---विज्ञापन---

Vyapam घोटाले में 10 साल बाद आया फैसला; 7 दोषियों को 7-7 साल की जेल, 7 पॉइंट में जानें क्या था Scam

Bhopal MP Vyapam Scam Verdict: व्यापम घोटाले में सजा सुनाई गई है। CBI की विशेष अदालत ने आज 7 लोगों को दोषी करार दिया। व्यापम ने साल 2013 में पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा ली थी, जिसमें घोटाला किए जाने के आरोप लगे थे। मामले की जांच CBI ने की और 10 साल बाद इसमें फैसला सुनाया गया है।

Edited By : Khushbu Goyal | Updated: Feb 20, 2024 15:49
Share :
Jail, file photo
Jail, file photo

Bhopal MP Vyapam Scam Verdiction: मध्य प्रदेश के बहुचर्चित व्यापम घोटाले का फैसला आ गया है। मामले में दोषी करार दिए गए 7 लोगों को 7-7 साल की जेल की सजा सुनाई गई है। 10-10 हजार रुपये जुर्माना भी लगाया गया है। वहीं 12 आरोपियों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया है। भर्ती परीक्षा घोटाला साल 2013 में सामने आया था।

केस में कुल 21 आरोपी बनाए गए थे, जिनमें से 2 आरोपियों की मौत हो चुकी है। करीब 10 साल बाद केस में फैसला सुनाया गया है। CBI की विशेष अदालत ने आज मंगलवार को पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा घोटाले की सुनवाई की और दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद 7 आरोपियों को दोषी करार देते हुए कारावास की सजा सुनाई।

 

बड़े-बड़े लोगों तक पहुंची थी जांच की आंच

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मामले की जांच के दौरान 10 साल में 41 आरोपियों की मौत हो चुकी है। वहीं केस की जांच की आंच मध्य प्रदेश के उस समय के राज्यपाल राम नरेश यादव के बेटे शैलेश यादव तक पहुंची थी, लेकिन 25 मार्च 2015 को अचानक अचानक शैलेश की मौत हो जाने से मामले में मोड़ आया था। शैलेश घर में संदिग्ध हालात में मृत मिला था। राम नरेश भी केस में आरोपी थे। उस समय मुख्यमंत्री रहे शिवराज चौहान की जांच के दायरे में आए थे।

यह भी पढ़ें: Maratha Reservation: कैबिनेट में प्रस्ताव मंजूर, 7 पॉइंट में जानें क्या है प्रावधान और कैसे मिलेगा आरक्षण?

क्या है व्यापम और क्या लगे आरोप?

मध्य प्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल (Vyapam) मध्य प्रदेश में मेडिकल कोर्स एंट्रेस एग्जाम, इंजीनियरिंग एंट्रेस एग्जाम, भर्ती एग्जाम कराने के लिए जिम्मेदार है। एग्जाम संबंधी सभी प्रक्रियाएं व्यापम द्वारा ही की जाती हैं, लेकिन व्यापम पर आरोप लगने लगे थे कि सांठ-गांठ करके रेवड़ियों की तरह सरकारी नौकरियां बांटी जाती हैं। इसके लिए मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिला में फर्जीवाड़ा किया जाता है। मामला तब सामने आया, जब एक हजार फर्जी भर्तियां होने की सुगबुगाहट होने लगी। मेडिकल कॉलेज में भी 514 फर्जी भर्तियां करने का शक था।

यह भी पढ़ें: 10वीं-12वीं स्टूडेंट्स के लिए खुशखबरी, नए सेशन से नया होगा एग्जाम पैटर्न, सरकार ने क्या की घोषणा?

कैसे सामने आया घोटाला?

साल 2013 में MBBS भर्ती परीक्षा के दौरान पुलिस ने फर्जी परीक्षार्थी पकड़े थे। जांच में फर्जी भर्ती गिरोह का खुलासा हुआ। पूछताछ में डॉ. जगदीश सागर का नाम सामने आया, जिसने पूछताछ में उस समय के शिक्षा मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा को लेकर खुलासे किए। 16 जून 2014 को लक्ष्मीकांत शर्मा गिरफ्तार हुए, जो उस समय व्यापम के अध्यक्ष भी थे। इसके बाद अरविंदो मेडिकल कॉलेज के चेयरमैन डॉ. विनोद भंडारी, व्यापम के परीक्षा नियंत्रक डॉ. पंकज त्रिवेदी गिरफ्तार हुए। पूर्व मंत्री OP शुक्ला को नौकरी के बदले पैसे लेते रंगे हाथों दबोचा गया।

यह भी पढ़ें: Kisan Andolan: क्यों फेल हुई बातचीत, खारिज हुआ प्रस्ताव? क्या चाहते किसान, 5 पॉइंट्स में जानें अपडेट्स

क्या-क्या खुलासे हुए थे पूछताछ में?

  • पैसे लेकर मेडिकल-इंजीनियरिंग कॉलेजों में दाखिले करवाए जाते थे।
  • मंत्री, अधिकारी, कॉलेजों के प्रिंसिपल तक रैकेट से जुड़े थे। दलाल डील कराते थे।
  • व्यापम के ऑफिस दाखिलों और नौकरियों में फर्जीवाड़ा का अड्डा था।
  • परीक्षा नियंत्रक डॉ. पंकज त्रिवेदी को लक्ष्मीकांत शर्मा आवेदकों की लिस्ट और रोल नंबर देते थे।
  • अलग-अलग तरीकों से एग्जाम और भर्ती में फर्जीवाड़ा किया जाता था।
  • परीक्षार्थी को फर्जी परीक्षार्थी के पास नकल करने के लिए बैठा दिया जाता था।
  • ओरिजिनल परीक्षार्थी की जगह फर्जी परीक्षार्थी को एग्जाम दिलाया जाता था।
  • परीक्षार्थी आंसर शीट खाली छोड़ता था, जिसे बाद में भरवाया जाता था।
  • अकसर भर्तियों के रिजल्ट जारी करते समय अंकों को बढ़ा दिया जाता था।

First published on: Feb 20, 2024 02:42 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें