Wednesday, 24 April, 2024

---विज्ञापन---

World’s most expensive beer: दुनिया की सबसे महंगी बीयर 4.05 करोड़ रुपए में बिकी, क्वालिटी नहीं ये है खासियत

World’s most expensive beer: कई शराब पीने वाले और न पीने वाले यह गलत धारणा रखते हैं कि शराब और शैम्पेन ही महंगे लक्जरी पेय हैं। हालांकि, यह दावा पूरी तरह से गलत है। यह सच है कि कुछ बियर किसी विशेष विंटेज या प्रसिद्ध वाइन से अधिक महंगी हो सकती हैं। एक प्रीमियम बीयर […]

Edited By : Nitin Arora | Updated: Nov 14, 2022 13:06
Share :

World’s most expensive beer: कई शराब पीने वाले और न पीने वाले यह गलत धारणा रखते हैं कि शराब और शैम्पेन ही महंगे लक्जरी पेय हैं। हालांकि, यह दावा पूरी तरह से गलत है। यह सच है कि कुछ बियर किसी विशेष विंटेज या प्रसिद्ध वाइन से अधिक महंगी हो सकती हैं। एक प्रीमियम बीयर मार्केट भी है। वहीं, एक बार एक बोतल के लिए 503,300 डॉलर का चौंका देने वाला भुगतान किया गया था, जिससे यह अब तक की सबसे महंगी बीयर बन गई।

दुनिया की सबसे महंगी बीयर The Allsopp की ‘Allsopp’s Arctic Ale’ की बोतल है जो 140 साल से अधिक पुरानी है। भले ही इस बीयर में कुछ अलग तरह के गुण जरूर हैं, लेकिन इसकी ऊंची कीमत की वजह गुणवत्ता या विशेषता बिल्कुल नहीं है। इसके पीछे की वजह इससे जुड़ी एक ऐतिहासिक और भयानक कहानी है।

Antiques ट्रेड के अनुसार, Oklahoma के एक ग्राहक ने 2007 में eBay पर Allsopp के आर्कटिक एले की एक बोतल के लिए $304 का भुगतान किया। यह तब था जब अनमोल बियर की कहानी शुरू हुई। मैसाचुसेट्स के एक रिटेलर ने इसकी डिलीवरी के लिए $19.95 का शुल्क लिया।

सर्दी में भी नहीं जमेगी

Antikstradegazette.com के अनुसार, बोतल के साथ एक पुराना किस्सा है। इससे जुड़ी एक ऐतिहासिक घटना है, जो 1852 में घटी थी। बोतल पर एक पुराना और हाथ से लिखा एक लैमिनेटेड नोट था, जिसपर पर्सी जी बोल्स्टर के हस्ताक्षर थे। उसमें लिखा था कि उन्हें यह बोतल 1919 में मिली थी। वहीं, विशेषता की बात करें तो यह इस मकसद से तैयार की गई थी कि यह जमा देने वाली सर्दी में भी जमने ना पाए।

इसके अतिरिक्त, पत्र के अनुसार बियर को विशेष रूप से 1852 में एक ध्रुवीय यात्रा के लिए उत्पादित किया गया था। खरीदार को तुरंत एहसास हुआ कि बीयर सप्लाई कैश का एक घटक था जिसे सर एडवर्ड बेल्चर ने 1852 में सर जॉन फ्रैंकलिन और उनके चालक दल की खोज के दौरान आर्कटिक में लाया था। नॉर्थवेस्ट मार्ग, जो आर्कटिक सागर के रास्ते अटलांटिक और प्रशांत महासागरों को जोड़ता है, कहा जाता है कि परंपरा के अनुसार, दो जहाजों के लिए विनाशकारी यात्रा का दृश्य रहा है।

दोनों जहाजों एचएमएस एरेबस और एचएमएस टेरर यात्रा पर निकले तो थे, लेकिन वापस कभी डॉक तक नहीं लौटे। बताया गया कि नाविकों को जहाज को खाली छोड़ना पड़ गया था। दुर्भाग्य से दो क्रू सदस्यों के बारे में कभी कोई जानकारी नहीं मिली। यह बीयर की बोतल उसी राहत अभियान के दौरान मिला जो एरेबस और टेरर और उनके क्रू को खोजने के अभियान पर निकला था। बता दें कि यह एक ऐसी बीयर है, जिसमें अल्कोहल की मात्रा 10 प्रतिशत के करीब रखी गई है।

First published on: Nov 14, 2022 01:06 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें