---विज्ञापन---

Farmers Protest: सरकार ने किसानों की 10 मांगें मानीं, 3 पर फंसा पेंच, नेताओं का ऐलान- बात न बनी तो कल दिल्ली कूच

Farmers Protest : देश में एक बार फिर किसान आंदोलन कर रहे हैं। लोकसभा चुनाव 2024 से पहले किसान अपनी मांगों को लेकर केंद्र पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं तो वहीं मोदी सरकार भी किसानों से बैर नहीं लेना चाहती है। चंडीगढ़ में किसान और केंद्रीय मंत्री चौथी बार बातचीत की टेबल पर बैठेंगे। उम्मीद है कि कुछ न कुछ बीच का रास्ता जरूर निकल जाएगा।

Edited By : Deepak Pandey | Updated: Feb 18, 2024 14:44
Share :
Farmers Protest
किसानों और केंद्रीय मंत्रियों के बीच आज फिर होगी बैठक।

Farmers Protest : किसान अपनी मांगों को लेकर एक बार फिर दिल्ली कूच कर गए हैं। पुलिस ने पंजाब से चले किसानों को हरियाणा के शंभू बॉर्डर पर रोक दिया है। पिछले छह दिनों से बॉर्डर पर डटे किसानों को मनाने के लिए सरकार भी जुटी है। चंडीगढ़ में केंद्रीय मंत्रियों और किसानों के बीच आज चौथे दौर की बात होने वाली है। सरकार ने 14 फरवरी तक इंटरनेट बैन कर दिया। सरकार के साथ बैठक से पहले किसानों ने घोषणा की कि अगर आज समाधान नहीं तो कल दिल्ली कूच करेंगे। आइए जानते हैं कि किसानों की क्या हैं मांगें, जिसे लेकर वे प्रदर्शन कर रहे हैं।

किसानों की इन तीन मांगों पर होगी बातचीत

किसानों और सरकार के बीच अबतक तीन बार बैठक हो चुकी है, लेकिन कई मांगों पर सहमति नहीं बन पाई। किसानों की एमएसपी की गारंटी पर कानून समेत कुल 13 मांगें हैं। सरकार उनकी 10 मांगें मानने के लिए तैयार है, लेकिन अभी 3 मुद्दों पर बात नहीं बन पाई है। ये तीन मांगें एमएसपी गारंटी पर कानून बनाना, 60 वर्ष से ज्याद उम्र वाले किसानों को पेंशन और किसानों की कर्जमाफी हैं, जिन पर आज वार्ता होनी है।

यह भी पढे़ं : ‘किसानों पर आंसू गैस छोड़े, लाठियां-गोलियां चलाईं…’ Farmers Protest पर क्या बोले शिवपाल यादव

https://twitter.com/Davinder_777/status/1759137460150563259

सरकार ने किसानों की 10 मांगें मानीं

1. स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के आधार पर फसलों की कीमत मिलनी चाहिए। फसलों के उत्पादन की लागत से 25 फीसदी ज्यादा न्यूनतम समर्थन मूल्य मिले।
2. एक बार फिर भूमि अधिग्रहण अधिनियम 2013 लागू हो।
3. लखीमपुर में किसानों पर गाड़ी चढ़ाने वालों की जमानत रद्द हो और दोषियों को सजा मिले।
4. फ्री ट्रेड एग्रीमेंट पर रोक लगनी चाहिए।

यह भी पढे़ं : मोदी सरकार में किसानों के लिए कितना हुआ काम? सर्वे ने चौंकाया, देखें Video

5. बिजली संशोधन विधेयक 2020 कैंसिल हो।
6. मनरेगा में हर मजदूर को 200 दिन काम और उनकी मजदूरी 700 रुपये होनी चाहिए।
7. किसान प्रदर्शन में मारे गए किसानों के परिजनों को आर्थिक मदद और सरकारी नौकरी मिलनी चाहिए।
8. नकली कीटनाशक दवाई, बीज और खाद्य बेचने वाली कंपनियों पर कानून बनना चाहिए। साथ ही सरकार खुद फसल बीमा करे।
9. मसालों जैसे मिर्च-हल्की के लिए राष्ट्रीय आयोग गठित हो।
10. आदिवासी समुदाय की जमीन की लूट बंद हो और इसके लिए संविधान की 5वीं सूची लागू हो।

यह भी पढे़ं : Farmers Protest को खापों का समर्थन, शंभू बॉर्डर पर स्थिति तनावपूर्ण, हरियाणा में इंटरनेट बैन बढ़ा

Internet Suspended In Punjab

Internet Suspended In Punjab

24 फरवरी तक पंजाब के कई जिलों में बंद रहेगा इंटरनेट

केंद्र गृह मंत्रालय ने पंजाब के किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए बड़ा कदम उठाया है। पंजाब के सात जिलों में 24 फरवरी तक इंटरनेट बंद रहेगा। पटियाला, साहिबजादा अजीत सिंह नगर (एसएएस नगर), बठिंडा, मानसा, संगरूर, फतेहगढ़ साहिब, श्री मुक्तसर साहिब में 17 फरवरी की रात 12 बजे से लेकर 24 फरवरी की रात 12 बजे तक इंटरनेंट सेवाएं बंद रहेंगी।

First published on: Feb 18, 2024 02:36 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें