Trendingup board resultlok sabha election 2024IPL 2024UP Lok Sabha ElectionNews24PrimeBihar Lok Sabha Election

---विज्ञापन---

Lok Sabha Election 2024 : यूपी में पहले 7 सीटों पर लड़ने वाले RLD ने 2 पर कैसे किया संतोष? वजह जान लें

BJP-RLD Alliance For Lok Sabha Election 2024 : देश में कुछ ही दिनों में लोकसभा चुनाव 2024 होने वाले हैं। इसे लेकर सभी राजनीतिक दलों ने अपनी रणनीति तैयार कर ली। इसी क्रम में भाजपा ने 195 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी। पश्चिमी यूपी में भाजपा और आरएलडी के बीच गठबंधन हो गया।

Edited By : Deepak Pandey | Updated: Mar 3, 2024 07:59
Share :
भाजपा ने जयंत चौधरी की पार्टी आरएलडी को दीं दो सीटें।

BJP-RLD Alliance For Lok Sabha Election 2024 : लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर राजनीतिक दलों ने अपनी-अपनी तैयारी तेज कर दी है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जयंत चौधरी की पार्टी आरएलडी एनडीए के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ेगी। इसे लेकर भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के बीच सीट बंटवारे पर सहमति बन गई है। जयंत चौधरी को दो सीटों पर ही संतोष करना पड़ा। इस पर बड़ा सवाल उठता है कि सात सीटों पर चुनाव लड़ने वाले आरएलडी ने दो सीटों पर कैसे संतोष किया? आइए जानते हैं इसके पीछे की वजह।

भाजपा ने आरएलडी को दीं 2 सीटें

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में प्रभाव रखने वाले आरएलडी (RLD) ने इंडिया गठबंधन से नाता तोड़ दिया। अब जयंत चौधरी पश्चिमी यूपी में भाजपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे। इसे लेकर भाजपा और आरएलडी के बीच समझौता हो गया। बताया जा रहा है कि भाजपा ने पश्चिमी यूपी की दो सीटों का ऑफर दिया। जयंत चौधरी के खाते में बिजनौर और बागपत की सीटें आई हैं। आरएलडी के उम्मीदवार इन दो सीटों पर चुनाव लड़ेंगे।

यह भी पढे़ं : Lok Sabha Election 2024: भाजपा कैसे चुनती है अपने जीतने वाले उम्मीदवार? देखें Video

सपा ने सात सीटों का दिया था ऑफर

आपको बता दें कि एनडीए से हाथ मिलाने से पहले इंडिया गठबंधन के तहत समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोक दल के बीच सीट शेयरिंग पर बातचीत फाइनल हो गई थी। इसे लेकर सपा सुप्रीमो और पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने खुद आरएलडी के साथ गठबंधन का ऐलान किया था। इस गठबंधन के तहत आरएलडी के खाते में सीत सीटें आई थीं। हालांकि, सीटों पर ऐलान नहीं हुआ था, लेकिन कहा जा रहा था कि रालोद को मथुरा, हाथरस, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, बागपत, अमरोहा और कैराना सीटें मिली हैं।

यह भी पढे़ं : Lok Sabha Election: सिंधिया को हराने वाले का कटा टिकट, प्रज्ञा ठाकुर समेत 6 सांसदों का पत्ता साफ, देखें List

इंडिया गठबंधन से क्यों अलग हुआ आरएलडी

सपा भले ही आरएलडी को लोकसभा की सात सीट दे रही थी, लेकिन उनमें से चार सीटों पर अखिलेश यादव अपने उम्मीदवारों को उतारना चाहते थे। इसके तहत सपा कैराना, मुजफ्फरनगर, हाथरस और बिजनौर लोकसभा सीटों पर आरएलडी के चुनाव चिह्न से अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा करती। आरएलडी ने दो सीट कैराना और बिजनौर पर हामी भर दी थी, लेकिन मुजफ्फरनगर और हाथरस को लेकर पेंच फंसा था। सपा और आरएलडी के बीच दूरियों की वजह यही दो सीटें हैं। जयंत चौधरी सपा को मुजफ्फरनगर और हाथरस देने के लिए सहमत नहीं थे।

First published on: Mar 03, 2024 07:59 AM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

---विज्ञापन---

संबंधित खबरें
Exit mobile version