश्विन दूसरे स्थान पर हैं। खास बात यह है कि अश्विन के पास एंडरसन को पीछे छोड़ने का पूरा मौका है। हालांकि यह इतना आसान नहीं है। लेकिन कुछ समीकरण ऐसे बन रहे हैं, जिनकी वजह से रविचंद्रन अश्विन ऐसा कर सकते हैं। जिसके बारे में हम आपको बताते हैं।

एंडरसन-अश्विन में केवल 2 अंकों का फासला

आईसीसी की ताजा रैंकिंग में इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन 866 अंकों के साथ पहले स्थान पर हैं, जबकि टीम इंडिया के आर अश्विन 864 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर हैं। दोनों खिलाड़ियों के बीच नंबर वन की पॉजिशन में महज 2 अंकों का फासला है।

खास बात यह है कि 15 फरवरी को जारी आईसीसी की रैंकिंग में जेम्स एंडरसन 835 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर थे, जबकि 846 अंकों के साथ अश्विन दूसरे स्थान पर थे। जबकि पैट कमिंस 867 अंकों के साथ पहले स्थान पर थे। लेकिन 22 फरवरी को जारी रैंकिंग में यह फासला घटकर केवल 2 अंकों का बचा है।

और पढ़िए –‘वह मुझे फोन करता और पूछता, सर मुझे कब मौका मिलेगा?’ स्टार गेंदबाज को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

एंडरसन को मिली नंबर-1 की पॉजिशन

जेम्स एंडरसन और रवि अश्विन का प्रदर्शन बीते टेस्ट मैचों में शानदार रहा है। लेकिन अश्विन से एंडरसन थोड़ा आगे निकल गए। इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच खेले गए टेस्ट में एंडरसन ने शानदार बॉलिंग करते हुए दोनों पारियों में 7 विकेट निकाले, जबकि उन्होंने रन केवल 54 ही खर्च किए। ऐसे में उन्हें इस प्रदर्शन का फायदा मिला।

वहीं आर अश्विन ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टेस्ट में 6 विकेट निकाले, जबकि उन्होंने 116 रन खर्च किए, ऐसे में इस मामले में एंडरसन भारी पड़े जिससे उन्हें ज्यादा अंक मिले और वह नंबर वन की पॉजिशन पर पहुंचे। लेकिन फासला दोनों खिलाड़ियों के बीच महज 2 अंकों का ही है।

अश्विन के पास इसलिए बन रहा मौका

इस वक्त इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच टेस्ट सीरीज चल रही है, जबकि इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट सीरीज खेली जा रही है। दो टेस्ट मैचों की सीरीज में इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के बीच एक मैच हो चुका है, जबकि दूसरा मैच 23 से 28 फरवरी तक खेल जाएगा। जिसमें एंडरसन हिस्सा लेंगे।

और पढ़िए –James Anderson: जिसकी डेब्यू शर्ट पर नहीं था कोई नंबर, आज बन गया दुनिया का No.1 बॉलर

वहीं भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच दो मैच हो चुके हैं, जबकि दो मैच होने हैं। दोनों टीमों के बीच तीसरा मुकाबला 1 मार्च से 5 मार्च तक इंदौर में खेला जाएगा। इस हिसाब से अश्विन के पास एंडरसन से एक मैच ज्यादा खेलने का मौका बनेगा। ऐसे में अगर अश्विन शानदार प्रदर्शन रहा, तो वह नंबर वन की पॉजिशन पर पहुंच सकते हैं। इस बात की संभावनाएं हैं।

कैसे निकाली जाती है ICC की रैंकिंग

क्रिकेट ऐसा एक मापदंड तैयार किया गया है, जिसके तहत खिलाड़ियों की रैंकिंग को मापा जाता है। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल की ओर से तय किये जाने वाले इस मापदंड को आईसीसी रैंकिंग्स के नाम से जाना जाता है।

ICC प्लेयर रैंकिंग अंक आधारित प्रणाली का उपयोग करके रैंक देती है, जिसमें खिलाड़ियों को 0 से 1000 अंकों के पैमाने पर रेट किया जाता है, यदि किसी खिलाड़ी का प्रदर्शन उसके पिछले प्रदर्शन से बेहतर रहता है, तो उसके अंक बढ़ जाते हैं। अगर उनके प्रदर्शन में गिरावट आती है, तो उसके अंक कम हो जाते हैं।

यह एक स्वचलित प्रक्रिया है

ICC प्लेयर रैंकिंग एक मैच में विभिन्न परिस्थितियों के दौरान खिलाड़ी के प्रदर्शन के आधार पर प्रत्येक खिलाड़ी के प्रदर्शन की गणना पहले से तय एक एल्गोरिथ्म के आधार पर की जाती है। यह एल्गोरिथ्म अपनी गणना में इस बात का भी ध्यान रखती है कि किसी खिलाड़ी ने मैच की किस परिस्थिति में कितने रन बनाये या कितने विकेट लिए थे। यदि खिलाड़ी ने अपनी टीम के गहरे संकट से निकाला हो, तो उसके प्रदर्शन की वैल्यू अधिक मानी जाती है। जबकि, परिस्थिति के हिसाब से मैच खेला तो उसे सामान्य अंक मिलते हैं।

इस गणना प्रक्रिया में कोई भी मानव हस्तक्षेप बिल्कुल नहीं होता है, यह स्वचलित प्रक्रिया होती है। यानि जो खिलाड़ी जैसा प्रदर्शन करेगा उसे वैसा ही फायदा मिलता है।

और पढ़िए – खेल से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

First published on: Feb 22, 2023 06:09 PM
संबंधित खबरें