---विज्ञापन---

राम मंदिर उद्घाटन के दिन छुट्टी को लेकर विवाद, चार छात्रों ने बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाकर क्या कहा?

महाराष्ट्र में राम मंदिर उद्घाटन के दिन 22 जनवरी को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की गई है। इसके खिलाफ कानून के चार छात्रों ने बॉम्बे हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल की है।

Edited By : Achyut Kumar | Updated: Jan 21, 2024 00:11
Share :
4 students move Bombay High Court against holiday in maharashtra on january 22
महाराष्ट्र में 22 जनवरी को सार्वजनिक अवकाश के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका

Ram Mandir Inauguration Ayodhya Pran Paratishtha Ceremony:  अयोध्या के श्री राम जन्मभूमि मंदिर में 22 जनवरी को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर महाराष्ट्र सरकार ने छुट्टी की घोषणा की थी, जिस पर विवाद पैदा हो गया है। चार छात्रों ने इसके खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। छात्रों की याचिका पर जस्टिस जीएस कुलकर्णी और नीला गोखले की पीठ रविवार यानी आज सुबह 10:30 बजे सुनवाई करेगी।

महाराष्ट्र सरकार के सार्वजनिक अवकाश की घोषणा को चुनौती

दरअसल, चार छात्रों ने बॉम्बे हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर कर 22 जनवरी को महाराष्ट्र सरकार के द्वारा सार्वजनिक अवकाश की घोषणा को चुनौती दी है। यह याचिका शिवांगी अग्रवाल, वेदांत गौरव अग्रवाल, सत्यजीत सिद्धार्थ साल्वे और खुशी संदीप बंगिया ने दाखिल की है। सभी एमएनएलयू, मुंबई, जीएलसी और निरमा लॉ स्कूल के छात्र हैं।

19 जनवरी को महाराष्ट्र सरकार ने जारी किया सार्वजनिक अवकाश का आदेश

बता दें कि महाराष्ट्र सरकार ने 19 जनवरी को एक आदेश जारी कर रामलला की प्राण प्रतिष्ठा समारोह को लेकर सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की। याचिकाकर्ताओं ने कहा कि किसी भी धार्मिक कार्यक्रम को मनाने के लिए सार्वजनिक अवकाश घोषित करना संविधान में निहित धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों का उल्लंघन है। उन्होंने तर्क दिया कि कोई राज्य किसी भी धर्म के साथ जुड़ नहीं सकता या उसे बढ़ावा नहीं दे सकता।

यह भी पढ़ें: कौन हैं ललित साल्वे, जिन्होंने पिता बनने के लिए तीन बार कराई सर्जरी; महिला से पुरुष बनने तक ऐसा रहा सफर

धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों पर हमला

कानून के छात्रों ने अपनी याचिका में कहा कि एक हिंदू मंदिर के उद्घाटन पर जश्न मनाने, खुले तौर पर इसमें भाग लेने और एक विशेष धर्म से जुड़ने का सरकार का कृत्य धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों पर सीधा हमला है। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक छुट्टियों की घोषणा के संबंध में कोई भी नीति सत्तारूढ़ दल की सनक और इच्छा पर आधारित नहीं हो सकती है।

गोवा और मध्य प्रदेश में भी 22 जनवरी को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा

बता दें कि महाराष्ट्र के अलावा गोवा और मध्य प्रदेश सरकार ने भी 22 जनवरी को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की है। कई अन्य राज्यों ने आधे दिन की छुट्टी और स्कूल बंद रखने की घोषणा की है। केंद्र सरकार के कार्यालय और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक भी दोपहर 2.30 बजे तक बंद रहेंगे। स्टॉक एक्सचेंज एनएसई और बीएसई भी राम मंदिर उद्घाटन के दिन बंद रहेंगे।

यह भी पढ़ें: ‘मैं रामलला का दर्शन करने अयोध्या जरूर जाऊंगा, लेकिन…’, जानें राम मंदिर के निमंत्रण पर क्या बोले NCP प्रमुख

First published on: Jan 21, 2024 12:11 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें