Wednesday, July 8, 2020

लद्दाख में भारत के ‘LCA तेजस’ को देखते ही उलटे पैर वापस भागे चीन के फाइटर जेट

चीन एक तरफ शांति और स्थिरता की बातें करता है तो दूसरी ओर अपने लड़ाकू जहाजों को भारतीय सीमा पर भेजता है। गनीमत तो यह है कि आसमान में भारत का तेजस और सुखोई 30एमकेयू इसी फिराक में रहते हैं कि चीनी जहाज गलती करें तो उसका भुगतान उसी वक्त उन्हें किया जाये, लेकिन चाईनीज जेट तेजस और सुखोई 30एमकेयू को देखते ही भाग खड़े हुए।

नई दिल्ली। एक तरफ चीन के विदेश मंत्रालय ने लद्दाख में एक बार स्थिति स्थिर और नियंत्रण में होने का दावा किया तो वहीं चीन के फाइटर जेट्स ने एक बार फिर भारतीय सीमा की ओर झांकने की कोशिश लेकिन आसमान में तैनात इंडियन एयरफोर्स के ‘तेजस’ और सुखोई 30एमकेआई को देखते ही वापस भाग खड़े हुए। दरअसल, ताजाा विवाद के दौरान चीन ने होतान और गरग्यूंसा में जे-11 और जे-17 फाइटर जेट तैनात कर रखे हैं। जो समय-समय पर सीमा पर गश्त के बहाने भारत की ओर झांकने की नाकाम कोशिश करते रहते हैं। भारत होतान और गरग्यूंसा पर उसी वक्त से निगाह रखे हुए है जब पाकिस्तानकी एयरफोर्स ने चाईनीज एयरफोर्स के साथ शाहीन नाम का संयुक्त युद्धाभ्यास किया था।

आसमान में तेजस के तेज से डर कर भागे चीन ने एक बार फिर बातचीत के जरिए लद्दाख सीमा विवाद सुलझाने की बात कही है। हालांकि सीमा पर उसके सैनिकों का जमावड़ा पहले की ही तरह लगा हुआ है। चीन ने सोमवार को कहा कि भारत के साथ सीमा पर समग्र स्थिति स्थिर और नियंत्रणीय है। इसके अलावा दोनों देशों के पास बातचीत और परामर्श के जरिए मुद्दों को हल करने के लिए बहुत सारे संचार माध्यम उपलब्ध हैं। यह टिप्पणी चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजान ने की है।

यह टिप्पणी ऐसे समय पर की गई है जब दोनों देशों की सेनाओं के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर झड़प की खबरें सामने आई हैं। झाओ ने कहा कि चीन दोनों देशों के नेताओं के बीच सहमति को लागू करता रहा है। हम अपनी राष्ट्रीय संप्रभुता, सुरक्षा के साथ-साथ सीमा पर स्थिरता बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि भारत सीमा मुद्दे पर अपनी गरिमा को नुकसान नहीं पहुंचने देगा। इसके बारे में सवाल पूछे जाने पर झाओ ने कहा, ‘अब हमारे सीमा क्षेत्रों में समग्र स्थिति स्थिर और नियंत्रणीय है। हमारे पास बहुत सारे संचार चैनल हैं और हमें आशा और विश्वास है कि बातचीत और परामर्शों के माध्यम से हम संबंधित मुद्दे को ठीक से हल कर सकते हैं।’

ऑनलाइन मीडिया ब्रीफिंग के दौरान भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा था, ‘हम शांति से इस मुद्दे को हल करने के लिए चीनी पक्ष के साथ चर्चा कर रहे हैं। दोनों पक्षों ने सैन्य और राजनयिक दोनों स्तरों पर ऐसे तंत्र स्थापित किए हैं जो बातचीत के माध्यम से सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति  स्थापित कर सकते हैं।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कोरोना के बाद इंडिया से बाहर इंडिया का अद्भुत कारनामा, चीन और पाकिस्तान कर रहे स्यापा

नई दिल्ली। यूरोपियन यूनियन हो या फिर यूनाईटेड नेशंस हर तरफ भारत का बोलवाला है। अमेरिका, ब्रिटेन हो फिर रूस हर कोई भारत से...

नेपाल में उठा सियासी तूफान, चालबाज चीन ने राष्ट्रपति भवन को भी जाल में फंसाया

नई दिल्ली। चालबाज चीन ने नेपाल के राष्ट्रपति भवन को भी अपने जाल में फंसा लिया है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग चाहते हैं...

सपना चौधरी ने इस गाने पर डांस से जीता फैंस का दिल, पागल हो गए लोग, देखें वीडियो

नई दिल्लीः हरियाणवी सिंगर (Haryanvi Dancer) और डांसर सपना चौधरी (Sapna Chaudhary) की पहचान किसी बॉलीवुड सिलेब्स से कम नहीं है। वो जब मंच...

लॉकडाउन में बुक कराए गये टिकटों का रिफंड नहीं दे रहीं एयरलाइंस, सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

नई दिल्ली। कोरोना लॉकडाउन के दौरान बुक किए गये हवाई टिकटों की वापसी में एयर लाइन हीलाहवाली कर रही हैं। यात्रियों पर जबरन क्रेडिट...