Thursday, July 9, 2020

ये हैं वो 6 वैक्सीन जो करेंगी कोरोना का पक्‍का इलाज

जिस रफ़्तार से वैज्ञानिक कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने के लिए रिसर्च कर रहे हैं, वो असाधारण है। मेडिकल साइंस की दुनिया में पहली बार ऐसा हुआ जब एकसाथ सौ से ज़्यादा वैक्सीन पर काम चल रहा है, लेकिन 6 वैक्सीन ऐसी हैं, जो कोरोना वायरस का सबसे पक्का इलाज हो सकती हैं।

नई दिल्‍ली: दुनिया भर में साढ़े तीन लाख से ज़्यादा लोगों की जान लेने वाले कोरोना वायरस को रोकना इस सदी की सबसे बड़ी चुनौती है। अबतक भले ही कोरोना वायरस की वैक्सीन नहीं मिली, लेकिन ये जानकर आपको हौसला मिलेगा कि पहली बार सारी दुनिया बहुत तेज़ी के साथ किसी वायरस की वैक्सीन बनाने में जुटी है। जिस रफ़्तार से वैज्ञानिक कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने के लिए रिसर्च कर रहे हैं, वो असाधारण है। मेडिकल साइंस की दुनिया में पहली बार ऐसा हुआ जब एकसाथ सौ से ज़्यादा वैक्सीन पर काम चल रहा है, लेकिन 6 वैक्सीन ऐसी हैं, जो कोरोना वायरस का सबसे पक्का इलाज हो सकती हैं।

इबोला वायरस की वैक्सीन बनकर विकसित होने में 16 साल का वक़्त लगा। आमतौर पर वैक्सीन बनने में 10 से 15 साल का समय लग जाता है, लेकिन कोविड-19 वायरस अब तक के सभी वायरस से बिल्कुल अलग है और बहुत तेज़ी से फैल रहा है। ठीक उसी तरह वैज्ञानिकों ने भी वैक्सीन बनाने की रफ्तार को सैकड़ों गुना बढ़ा दिया है। कोविड-19 वायरस को ख़त्म करने के लिए दुनिया में 6 वैक्सीन ने बहुत उम्मीदें जगाई हैं।

वैक्सीन नंबर 1: mRNA-1273
सारी दुनिया को ये जानकर राहत मिलेगी कि सिर्फ़ तीन महीने में कोविड-19 की वैक्सीन पर काम करने वाली 90 रिसर्च टीमें एक अहम मुक़ाम पर पहुंच गई हैं। 90 रिसर्च टीमों ने 6 वैक्सीन को एक बड़े लक्ष्य तक पहुंचा दिया है।

  • मॉडर्ना थेराप्युटिक्स एक अमेरिकी बॉयोटेक्नॉलॉजी कंपनी है
  • ये कंपनी कोविड-19 की वैक्सीन के लिए नई रिसर्च कर रही है
  • ये ऐसी वैक्सीन बना रही है जो प्रतिरोधक क्षमता को ट्रेनिंग देगी
  • यानी ये कोरोना से लड़ने के लिए शरीर में ट्रेनर का काम करेगी
  • इसमें जीवित लेकिन कमज़ोर और निष्क्रिय विषाणुओं का इस्तेमाल होगा
  • ये वैक्सीन मैसेंजर RNA या मैसेंजर राइबोन्यूक्लिक एसिड पर आधारित है
  • इसके लिए लैब में कोरोना वायरस का जेनेटिक कोड तैयार किया गया है
  • फिर वैक्सीन और वायरस का छोटा सा हिस्सा शरीर में इंजेक्ट किया जाएगा
  • इसके बाद वैक्सीन संक्रमण से लड़ने के लिए प्रतिक्रिया करेगी
  • इससे इम्यून सिस्टम तेज़ी से वायरस को ख़त्म करने लगेगा

वैक्सीन नंबर 2: INO-4800
अमेरिका की एक और कंपनी है, जो बिल्कुल अलग तरह से काम करने वाली वैक्सीन तैयार कर रही है।

  • INO-4800 वैक्सीन अमेरिकी कंपनी तैयार कर रही है
  • ये ऐसी वैक्सीन होगी, जो मरीज़ की कोशिकाओं में इंजेक्ट होगी
  • ये वैक्सीन शरीर में एक छोटी आनुवंशिक संरचना जैसी होगी
  • वैक्सीन को DNA की तरह विकसित करके उसे इंजेक्ट किया जाएगा
  • वैक्सीन का DNA मरीज़ के शरीर में एंटीबॉडीज़ का निर्माण शुरू करेगा
  • ये बिल्कुल नई तकनीक होगी, जिसमें वैक्सीन अपना DNA बदल सकेगा

वैक्सीन 3: AD5-nCoV
ख़ास बात ये है कि अब तक जिन वैक्सीन पर काम चल रहा है, वो बदले हुए दौर की सबसे उच्च तकनीक के ज़रिए तैयार हो रही हैं।

  • चीन एक ऐसी वैक्सीन बना रहा है, जो संदेशवाहक बनेगी
  • इसमें एडेनोवायरस के एक ख़ास वर्ज़न का इस्तेमाल होगा
  • वायरस के समूह को एडेनोवायरस कहा जाता है
  • एडेनोवायरस में मौजूद विषाणु वेक्टर मौजूद होते हैं
  • ये वेक्टर प्रतिरोधक क्षमता को नुकसान पहुंचाते हैं
  • वैक्सीन के तहत ऐसा वेक्टर तैयार होगा, जो मैसेंजर बनेगा
  • वेक्टर का संदेश पाते ही प्रतिरोधक क्षमता सक्रिय हो जाएगी
  • वेक्टर उस प्रोटीन को सक्रिय कर देते हैं जो संक्रमण से लड़ते हैं

कोविड-19 वायरस जितनी तेज़ी से फैलता है और शरीर के जितने भी अंगों पर असर डालता है, तो वैक्सीन भी ऐसी बन रही है, जो उससे कई गुना तेज़ी से असर कर सके और शरीर के संक्रमित अंगों को बचा सके। इसके अलावा कोरोना की वैक्सीन ऐसी होगी, जो कोविड-19 वायरस के हर लक्षण को फौरन समझ सके और शरीर को उससे लड़ने के लिए अलर्ट कर सके।

वैक्सीन नंबर 4: LV-SMENP-DC
जिस चीन पर कोरोना वायरस फैलाने का आरोप लग रहा है, अब वो वैक्सीन की रेस में काफ़ी आगे है। वो एक एडवांस तरह की वैक्सीन बना रहा है।

  • चीन के शेंज़ेन जीनोइम्यून मेडिकल इंस्टीट्यूट में ट्रायल चल रहा है
  • ये वैक्सीन एड्स के लिए ज़िम्मेदार लेंटीवायरस से तैयार की गई है
  • इस वैक्सीन में प्रतिरोधक क्षमता को सक्रिय करने वाली कोशिकाएं हैं
  • लेकिन, इस वैक्सीन को एड्स की दवा से ज़्यादा प्रभावी बनाने की कोशिश है

वैक्सीन नंबर 5: निष्क्रिय वायरस
चीन के वुहान को कोरोना वायरस का सेंटर माना जाता है। सबसे पहले कोरोना का संक्रमण यहीं फैला था और माना जाता है कि सारी दुनिया में कोरोना फैलाने के लिए ये शहर और यहां की वेट मार्केट ज़िम्मेदार है, जहां दुनिया भर के जंगली जानवर, कीट-पतंगे और चमगादड़ समेत कई विषैले जीव-जंतू ख़रीदे और खाए जाते हैं।

  • चीन के वुहान में एक अलग तरह की वैक्सीन बन रही है
  • वुहान वाली वैक्सीन निष्क्रिय वायरस से बनाई जा रही है
  • ये वुहान बॉयोलॉजिकल प्रोडक्ट्स इंस्टीट्यूट में तैयार हो रही है
  • इस वैक्सीन के लिए निष्क्रिय वायरस में कुछ बदलाव हो रहे हैं
  • ऐसे बदलाव जिससे वायरस किसी को बीमार करने की क्षमता खो देते हैं
  • निष्क्रिय वायरस हमारे शरीर में चुपचाप पड़े रहते हैं
  • जब कोविड-19 का हमला होगा, तो निष्क्रिय वायरस सक्रिय हो जाएंगे
  • निष्क्रिय वायरस अपनी फैमिली के वायरस को निष्क्रिय कर देते हैं

वैक्सीन- 6: ChAdOx1
वैक्सीन तैयार करने की सबसे सामान्य तकनीक ये होती है कि वायरस के जेनेटिक कोड को पहचान लिया जाए और फिर वैसे ही जेनेटिक कोड को पहचानने वाली दवा बनाई जाए ताकि जब भी वायरस का हमला हो, तो वैक्सीन अपना असर दिखाना शुरू कर दे। हालांकि, ये एक लंबी प्रक्रिया है, जिसमें कई साल का वक्त लग जाता है। फिर भी मौजूदा हालात में बहुत तेज़ी से काम चल रहा है।

  • ब्रिटेन की ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी में ये वैक्सीन बन रही है
  • ऑक्सफोर्ड में ChAdOx1 वैक्सीन का विकास किया रहा है
  • 23 अप्रैल को यूरोप में इसका पहला क्लीनिकल ट्रायल हुआ था
  • इसके लिए लैब में वायरस तैयार हो रहे हैं, जो नुकसानदेह नहीं हैं
  • ऐसे वायरस को प्राथमिक ट्रायल के लिए इस्तेमाल किया जाता है
  • ट्रायल में पहले वायरस के सबसे कमज़ोर स्वरूप का इस्मेताल होता है
  • ताकि जिस पर ट्रायल हो रहा है, उसे वायरस नुकसान ना पहुंचा सके
  • वायरस को ऐसा बनाया जा रहा है, ताकि वो अपना विकास ना कर सके
  • वैक्सीन में मौजूद वायरस की सतह पर प्रोटीन प्लांट किया जाता है
  • ताकि कोरोना का हमला होते ही प्रोटीन इम्यून सिस्टम को सक्रिय कर दे

दुनिया में जिन 6 वैक्सीन पर काम चल रहा है, उनके अलावा भारत में भी वैक्सीन बनाने का काम जारी है। लेकिन ब्रिटेन और चीन फिलहाल इस रेस में सबसे आगे हैं। फिर भी सबसे असरदार वैक्सीन बनकर इस्तेमाल के लिए तैयार होने में कई महीने लग सकते हैं, क्योंकि दुनिया में तब तक कोरोना संक्रमित का आंकड़ा करोड़ों लोगों तक पहुंच सकता है। ऐसे में कई करोड़ वैक्सीन की ज़रूरत होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 7 लाख 67 हजार के पार, अबतक 21000 से ज्यादा लोगों की जा चुकी है जान

नई दिल्ली: चीनी वायरस कोरोना (Coronavirus) यानी कोविड 19 (Covid 19) के संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए देश में 24 मार्च से...

BIG BREAKING: विकास दुबे उज्‍जैन में गिरफ्तार

नई दिल्‍ली: कानुपर के बिकरू गांव से 8 पुलिसकर्मियों की हत्‍या के बार फरार विकास दुबे को उज्‍जैन में गिरफ्तार कर लिया गया है।...

रेलवे में निजीकरण के आरोप पर बचाव में आये रेल मंत्री, कहा- इससे रोजगार के मौके और यात्री सुविधा बढ़ेगी

कुन्दन सिंह, नई दिल्ली: रेल मंत्रालय के द्वारा 109 रूट्स पर 151 प्राइवेट ट्रेन चलाए के निर्णय से उठे निजीकरण के सवाल के जवाब...

एक दूल्हे ने दो दुल्हनों से की शादी, दोनों हैं प्रेमिका

बैतूल: बैतुल जिले की घोडाडोंगरी ब्लॉक में केरिया गांव में युवक ने एक मंडप में अपनी दो प्रेमिकाओं के साथ सात फेरे लिये। इस...