Sunday, 25 February, 2024

---विज्ञापन---

Chhattisgarh: ‘कांग्रेस शासनकाल में बड़े बड़े फैसले लिए गए’, श्रम कल्याण मंडल के अध्यक्ष शफी अहमद ने योजनाओं की दी जानकारी

बिलासपुर: छत्तीसगढ़ श्रम कल्याण मंडल के अध्यक्ष शफी अहमद बिलासपुर विधायक शैलेश पांडे ने शुक्रवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए राज्य सरकार द्वारा असंगठित मजदूरों की तथा श्रमिकों के लिए बनी योजनाओं की जानकारी दी है। सफी अहमद ने कहा कि कांग्रेस शासनकाल में सड़कों के हित में बड़े बड़े फैसले लिए गए। जहां […]

Edited By : Gyanendra Sharma | Updated: Apr 15, 2023 10:37
Share :
chhattisgarh

बिलासपुर: छत्तीसगढ़ श्रम कल्याण मंडल के अध्यक्ष शफी अहमद बिलासपुर विधायक शैलेश पांडे ने शुक्रवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए राज्य सरकार द्वारा असंगठित मजदूरों की तथा श्रमिकों के लिए बनी योजनाओं की जानकारी दी है।

सफी अहमद ने कहा कि कांग्रेस शासनकाल में सड़कों के हित में बड़े बड़े फैसले लिए गए। जहां भाजपा शासनकाल में 15 साल में ढाई लाख श्रमिकों को पंजीकृत किया गया था, वही 4 साल के कांग्रेस कार्यकाल में 2 लाख नए ने श्रमिकों का पंजीयन किया गया है, और राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है। साथ ही 2500 से अधिक संस्थानों को नोटिस देकर श्रम नियमों का पालन कराने के लिए तथा मजदूरों के लिए लगभग 7 करोड़ से अधिक की राशि जमा कराई गई है।

उन्होंने कहा कि श्रमिकों के लिए बनाई योजनाओं का पालन संस्थानों में हो रहा है या नहीं इसकी जानकारी लेने के लिए निरीक्षण करने पहुंचे थे। असंगठित मजदूरों के लिए नियोजित योजना की जानकारी एकत्र करने करने के बाद आज पत्रकारों से चर्चा करते हुए अध्यक्ष ने बताया कि राज्य शासन की योजनाएं जो श्रमिक के लिए बनी है।

पंजीकृत संस्थानों के द्वारा श्रमिकों के हित में नियमों का पालन किया जा रहा है कि नहीं, इसकी जानकारी एकत्र करने के लिए वे सभी जिलों का दौरा कर रहे हैं और लेबर एक्ट का पालन कराने के लिए संस्थानों को निर्देशित कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ के श्रमिक अब पलायन नहीं कर रहे हैं राज्य सरकार की योजनाओं से प्रभावित होकर 4 साल में बाहर गए समय अब यहां की सरकार के कामकाज से खुश होकर अपने गांव वापस आ रहे हैं।

First published on: Apr 14, 2023 06:40 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें