Coronavirus Lockdown: मुश्किल की इस घड़ी में रेडियो बना सूचना और मनोरंजन का प्रमुख साधन, जीता लोगों का भरोसा

नई दिल्ली: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus) यानी कोविड 19 (Covid 19) लगातार अपना कहर बरपा रहा है। दुनियाभर की आधी आबादी घरों में बंद है। भारत में भी यही आलम है। कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए भारत में भी 24 मार्च से लॉकडाउन जारी है। लोग अपने-अपने घरों में बंद होकर टीबी और रेडियो पर देश दुनिया का हाल जानकर हालात सुधरने का इंतजार कर रहे हैं।

दरअसल रेडियो हर अच्छे और बुरे वक्त में आम लोगों का भरोसेमंद साथी रहा है। यह संचार का एक ऐसा माध्यम है जिसकी पहुंच गांवों से लेकर मेट्रो शहर तक यानी पूरे भारत में है। लॉकडाउन के दौरान हुए एक सर्वे से पता चला है कि इस दौरान देश के 6 मेट्रो शहरों के 82 फीसदी लोगों ने विश्वसनीय जानकारी के लिए FM रेडियो का सहारा लिया, जबकि रेडियो सुनने का उनका समय बढ़कर 2.36 घंटे प्रतिदिन हो गया है।

एजेड (AZ) रिसर्च एलएलपी (LLP) की ओर से 3300 लोगों के बीच किए गए सर्वे में पता चला कि  के कोरोना के बढ़ते खतरे के इस मुश्किल दौर में रेडियो विश्वसनीय जानकारियों के लिए दूसरा सबसे बड़ा साधन रहा है।

रेडियो का क्रेडिबिलिटी स्कोर 6.27 रहा जो इंटरनेट (6.44) से कुछ ही कम और टीवी (5.74) से अधिक है। सर्वे मुंबई, दिल्ली, बेंगलुरु, कोलकाता, पुणे और हैदारबाद में किया गया।

दरअसल देशभर में रेडियो इंडस्ट्री का श्रोतावर्ग 5.1 करोड़ लोगों का है, जोकि टीवी के 5.6 करोड़ के दर्शकवर्ग और सोशल मीडिया रीच (5.7 करोड़) के करीब है।

रिसर्च में यह भी सामने आया कि रेडियो के श्रोताओं में 22 फीसदी की तेजी आई और 64 फीसदी से बढ़कर यह 82 फीसदी तक पहुंच गया।

लॉकडाउन में लोगों के रेडियो सुनने के समय में 23 फीसदी का उछाल आया है और औसतन वे 2.36 घंटे प्रतिदिन इसके साथ बिता रहे हैं, इससे आगे बस टीवी है।

असोसिएशन ऑफ रेडियो ऑपरेटर्स फॉर इंडिया (AROI) की प्रमुख अनुराधा प्रसाद ने कहा, ‘यह बहुत उत्साहजनक है कि रेडियो इन्फोटेनमेंट के लिए सबसे लोकप्रिय और विश्वसनीय माध्यम बन रहा है। श्रोता-दर्शक की संख्या के मामले में हम टीवी के करीब हैं। रेडियो सुनने के प्रति व्यक्ति समय में 23 फीसदी की वृद्धि शानदार है। हम अपने श्रोताओं के प्रति कृतज्ञ हैं और इस मीडिया को नई ऊंचाई पाने में मदद के लिए उत्सुक हैं।’

रेडियो एंड एंटरटेनमेंट, एचटी मीडिया लिमिटेड एंड नेक्स्ट मीडियावर्क्स लिमिडेट के सीईओ हर्षद जैन ने कहा, ‘दुनिया में कोविड-19 महामारी फैलने के बाद मनोरंजन के माध्यमों की भूमिका और अहम हो गई है। रेडियो एक महत्वपूर्ण माध्यम है और इसके पास दोहरी जिम्मेदारी है कि ना सिर्फ श्रोताओं को मनोरंजन मिले बल्कि देश के लोगों तक सही जानकारी की पहुंच सुनिश्चित करनी होती है। ऐसे समय में हमारे माध्यम की ताकत और प्रभाव कई गुणा बढ़ जाती है। दैनिक मनोरजंन की जरूरत और विश्वसनीय जानकारियों से अपडेट रहने के लिए लोग पहले से अधिक रेडियो सुन रहे हैं। पूरा देश लॉकडाउन में है, रेडियो का श्रोतावर्ग घरों शिफ्ट हो चुका है। कोरोना वायरस के खिलाफ इस जंग को सफलतापूर्वक जीतने के लिए इस मुश्किल घड़ी में रेडियो इंडस्ट्री साथ खड़ा है।’

Share