Sunday, 25 February, 2024

---विज्ञापन---

Ganesha Visarjan 2022: अगले बरस तू जल्दी आ के जयघोष के साथ आज गणपति बप्पा का विसर्जन, जानिए शुभ मुहूर्त और विसर्जन विधि

Ganesha Visarjan 2022: 10 दिनों तक पूरे उल्लास और भक्ति से साथ चला गणेश चतुर्थी उत्सव अपने आखिरी पड़ाव में आ चुका है। गणपति बप्पा को अगले बरस जल्दी आने की कामना के साथ आज विदाई दी जाएगी। गणपति बप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ के जयकारों के साथ आज बप्पा के लाखों भक्त […]

Edited By : Pankaj Mishra | Updated: Sep 9, 2022 14:14
Share :

Ganesha Visarjan 2022: 10 दिनों तक पूरे उल्लास और भक्ति से साथ चला गणेश चतुर्थी उत्सव अपने आखिरी पड़ाव में आ चुका है। गणपति बप्पा को अगले बरस जल्दी आने की कामना के साथ आज विदाई दी जाएगी। गणपति बप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ के जयकारों के साथ आज बप्पा के लाखों भक्त उन्हें विदाई देंगे।

आपको बता दें कि गणेश महोत्सव 10 दिनों तक चलता है और इसके बाद गणपति को धूमधाम के साथ विदा किया जाता है। साथ ही प्रार्थना की जाती है कि वह घर से सभी विघ्नों को ले जाएं और अगले साथ खुशियों के साथ फिर घर में पधारें।

मुंबई समेत पूरे महाराष्ट्र में गणपति विसर्जन के लिए खास इंतजाम किए गए हैं। सभी चौपाटियों और दूसरे विसर्जन स्थलों पर सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं। इसके लिए मुंबई समेत पूरे महाराष्ट्र में पुलिस-प्रशासन की तरफ से कई जरूरी इंतजाम किए गए हैं।

अभी पढ़ें शुक्रवार के दिन इस एक उपाय से बरसने लगती है मां लक्ष्मी की कृपा, धन से भर जाएगा घर

गणेश विजर्सन का शुभ मुहूर्त

पंचांग के अनुसार गणपति बप्पा की विदाई के लिए जानी जाने वाली अनंत चतुर्दशी इस साल 08 सितम्बर 2022 को रात्रि 09:02 बजे प्रारंभ होकर 09 सितंबर 2022 को सायंकाल 06:07 बजे तक रहेगी।

प्रात:काल- 06:03 से 10:44 बजे तक।
दोपहर- 12:18 से 01:52 बजे तक।
सायंकाल- 05.00 से 06:31 बजे तक।
रात्रि- 09:26 से 10:52 बजे तक।

अभी पढ़ें इन्हें रोमांस के लिए मिलेगा क्वालिटी टाइम, सभी मूलांक वाले यहां जानें अपना राशिफल

ऐसे करें गणेश विजर्सन

  • गणपति जी की प्रतिमा को विसर्जित करने से पहले विधि-विधान के साथ पूजा करें।
  • गणपति को नारियल, फल, फूल, मोदक आदि का भोग लगाने के बाद उनके मंत्रों का जप एवं आरती करें।
  • इसके बाद गाजे-बाजे के साथ गणपति की प्रतिमा को ‘गणपति बप्पा मोरया’ के जयकारे लगाते हुए किसी पवित्र नदी या सरोवर के किनारे ले जाएं
  • गणपति की मूर्ति को विसर्जित से पहले एक बार फिर गणपति की प्रार्थना करें और पूजा में हुई भूल की क्षमा मांगते हुए अगले साल फिर आने का आमंत्रण दें।
  • खुद को सुरक्षित रखते हुए गणपति को नदी या सरोवर आदि में विसर्जित कर दें।

(Disclaimer: यहां दी गई सभी जानकारियां सामाजिक और धार्मिक आस्थाओं पर आधारित हैं। न्यूज 24 इसकी पुष्टि नहीं करता है। इसके लिए किसी विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।)

अभी पढ़ें – आज का राशिफल यहाँ पढ़ें

Click Here – News 24 APP अभी download करें

First published on: Sep 09, 2022 05:54 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें