Wednesday, 21 February, 2024

---विज्ञापन---

अभिनेत्रियों के बाद अब नेता भी डीप फेक वीडियो की चपेट में, MP पुलिस ने दर्ज किए 4 केस

MP Police registered four cases in deepfake video: अभिनेत्रियों के बाद मध्य प्रदेश पुलिस ने प्रमुख राजनेताओं के डीपफेक वीडियो शेयर करने के आरोप में 4 मामले दर्ज किए हैं।

Edited By : Pratyaksh Mishra | Updated: Nov 27, 2023 22:25
Share :

MP Police registered four cases in deepfake video: अभिनेत्रियों के बाद अब नेता भी डीप फेक वीडियो की चपेट में आ चुके हैं। मध्य प्रदेश ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित प्रमुख राजनेताओं के डीपफेक वीडियो प्रसारित करने के लिए अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ चार एफआईआर दर्ज की हैं। चारों मामले इंदौर में दर्ज किए गए हैं। बता दें कि पिछले दिनों रश्मिका मंदाना के बाद, आलिया भट्ट और काजोल के डीप फेक वीडियो वायरल हुए हैं।

पीएम मोदी से जुड़ा पहला केस

विशेष रूप से, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 17 नवंबर को एक कार्यक्रम में देश को एआई का उपयोग करके पैदा होने वाली डीपफेक छवियों और वीडियो से खतरों के बारे में आगाह किया था। उसी दिन, इंदौर के कनाडिया पुलिस स्टेशन में एक कथित वीडियो के संदर्भ में एक FIR दर्ज की गई थी, जिसमें पीएम मोदी एक गंभीर मुद्दे पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए हंसते हुए देखे जा सकते थे।

पहली एफआईआर एक सोशल मीडिया यूजर द्वारा एक डीपफेक वीडियो देखने के बाद दर्ज की गई थी जिसमें प्रधान मंत्री के भाषण को एडिट किया गया था। बाद में, ऐसे डीपफेक फोटो/वीडियो से संबंधित तीन और मामले दर्ज किए गए, जिनमें से एक में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ को दिखाया गया था।

यह भी पढ़ें- सड़क पर दौड़ रही थी कार, अचानक होने लगी नोटों की बारिश, पुलिस ने रोका चालान ठोका

अज्ञात के खिलाफ मामले दर्ज

इसके बाद 17 नवंबर को मतदान से पहले राकेश यादव के नेतृत्व में कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने एफआईआर दर्ज करायी थी। इंदौर 1 से भाजपा उम्मीदवार और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और इंदौर-5 से कांग्रेस उम्मीदवार सत्यनारायण पटेल के फर्जी वीडियो प्रसारित करने के आरोप में अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ भी मामले दर्ज किए गए हैं।

N24 Whatsapp Group

ली जा रही साइबर विशेषज्ञों की मदद

डीसीपी (क्राइम ब्रांच) निमिष अग्रवाल ने कहा, डीपफेक वीडियो का इस्तेमाल मुख्य रूप से राजनेताओं की छवि खराब करने और गलत सूचना फैलाने के लिए किया जा रहा है, हम मामले को सुलझाने के लिए साइबर विशेषज्ञों की मदद ले रहे हैं।

First published on: Nov 27, 2023 10:24 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें