Thursday, 22 February, 2024

---विज्ञापन---

Rent Agreement Rules: मकान मालिक बनना आसान नहीं! रेंट एग्रीमेंट करते समय इन बातों का ध्यान रखें

Rent Agreement Rules: मकान मालिक बनना या रेंट एग्रीमेंट करना आसान नहीं है। एग्रीमेंट तैयार करते समय हमें कुछ बातें ध्यान में रखनी होती हैं। कुछ गलतियां ऐसी हो जाती है, जिनसे हमें बचना होता है। आपको अपनी जगह को बिजनेस जैसे व्यवसाय की तरह देखना चाहिए और सब कुछ व्यवस्थित करना होगा। क्योंकि अगर […]

Edited By : Nitin Arora | Updated: Aug 1, 2023 13:57
Share :
rent agreement

Rent Agreement Rules: मकान मालिक बनना या रेंट एग्रीमेंट करना आसान नहीं है। एग्रीमेंट तैयार करते समय हमें कुछ बातें ध्यान में रखनी होती हैं। कुछ गलतियां ऐसी हो जाती है, जिनसे हमें बचना होता है। आपको अपनी जगह को बिजनेस जैसे व्यवसाय की तरह देखना चाहिए और सब कुछ व्यवस्थित करना होगा। क्योंकि अगर कुछ भी गलत हुआ तो मकान मालिक ही जिम्मेदार होगा। इसलिए, आपको कुछ महत्वपूर्ण पॉइंट्स पर नजर डालनी चाहिए।

रेंड एग्रीमेंट करते समय इन बातों पर गौर करें

संभावित किरायेदार की जांच करें

हमेशा संभावित किरायेदार के बैकग्राउंड के बारे में जानें और उनकी जानकारी की जांच करें। यह कुछ ऐसा है जो आपको अपनी सुरक्षा के लिए अनिवार्य रूप से करना होगा।

मरम्मत की लागत पर गौर करें

यह महत्वपूर्ण है कि आप संपत्ति को मेंटेन करें और जो कुछ भी खराब है उसकी मरम्मत कराएं। उस स्थिति में, हमेशा संभावित लागत के बारे में सचेत रहें।

यह कोई शौक नहीं

किसी संपत्ति को किराये पर देना कभी भी शौक नहीं होता। यह एक उचित बिजनेस है और आपको इसे पेशेवर तरीके से अपनाना होगा।

 

और पढ़िए –आज से लागू हुआ नया नियम, इन व्यापारियों पर पड़ेगा असर

 

पट्टे की अवधि

किराये के समझौते में हमेशा पट्टे की अवधि निर्दिष्ट करें और वहां कोई भी गलती मकान मालिक के लिए परेशानी का सबब बन सकती है।

टर्मिनेशन और नोटिस

किराये का एग्रीमेंट तैयार करते समय, हमेशा टर्मिनेशन क्लॉज और नोटिस अवधि निर्दिष्ट करें। इससे आगे आने वाली परेशानियां कुछ आसान हो जाएंगी।

लॉक-इन क्लॉज

किराये के समझौते में लॉक-इन क्लॉज का उल्लेख करना महत्वपूर्ण है जिसमें कहा गया है कि किरायेदार एक विशिष्ट अवधि से पहले संपत्ति नहीं छोड़ सकता है। यदि किरायेदार छोड़ देता है, तो व्यक्ति को लॉक-इन अवधि के दौरान किराए का भुगतान करना होगा।

पेमेंट

किराये के एग्रीमेंट में किराए की राशि, बाद की वेतन वृद्धि, भुगतान समय और कैसे पेमेंट करेंगे, इस बारे में स्प्ष्ट रूप से जानकारी ले लें।

डिफ़ॉल्ट क्लॉज

यदि किरायेदार समय पर किराया नहीं चुका पाता है तो एग्रीमेंट में जुर्माना और अन्य बातों का स्पष्ट उल्लेख होना चाहिए।

और पढ़िए – आंकड़ा आते ही झूम उठे केंद्रीय कर्मचारी, सैलरी में आएगी बड़ी उछाल!

First published on: Jul 31, 2023 12:23 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें