Friday, 23 February, 2024

---विज्ञापन---

करोड़ों-अरबों सूर्यों के बराबर होता है एक ब्लैकहोल, उनके सामने हमारी पृथ्वी तो सूई की नोक बराबर भी नहीं

Space News Hindi: हम जिस पृथ्वी पर रहते हैं, वह इस अनंत, अथाह और रहस्यमयी ब्रह्मांड का एक कण मात्र भी नहीं है। इस पूरी सृष्टि में न केवल पृथ्वी वरन हमारे सूर्य से भी अरबों-खरबों गुणा बड़ी संरचनाएं हैं जिनकी कल्पना करना भी असंभव है। दुनिया भर के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने मौजूदा तकनीक के […]

Edited By : Sunil Sharma | Updated: May 10, 2023 15:48
Share :
Space news, space news hindi, nasa, nasa news hindi, black hole

Space News Hindi: हम जिस पृथ्वी पर रहते हैं, वह इस अनंत, अथाह और रहस्यमयी ब्रह्मांड का एक कण मात्र भी नहीं है। इस पूरी सृष्टि में न केवल पृथ्वी वरन हमारे सूर्य से भी अरबों-खरबों गुणा बड़ी संरचनाएं हैं जिनकी कल्पना करना भी असंभव है। दुनिया भर के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने मौजूदा तकनीक के सहारे इस ब्रह्मांड को जानने और समझने की जितनी कोशिश की हैं, उससे भी काफी कुछ बातें सामने आई हैं।

स्पेस वैज्ञानिकों के अनुसार ब्रह्मांड में किसी भी गैलेक्सी में सबसे बड़ी और सबसे शक्तिशाली चीज ब्लैक होल होता है। इसका गुरुत्वाकर्षण बल इतना अधिक होता है कि रोशनी भी इसके गुरुत्वाकर्षण बल से बाहर नहीं जा सकती। इस वजह से यह दिखाई नहीं देता। एक सामान्य ब्लैक होल हमारे सूर्य से कई गुणा बड़ा हो सकता है या फिर इतना बड़ा भी हो सकता है कि उसमें हमारे सूर्य जैसे अरबों सूरज समा जाएं।

यह भी पढ़ें: आसमान में होगी उल्कापिंडों की बारिश, बरसेंगे आग के गोले, दिखेगी रोशनी से बनी ट्रेन

ये हैं ब्रह्मांड के कुछ सबसे बड़े ब्लैक होल्स (Space News Hindi)

उदाहरण के लिए हम हमारी आकाशगंगा के सुपरसाइज़्ड ब्लैक होल, सैजिटेरियस A* को ले सकते हैं। इस अकेले ब्लैक होल में हमारे सूर्य जैसे 43 लाख सूरज समा सकते हैं। यह पृथ्वी से लगभग 26,000 प्रकाश वर्ष दूर है। इसी तरह NGC 7727 आकाशगंगा में भी दो महाकाय ब्लैक होल हैं। ये दोनों एक-दूसरे से करीब 1,600 प्रकाश-वर्ष की दूरी पर हैं। इनमें से एक का वजन 6 मिलियन सौर द्रव्यमान (60 लाख सूर्यों के बराबर) और दूसरे का 150 मिलियन से अधिक सौर द्रव्यमान (1.5 करोड सूर्यों के बराबर वजन वाला) है। खगोलविदों के अनुसार ये दोनों अगले 250 मिलियन वर्षों में मिलकर एक अतिविशाल ब्लैक होल बनाएंगे जिसमें करोड़ों सूर्य समा सकेंगे। आपको बता दें कि पूरे ब्रह्मांड में ऐसे अनगिनत ब्लैक होल हैं।

वैज्ञानिकों ने अब तक दर्जनों ऐसे ब्लैक होल ढूंढे हैं जो पूरे सौरमंडल से भी कई गुणा बड़े हैं। मैरीलैंड के ग्रीनबेल्ट में नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर के एक सिद्धांतकार, जेरेमी श्निटमैन ने कहा, “हबल स्पेस टेलीस्कोप की मदद से किए गए प्रत्यक्ष माप, 100 से अधिक सुपरमैसिव ब्लैक होल की उपस्थिति की पुष्टि करते हैं।” NASA ने इन ब्लैकहोल्स की विशालकायता को दर्शाने के लिए एक एनीमेशन फिल्म का निर्माण किया है। इस फिल्म में हमारे सूर्य और सौरमंडल की अलग-अलग साइज के ब्लैक होल्स से तुलना की गई है। नासा ने एनिमेशन वीडियो को अपने ट्विटर अकाउंट से भी शेयर किया है।

यह भी पढ़ें: Land of Immortals: पृथ्वी पर है एक ऐसी जगह, जहां इंसान जीते हैं हजारों साल!

इस एनीमेशन के सबसे आखिर में जिस ब्लैक होल को दर्शाया गया है, वह M87 आकाशगंगा के केन्द्र में मौजूद है। इसका कुल वजन 5.4 बिलियन सौर द्रव्यमान (540 करोड़ सूर्यों के बराबर) है। इस ब्लैक होल की छाया ही इतनी बड़ी है कि 670 मिलियन मील प्रति घंटे (1 बिलियन किलोमीटर प्रति घंटे) की गति से चलने वाली प्रकाश की किरण को भी इसे पार करने में लगभग ढाई दिन लगेंगे।

First published on: May 06, 2023 06:13 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें