---विज्ञापन---

गुलामी की एक और पहचान का अंत, पीएम मोदी बोले- कर्तव्य पथ केवल ईंट-पत्थरों का रास्ता नहीं

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शाम 7 बजे ‘कर्तव्य पथ’ पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा का अनावरण कर दिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने प्रतिमा का अनावरण करने के बाद नेताजी सुभाष की प्रतिमा को पुष्पांजलि दी। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा 28 फीट की है। इस मौके पर पीएम ने कहा […]

Edited By : Gyanendra Sharma | Updated: Sep 8, 2022 20:52
Share :

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शाम 7 बजे ‘कर्तव्य पथ’ पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा का अनावरण कर दिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने प्रतिमा का अनावरण करने के बाद नेताजी सुभाष की प्रतिमा को पुष्पांजलि दी। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा 28 फीट की है।

इस मौके पर पीएम ने कहा कि सभी देशवासी इस समय इस कार्यक्रम से जुड़े हुए हैं। मैं इस ऐतिहासिक क्षण के साक्षी बन रहे सभी देशवासियों का अभिनंदन करता हूं। आज हम गुजरे कल को छोड़कर नई तस्वीर में रंग भर रहे हैं। ये जो आभा दिख रही है, वो नए भारत के विश्वास का प्रतीक है। आज से गुलामी का इतिहास हमेशा के लिए मिट गया है। गुलामी की एक पहचान से मुक्ति के लिए मैं सभी देश वासियों को बधाई देता हूं। इंडिया गेट पर आजादी के नायक नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति का भी उद्घाटन हुआ है।

कर्तव्य पथ केवल ईंट-पत्थरों का रास्ता नहीं
पीएम मोदी बोले- कर्तव्य पथ केवल ईंट-पत्थरों का रास्ता भर नहीं है। ये भारत के लोकतांत्रिक अतीत और सर्वकालिक आदर्शों का जीवंत मार्ग है। अगर पथ ही राजपथ हो, तो यात्रा लोकमुखी कैसे होगी? राजपथ ब्रिटिश राज के लिए था, जिनके लिए भारत के लोग गुलाम थे। राजपथ की भावना भी गुलामी का प्रतीक थी, उसकी संरचना भी गुलामी का प्रतीक थी। आज इसका आर्किटेक्चर भी बदला है, और इसकी आत्मा भी बदली है। पीएम मोदी ने कहा कि आज देश अंग्रेजों के जमाने से चले आ रहे सैकड़ों कानूनों को बदल चुका है. भारतीय बजट, जो इतने दशकों से ब्रिटिश संसद के समय का अनुसरण कर रहा था, उसका समय और तारीख भी बदली गई है. राष्ट्रीय शिक्षा नीति के जरिए अब विदेशी भाषा की मजबूरी से भी देश के युवाओं को आजाद किया जा रहा है.

बता दें कि एक दिन पहले ही नई दिल्ली म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ने राजपथ का नाम बदलकर ‘कर्तव्य पथ’ करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। राजपथ राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक का रास्ता है, जिसकी लंबाई 3:20 किलोमीटर है।

‘कर्तव्य पथ’ अब नए रंग रूप में दिखेगा। कर्तव्य पथ के आसपास लाल ग्रेनाइट से करीब 15।5 किमी का वॉकवे बना है। बगल में करीब 19 एकड़ में नहर भी है। इस पर 16 पुल बनाए गए हैं। इंडिया गेट के दोनों तरफ नई शॉप बनी हैं, जिनमें अलग-अलग राज्यों के फूड स्टॉल होंगे। टूरिस्ट पहले की तरह अब लॉन में बैठकर घर से लाया खाना नहीं खा सकेंगे। इसके अलावा वेंडर भी खास जोन में ही स्टॉल लगा सकेंगे। पैदल यात्रियों के लिए नए अंडरपास बनाए गए हैं। शाम को इस इलाके को जगमगाने के लिए आधुनिक लाइट्स का भी इस्तेमाल किया गया है। शुक्रवार से आम लोग भी इसे देख सकेंगे। दो नई पार्किंग में 1100 से ज्यादा गाड़ियां पार्क की जा सकेंगीं। निगरानी के लिए 300 से ज्यादा CCTV कैमरे लगाए गए हैं।

 

First published on: Sep 08, 2022 08:52 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें