Thursday, September 29, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

Rampur News: पुलिस ने पकड़े दो जुआरी, मिली ऐसी टिप कि जौहर विश्वविद्यालय के कर्मचारियों में मच गया हड़कंप, जानें पूरा मामला

आजम खान के ट्रस्ट की ओर से संचालित जौहर विवि से चोरी की 7000 किताबें बरामद हुई हैं। आजम के बेटे के दो दोस्तों की जुआ खेलते हुए गिरफ्तारी के बाद खुलासा हुआ है।

Rampur News: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के पूर्व कैबिनेट मंत्री और समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान (Azam Khan) के स्वामित्व वाले ट्रस्ट की ओर से संचालित मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय (Mohammad Ali Jauhar University) से चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। रामपुर पुलिस (Rampur Police) का दावा है कि आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम खान (Abdulla Azam Khan) के दो दोस्तों से पूछताछ के बाद जौहर विश्वविद्यालय के मेडिकल कॉलेज की इमारत में से मदरसा आलिया से चोरी हुआ फर्नीचर और 7000 किताबें बरामद की गई हैं। आलिया मदरसा की प्रधानाचार्य आलिया जुबैर अहमद खान ने भी इनकी पहचान भी कर ली है।

मदरसा से चोरी हुई थीं 10000 किताबें व फर्नीचर

रामपुर पुलिस ने बताया कि विधायक अब्दुल्ला आजम खान के दो करीबी सलीम और अनवर को चार दिन पहले जुआ खेलने के आरोप में गिरफ्तार किया था। पूछताछ के दौरान सलीम और अनवर ने विश्वविद्यालय परिसर में चोरी करके छिपाए विभिन्न सामानों का खुलासा किया। पहले दिन जौहर विश्वविद्यालय परिसर से रामपुर नगर पालिका की एक कीमती सफाई मशीन बरामद हुई। पुलिस ने कैंपस भवन में लिफ्ट के लिए बने शाफ्ट में छिपी कीमती किताबें बरामद कीं हैं। बता दें कि मदरसा आलिया पुस्तकालय से किताबें चोरी होने का वर्ष 2019 में मुकदमा दर्ज कराया गया था। मदरसा आलिया पुस्तकालय की स्थापना वर्ष 1774 में रामपुर के नवाब द्वारा की गई थी। तब इसे राजकीय ओरिएंटल कॉलेज के रूप में भी जाना जाता है।

दोनों की निशानदेही पर बरामद हुईं 7000 किताबें

रामपुर पुलिस ने बताया कि वर्ष 2019 में चोरी का मामला दर्ज किया गया था। किताबें चुराने के आरोपी सात लोगों को जेल भेजा गया था। उनके पास से करीब 2500 किताबें बरामद की गईं थीं। सलीम और अनवर से पूछताछ के बाद पुलिस को विश्वविद्यालय के लिफ्ट शाफ्ट में छिपी हुई 7,000 और किताबें मिलीं हैं। पुलिस ने यह भी कहा कि सलीम और अनवर ने कबूल किया कि विश्वविद्यालय प्रशासन के निर्देश पर किताबें चुराई गईं थीं और विश्वविद्यालय में छिपा दी गईं। रामपुर पुलिस ने कहा कि उस समय विश्वविद्यालय में कार्यरत सभी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, जिन्होंने अपराध को अंजाम दिया।

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -