Saturday, 24 February, 2024

---विज्ञापन---

सड़क पर जाम से मिलेगी निजात, अब बैटरी से चलेगी ड्रोन कार, 1500 KM की होगी रेंज

Electric Car: भारत में जम्मू में मिलने वाले लिथियम-सल्फर के व्यवसायिक क्षमता का पता लगाया गया है। इसका प्रयोग ईवी कार की बैटरी बनाने में होगा।

Edited By : Amit Kasana | Updated: Dec 7, 2023 11:23
Share :
Electric Car with High Driving Range, Lithium Battery, Electric Drone Car, Electric Vehicle, EV Car,
symbolic photo

Electric Car with High Driving Range: हम सब को ऐसी इलेक्ट्रिक कार चाहिए जो सिंगल चार्ज पर हाई ड्राइविंग रेंज दे। फिलहाल बाजार में मौजूद ईवी कारें औसतन एक बार फुल चार्ज होने पर 500 किलोमीटर तक चलती हैं। लेकिन भविष्य में एक बार फुल चार्ज होने पर 1500 KM तक चलेने वाली इलेक्ट्रिक गाड़ियां मिलेंगी। दरअसल्र आईआईटी बॉम्‍बे के भौतिक विज्ञानी प्रोफेसर सागर मित्रा ने ब्रिटेन के सरे विश्वविद्यालय के विज्ञानी प्रोफेसर राबर्ट स्लायड के साथ मिलकर ऐसा कर दिखाया है।

वीडियो पर क्लिक कर देखें ड्रोन कार

लिथियम-सल्फर के व्यवसायिक क्षमता का पता किया

जानकारी के अनुसार प्रो मित्रा ने भारत में जम्मू में मिलने वाले लिथियम-सल्फर के व्यवसायिक क्षमता का पता लगाया है। अब जब इसका प्रयोग कारों की बैटरी बनाने में होगा तो इससे इंडिया में ईवी कारों की कीमत सस्ती होगी और इनकी ड्राइविंग रेंज बढ़ेगी। बताया जा रहा है कि इस लिथियम का सेना समेत लोगों के लिए बनाने वाली ड्रोन कार में भी इस्तेमाल होगा। आम लोगों के लिए बनने वाली ड्रोन कारों से भविष्य में सड़कों से वाहनों की संख्या कम करने में मदद मिलेगी। बीएचयू के भौतिक विज्ञान विभाग द्वारा सालिड स्टेट आयनिक्स पर तीन दिवसीय 15वें राष्ट्रीय सम्मेलन में पहुंचे प्रो. सागर मित्रा और प्रो. प्रोफेसर राबर्ट स्लायड ने फ्यूचर की बैटरी को लेकर यह जानकारी शेयर की हैं।

चीन और बोलीविया आदि से लिथियम

बता दें इस नए प्रयोग से देश के डिफेंस क्षेत्र में काफी हेल्प मिलेगी। लिथियम का प्रयोग ड्रोन की बैटरी बनाने में होगा। सेना को इससे हल्के मिसाइल समेत अन्य सामान भेजने में मदद मिलेगी। आपको बता दें कि फिलहाल इंडिया में चीन, बोलीविया आदि से लिथियम या बैटरी आती हैं। इंडिया में जम्मू में लिथियम मिलने के बाद अब यहां बैटरी बनाने से इसकी कीमत कम होगी। ईवी कारों की मैन्युफैक्चरिंग में भी तेजी आएगी। इलेक्ट्रिक कारों से पेट्रोल और डीजल कारों के मुकाबले प्रदूषण कम होता है। सरकार ईवी वाहनों को बढ़ावा देने के लिए कई तरह की सब्सिडी दे रही है। फिलहाल सार्वजनिक जगहों पर ईवी चार्जिंग प्वाइंट कम होने से ईवी कार मालिकों को परेशानी होती है।

First published on: Dec 07, 2023 11:15 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें