Monday, December 5, 2022
- विज्ञापन -

Latest Posts

गुरुग्राम की डंप साइट से पर्यावरण को नुकसान, एनजीटी ने हरियाणा सरकार पर लगाया 100 करोड़ का हर्जाना

पेश मामले में एनजीटी गुरुग्राम के बांधवारी में स्थित लैंडफिल साइट पर सुनवाई कर रही है। यहां वर्षों से कूड़ा डाला जा रहा है और करीब 33 लाख मीट्रिक टन ठोस कचरा है।

नई दिल्ली: पर्यावरण को नुकसान पहुचाने पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने हरियाणा सरकार पर सख्त कार्रवाई की है। एनजीटी ने हरियाणा के मुख्य सचिव को पर्यावरण को लगातार हो रहे नुकसान के लिए पर्यावरण मुआवजे के रूप में 100 करोड़ रुपये की राशि जमा करने का निर्देश दिया है। न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने यह आदेश दिया है। अपने आदेश में एनजीटी ने इस मामले में हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष की अध्यक्षता में नौ सदस्यीय समिति का भी गठन करने का निर्देश दिया है।

अभी पढ़ें Rajasthan Political Crisis: सीएम अशोक गहलोत को क्लीनचिट, इन चार नेताओं पर कार्रवाई की अनुशंसा

 

 

पेश मामले में एनजीटी गुरुग्राम के बांधवारी में स्थित लैंडफिल साइट पर सुनवाई कर रही है। यहां वर्षों से कूड़ा डाला जा रहा है और करीब 33 लाख मीट्रिक टन ठोस कचरा है। पेश याचिका में कहा गया था कि यहां एक अपशिष्ट प्रबंधन परियोजना विकसित की गई है और एक चीनी को वर्ष 2017 में एक अनुबंध सौंपा गया था। जिसने कचरे को जलाया। इससे वायु प्रदूषण हो रहा है। यह प्रदूषण आसपास के लोगों के अलावा असोला भाटी वन्यजीव अभयारण्य में पक्षियों को भी नुकसन पहुंचा रहा है। इस अभयारण्य में पक्षियों की 193 प्रजातियां हैं। यहां बड़ी संख्या में औषधीय पौधों की 80 से अधिक प्रजातियां हैं। यहां तितलियां काला हिरन, गोल्डर सियार और तेंदुआ हैं।

अभी पढ़ें Rajasthan Political Crisis: पार्टी की अनुशासन समिति ने 3 विधायकों को भेजा नोटिस, उन पर क्यों न हो कार्रवाई इसका जवाब मांगा 

अपने आदेश में एनजीटी ने कहा कि समिति इस मामले में हुए समझौते के तहत लगाए गए ठेकेदार के प्रदर्शन का मूल्यांकन कर सकती है और यदि यह पाया जाता है कि ठेकेदार अपेक्षित प्रदर्शन करने में विफल रहा है, तो समिति ठेकेदार को बदलने के लिए उपयुक्त वैकल्पिक व्यवस्था कर सकती है। एनजीटी ने निर्देश पारित करते हुए यह भी कहा कि आपातकालीन स्थिति के संबंध में राज्य के अधिकारी उपयोगकर्ता शुल्क के भुगतान पर अस्थायी अवधि के लिए लागू कानून के अनुसार निकटतम उपलब्ध भूमि का उपयोग करने के लिए अपने अधिकार क्षेत्र का प्रयोग कर सकते हैं।

अभी पढ़ें –  देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

Latest Posts

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -