Monday, November 28, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

भारत-चीन बॉर्डर से बड़ी खबर, लड़ाकू विमानों के संचालन के लिए लैंडिंग ग्राउंड बनेगा

वायु सेना की विरोधियों द्वारा किसी भी दुस्साहस से तेजी से निपटने की क्षमता मजबूत होगी।

नई दिल्ली: चीन द्वारा अपनी ओर से नए सैन्य बुनियादी ढांचे के निर्माण की खबरों के बीच भारतीय सेना के अधिकारियों ने गुरुवार को बड़ी खबर जानकारी दी है। सैन्य अधिकारियों के मुताबिक भारत जल्द ही पूर्वी लद्दाख में एलएसी से 50 किलोमीटर से कम दूरी पर लड़ाकू विमानों के संचालन के लिए अपने न्योमा उन्नत लैंडिंग ग्राउंड के उन्नयन के लिए निर्माण कार्य शुरू करने जा रहा है।

अभी पढ़ें रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन बोले, अमेरिका ने डॉलर को हथियार बना किया बदनाम

 

 

सैन्य अधिकारियों के मुताबिक एएलजी को जल्द ही लड़ाकू विमान संचालन के लिए अपग्रेड किया जा रहा है क्योंकि अधिकांश आवश्यक मंजूरी और अनुमोदन पहले ही आ चुके हैं। योजना के अनुसार नए हवाई क्षेत्र और सैन्य बुनियादी ढांचे का निर्माण सीमा सड़क संगठन द्वारा किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार इस क्षेत्र से लड़ाकू विमानों के संचालन की क्षमता से वायु सेना की विरोधियों द्वारा किसी भी दुस्साहस से तेजी से निपटने की क्षमता मजबूत होगी।

अभी पढ़ें ट्विटर के नए मालिक बने एलन मस्क, CEO पराग अग्रवाल को कंपनी से निकाला

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक आगे सैन्य अधिकाउन्होंने कहा कि क्षेत्र में केंद्र सरकार द्वारा मंजूरी मिलने के बाद पूर्वी लद्दाख सेक्टर में निर्माण कार्य का उद्घाटन जल्द ही शुरू होने की उम्मीद है। भारत पूर्वी लद्दाख में दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ), फुकचे और न्योमा सहित हवाई क्षेत्रों के विकास के लिए कई विकल्पों पर विचार कर रहा है, जो चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से कुछ ही मिनटों की दूरी पर हैं।

अभी पढ़ें  दुनिया से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -