---विज्ञापन---

शनि की तिरछी नजर से 2025 तक इन राशियों को रहना होगा सावधान, वरना हो सकता है बड़ा नुकसान

Shani sade sati and dhaiya: वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या इस समय 5 राशियों पर चल रही हैं। बता दें कि साल 2024 ही नहीं बल्कि 2025 तक कुछ राशियों पर शनि की तिरछी नजर रहने वाली है। आइए उन राशियों के बारे में जानते हैं।

Edited By : Raghvendra Tiwari | Updated: Mar 9, 2024 10:22
Share :
Shani sade sati

Shani sade sati and dhaiya: वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनि देव को कलयुग के जज यानी न्यायधीश का दर्जा दिया गया है। इसलिए शनिदेव को कर्मफल दाता और न्याय के देवता माना जाता है। कहा जाता है कि जब किसी जातक की कुंडली में साढ़ेसाती और ढैय्या लग जाती है तो यह शुभ नहीं मानी जाती है। उन लोगों को हर समय कष्ट झेलना पड़ता है। ज्योतिषियों के अनुसार, शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या हर किसी को नुकसान नहीं पहुंचाती है। मान्यता है कि जिन लोगों की कुंडली में शनि देव शुभ अवस्था में होते हैं तो उन्हें शुभ फल प्रदान करते हैं। साथ ही उस राशि के लोगों की किस्मत भी बदल देते हैं।

ज्योतिषियों के अनुसार, शनि देव वर्तमान समय में कुंभ राशि में अस्त अवस्था में गोचर कर रहे हैं। साथ ही इसी महीने में शनि देव उदय भी होंगे। वहीं शनि देव साल 2025 के जून माह में मीन राशि में प्रवेश करेंगे। साल 2025 के जून महीने के बाद कुछ राशियों को थोड़ी राहत मिल सकती है। साथ ही कुछ राशियों पर बुरा प्रभाव भी शुरू हो जाएगा। आज इस खबर में जानेंगे आखिर शनि की बुरी नजर से किन-किन राशियों को सावधान रहना होगा। साथ ही शनि के प्रकोप से बचने के उपाय क्या-क्या है।

इन राशियों पर रहेगी शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या का प्रभाव

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, साल 2024 में शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव मकर, कुंभ और मीन राशि के लोगों पर हैं। साथ ही शनि का ढैय्या का प्रभाव कर्क और वृश्चिक राशि पर हैं। बता दें कि जब शनि देव साल 2025 के जून में मीन राशि में गोचर करेंगे तो मकर राशि वाले लोगों को साढ़ेसाती साती से मुक्ति मिलेगी। लेकिन मेष राशि के लोगों पर साढ़ेसाती शुरू भी हो जाएगी।

शनि के प्रकोप से बचने के उपाय

वैदिक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनि देव के बुरे प्रभाव से बचने के लिए प्रतिदिन भागवत गीता का पाठ करना चाहिए।

जो लोग शनिवार के दिन हनुमान जी, भगवान शिव और शनि महाराज की विधि-विधान से पूजा करते हैं उन्हें शनि के साढ़ेसाती और ढैय्या से मुक्ति मिलती है।

शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या से मुक्ति पाने के लिए प्रतिदिन हनुमान चालीसा, शिव चालीसा और शनि चालीसा का पाठ करें।

शनि देव की कृपा पाना चाहते हैं तो बूढ़े बुजुर्ग  और नौकरों के साथ कभी भी गलत व्यवहार न करें। ऐसा करने से शनिदेव नाराज हो जाते हैं।

शनि देव की कृपा पाने के लिए गरीबों की मदद करें साथ ही उन्हें भोजन जरूर कराएं।

यह भी पढ़ें- आज शनि और बुध कर चुके हैं नक्षत्र परिवर्तन, इन 3 राशियों के जीवन में होगी हलचल

यह भी पढ़ें- अंग्रेजी के पहले नाम के अक्षर से जान सकते हैं अपनी राशि, जानें प्रत्येक राशि का स्वभाव और स्वामी ग्रह

यह भी पढ़ें- तीन दिन बाद भगवान शिव इन 3 राशियों पर होंगे मेहरबान, मंगल देव बनाएंगे धनवान

डिस्क्लेमर: यहां दी गई जानकारी ज्योतिष शास्त्र पर आधारित है और केवल जानकारी के लिए दी जा रही है। News24  इसकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी उपाय को करने से पहले संबंधित विषय पर सलाह लें।

First published on: Mar 09, 2024 10:22 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें