Thursday, 18 April, 2024

---विज्ञापन---

यूपी के बाद एमपी में भी गठबंधन तय, क्यों खास है खजुराहो सीट, जिस पर सपा कर रही दावा

Lok Sabha Election 2024 : लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के बीच सीट शेयरिंग पर सहमति बन गई। दोनों पार्टी यूपी और एमपी में साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ेगी। कांग्रेस मध्य प्रदेश में सपा को एक सीट देगी। उत्तर प्रदेश से सटे खजुराहो में सपा अपने उम्मीदवार को उतारेगी।

Edited By : Deepak Pandey | Updated: Feb 21, 2024 21:24
Share :
Akhilesh Yadav Rahul Gandhi
यूपी के बाद एमपी में कांग्रेस और सपा के बीच सीट शेयरिंग पर बनी बात।

Lok Sabha Election 2024 : देश में कुछ ही दिनों में लोकसभा चुनाव होने वाले हैं। इंडिया गठबंधन के तहत सपा और कांग्रेस के बीच उत्तर प्रदेश के बाद मध्य प्रदेश में भी सीट शेयरिंग पर बात बन गई है। सपा ने यूपी में कांग्रेस को 17 सीटें दीं तो कांग्रेस ने एमपी में सपा को 1 सीट दी। आखिर खजुराहो सीट क्यों खास है, जिस पर सपा दावा कर रही है।

मध्य प्रदेश में कुल 29 लोकसभा सीटें हैं, जिनमें से कांग्रेस के पास एक सीट और भाजपा के पास 28 सीटें हैं। एमपी में भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला होता है। उत्तर प्रदेश में सीट शेयरिंग पर सहमति बनने के बाद कांग्रेस ने सपा को एमपी में एक सीट का फैसला किया है। सपा उत्तर प्रदेश की सीमा से सटी खजुराहो सीट मांग रही है।

यह भी पढ़ें : वे जानबूझकर सब कुछ हारते रहे ताकि बेटा अखिलेश जीत जाये, पर ऐसा हो न सका

खजराहो से चार बार सांसद बनी थीं उमा भारती

खजुराहो में ऐतिहासिक और पुरातात्विक के मंदिर हैं। अगर खजुराहो लोकसभा सीट की बात करें तो यहां भाजपा और कांग्रेस का दबदबा रहा है। उमा भारती इस सीट से लगातार चार बार सांसद रही थीं, जिसने दिग्विजय सिंह की सरकार को सत्ता से बाहर किया था और सीएम बनी थीं। इस सीट से कई ऐसा कई नेता और सांसद निकले, जिन्होंने देश-प्रदेश में अपनी अलग पहचान बनाई।

यह भी पढ़ें : Lok Sabha Election 2024: यूपी में किन 17 सीटों पर चुनाव लड़ेगी कांग्रेस? देखें पूरी List

टीकमगढ़ लोकसभा सीट में शामिल था खजुराहो

आजादी के बाद खजुराहो अलग लोकसभा सीट नहीं थी। बाद में छतरपुर, पन्ना और टीकमगढ़ की आठ विधानसभा सीटों को मिलाकर खजुराहो अलग लोकसभा सीट बनी, जहां 1977 के बाद चुनाव हुआ। शुरुआत में कांग्रेस का इस सीट पर दबदबा था, लेकिन 1989 में उमा भारती ने जीत हासिल की। अगर 1999 के लोकसभा चुनाव को छोड़ दें तो भाजपा के प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की। पहले टीकमगढ़ लोकसभा सीट में खजुराहो शामिल था।

खजुराहो की 8 विधानसभा सीटों पर भाजपा का कब्जा

परिसीमन के बाद खजुहारो लोकसभा सीट का फिर स्वरूप बदल गया, जिसमें छतरपुर, पन्ना और कटनी जिलों की कई विधानसभा सीटें जोड़ी गई हैं। इस लोकसभा सीटों में कुल आठ विधानसभा सीटें आती हैं। विधानसभा चुनाव में सभी सीटों पर कमल खिला।

यह भी पढ़ें : Lok Sabha Election 2024: दिल्ली में कांग्रेस और AAP के गठबंधन में कहां फंसा पेंच?

इस वक्त वीडी शर्मा हैं सांसद

पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा की ओर से डॉ वीडी शर्मा ने जीत हासिल की थी। दूसरे नंबर कांग्रेस प्रत्याशी कविता सिंह रहीं, जबकि तीसरे नंबर पर सपा प्रत्याशी वीर सिंह पटेल थे। बुंदलेखंड से सटे खजुराहो में सपा अपनी पकड़ मजबूत करना चाहती है। इसके लिए सपा अपना दफ्तर भी खोलने जा रही है। यूपी के दक्षिण और एमपी के पूर्वोत्तर में बुंदेलखंड स्थित है। इसी क्षेत्र में खजुराहो स्थित है जोकि यूपी से सटा हुआ है, इसलिए सपा इस सीट पर चुनाव लड़ना चाहती। खजुराहो के रास्ते सपा एमपी में कदम रखना चाहती है।

First published on: Feb 21, 2024 09:24 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

संबंधित खबरें