Tuesday, 27 February, 2024

---विज्ञापन---

जीवन बीमा: सुरक्षा और कर लाभ एक साथ

Life Insurance: जीवन बीमा आपके और बीमा प्रदाता के बीच हुआ एक प्रकार का अनुबंध है। यदि पॉलिसी अवधि के दौरान किसी कारणवश आपकी मृत्यु हो जाती है, तो बीमा कंपनी आपके नामांकित व्यक्ति को एकमुश्त राशि का भुगतान करेगी, जिसे मृत्यु लाभ के रूप में जाना जाता है। इस लाभ की उपलब्धि के बदले […]

Edited By : Amit Kasana | Updated: Dec 19, 2022 16:47
Share :

Life Insurance: जीवन बीमा आपके और बीमा प्रदाता के बीच हुआ एक प्रकार का अनुबंध है। यदि पॉलिसी अवधि के दौरान किसी कारणवश आपकी मृत्यु हो जाती है, तो बीमा कंपनी आपके नामांकित व्यक्ति को एकमुश्त राशि का भुगतान करेगी, जिसे मृत्यु लाभ के रूप में जाना जाता है। लाभ की उपलब्धि के बदले आपको एक प्रीमियम भरना पड़ता है, जिसे आप मासिक, त्रैमासिक, अर्ध वार्षिक या वार्षिक आवृत्ति पर चुका सकते हैं। आप प्रीमियम का एकमुश्त भुगतान भी कर सकते हैं।

धन प्राप्तकर्ता अपने मनमर्जी के हिसाब से धन को खर्च करने के लिए स्वतंत्र हैं। उदाहरण के तौर उन पैसों से नामांकित व्यक्ति बकाया बिलों का भुगतान कर सकते हैं, बचे हुए कर्जे का भुगतान करके गिरवी छुड़ा सकते हैं, और बच्चों को कॉलेज भेज सकते हैं। आर्थिक सुरक्षा के रूप में जीवन बीमा होने से आपके परिवार को आपकी अनुपस्थिति में उन चीजों के लिए भुगतान करने में मदद मिल सकती है जिनके लिए आपने योजना बनाई थी।

सावधि बीमा (टर्म प्लान) और संपूर्ण जीवन बीमा (होल लाइफ इन्श्योरेन्स), जीवन बीमा के दो मुख्य प्रकार हैं। संपूर्ण जीवन बीमा जीवन भर के लिए कवरेज प्रदान कर सकता है, जबकि सावधि जीवन बीमा केवल एक निश्चित अवधि के लिए कवरेज प्रदान करता है।

और पढ़िए – Stock Market Opening: शेयर बाजार में लगातार दूसरे दिन गिरावट, आज के टॉप गेनर में हिंदुस्‍तान पेट्रोलियम तो इन्फोसिस पर दवाब

जीवन बीमा कैसे काम करता है?

जीवन बीमा क्या है, यह समझना बहुत सरल है। जब आप जीवन बीमा पॉलिसी खरीदते हैं, तो आप अपने कवरेज को बनाए रखने के लिए प्रीमियम का भुगतान करने के लिए सहमत होते हैं। यदि आपकी मृत्यु हो जाती है, तो जीवन बीमा कंपनी उस व्यक्ति या लोगों को मृत्यु लाभ का भुगतान करेगी जिन्हें आपने नामांकित व्यक्ति के रूप में निर्दिष्ट किया है।

जब कवरेज की बात आती है तो जीवन बीमा कैलकुलेटर आपको सही मृत्यु लाभ चुनने में मदद कर सकता है। जीवन बीमा प्रीमियम की राशि की गणना पॉलिसी के प्रकार, मृत्यु लाभ राशि, आपके द्वारा चुने गए राइडर्स, और आपकी समग्र स्वास्थ्य स्थिति और जीवन शैली की आदतों के आधार पर निर्धारित की जाती है।

जीवन बीमा कर लाभ

आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80सी के तहत कटौती

धारा 80सी आपको अपने स्वयं के जीवन, अपने पति या पत्नी के जीवन या अपने बच्चे के जीवन का बीमा करने के लिए भुगतान किए गए बीमा प्रीमियम में निर्दिष्ट शर्तों के अधीन कटौती करने की अनुमति देती है। इस धारा के तहत आप सालाना चुकाये गए कुल प्रीमियम (1.5 लाख रूपये तक) को अपनी आय से काट सकते हैं।

धारा 80सी के तहत कटौती की अनुमति है चाहे आपका बच्चा आश्रित हो या स्वतंत्र, नाबालिग हो या बालिग, विवाहित हो या अविवाहित। यह कटौती धारा 80सी के तहत व्यक्तियों और एचयूएफ (हिन्दू संयुक्त परिवार) दोनों के लिए उपलब्ध है।

भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (इरडा) द्वारा अनुमोदित किसी भी बीमाकर्ता को भुगतान किए गए प्रीमियम के लिए धारा 80सी कटौती उपलब्ध है। हालांकि, यदि पॉलिसी 1 अप्रैल, 2012 के बाद जारी की गई थी, तो धारा 80सी के तहत कटौती का दावा करने के लिए भुगतान किया गया वार्षिक प्रीमियम कुल बीमित राशि के 10% से अधिक नहीं हो सकता है। 1 अप्रैल, 2012 से पहले जारी की गई पॉलिसियों के लिए, भुगतान किया गया वार्षिक प्रीमियम बीमा राशि के 20% से अधिक नहीं होना चाहिए।

इसके अलावा, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि 1 अप्रैल, 2013 के बाद जारी की गई पॉलिसी के लिए, धारा 80यू के तहत निर्दिष्ट विकलांगता वाले व्यक्ति या धारा 80डीडीबी के तहत संदर्भित बीमारी के जीवन को कवर करने के लिए, कुल प्रीमियम बीमित राशि के 15% से अधिक नहीं होना चाहिए, धारा 80सी के तहत कटौती का दावा करने के लिए

याद रखें की शब्द सम एश्योर्डकेवल पॉलिसी के तहत गारंटीकृत न्यूनतम राशि को संदर्भित करता है। यह आंकड़ा किसी भी प्रीमियम को वापस करने के लिए सहमत हो गया है, साथ ही पॉलिसी के तहत किए गए किसी भी प्रोत्साहन भुगतान को शामिल नहीं करता है।

और पढ़िए – Gold Price Update: सोना ऑलटाइम हाई से करीब 2300 तो चांदी 13000 रुपये मिल रही है सस्ता

प्राप्त परिपक्वता राशि पर आयकर अधिनियम 1961 की धारा 10(10डी) के तहत छूट

जीवन बीमा पॉलिसी की परिपक्वता पर प्राप्त कोई भी राशि या बोनस के रूप में प्राप्त राशि आयकर 1961 की धारा 10(10डी) के तहत पूरी तरह से छूट प्राप्त है। जब पॉलिसी पर भुगतान किया गया प्रीमियम 1 अप्रैल, 2012 के बाद जारी की गई पॉलिसियों के लिए बीमा राशि के 10% और 1 अप्रैल, 2012 से पहले जारी की गई पॉलिसियों के लिए बीमित राशि के 20% से अधिक हो। 1 अप्रैल, 2013 के बाद ली गई नीतियां अधिनियम की धारा 80यू और 80डीडीबी के तहत सूचीबद्ध विकलांगता या बीमारी वाले व्यक्ति का जीवन, जहां परिपक्वता पर प्राप्त राशि करमुक्त है यदि भुगतान किया गया प्रीमियम बीमा राशि के 15% से अधिक नहीं है, इसमें भी शामिल हैं।

पॉलिसियों की परिपक्वता पर आयकर से कोई छूट नहीं

यहां पर यह बात ध्यान में रखने वाली है कि जब भुगतान किया गया प्रीमियम कुल बीमित राशि के 10% से अधिक होता है तो, जीवन बीमा पॉलिसी से प्राप्त कोई भी धन जिसका प्रीमियम मामले के आधार पर 10% या बीमा राशि के 20% से अधिक होने पर, उस पर पूरी तरह से कर लगाया जाता है।

और पढ़िए – बिजनेस से जुड़ी अन्य बड़ी ख़बरें यहाँ  पढ़ें

First published on: Dec 12, 2022 07:46 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें