News24 Hindi

Balwant Singh Rajoana की रिहाई का विवाद गहराया, SGPC ने केंद्र सरकार को अल्टीमेटम दिया

Shri Akal Takht Sahib Meeting

Shri Akal Takht Sahib Meeting: पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बलवंत सिंह राजोआना की रिहाई का विवाद गहरा गया है। बुधवार को पंजाब के अमृतसर जिले में सिखों के पांचों तख्तों के जत्थेदारों ने एक स्पेशल मीटिंग श्री अकाल तख्त साहिब पर हुई, जिसमें कई बड़े फैसले लिए गए। हालांकि तख्त श्री दमदमा साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने मीडिया के सामने कुछ नहीं कहा, लेकिन श्री अकाल तख्त साहिब द्वारा एक प्रेस नोट जारी किया गया है। इस प्रेस नोट बलवंत सिंह राजेआना को तुरंत भूख हड़ताल खत्म करने के आदेश जारी किए गए हैं। पंज सिंह साहिबों द्वारा आदेश दिया गया है कि राजोआना अपने स्वास्थ्य को किसी भी तरह से नुकसान न पहुंचाएं, तुरंत अपनी भूख हड़ताल वापस लें और अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखें।

 

सरकार से बातचीत के लिए प्रतिनिधिमंडल बनाया गया

पंज सिंह साहिबों द्वारा यह भी कहा गया है कि यदि केंद्र सरकार 31 दिसंबर 2023 तक बलवंत सिंह राजोआना की फांसी की सजा को रद्द नहीं करती है तो उसके बाद वाली स्थिति के लिए सरकार जिम्मेदार होगी। बता दें कि आज हुई बैठक में श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी रघबीर सिंह, तख्त श्री केसगढ़ साहिब के जत्थेदार ज्ञानी सुल्तान सिंह, तख्त श्री दमदमा के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह, तख्त श्री पटना साहिब साहिब के अतिरिक्त मुख्य ग्रंथी सिंह ज्ञानी गुरदयाल सिंह और सचखंड श्री हरमंदिर साहिब, श्री दरबार साहिब के ग्रंथी सिंह साहिब ज्ञानी बलजीत सिंह शामिल हुए। इस सभा के दौरान बलवंत सिंह राजोआना और अन्य बंदी सिंहों की रिहाई को लेकर सरकार ने बातचीत करने के लिए उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल का गठन किया गया है।

लेटेस्ट खबरों के लिए फॉलो करें News24 का WhatsApp Channel

राजोआना 2 दिल से जेल में भूख हड़ताल पर बैठा

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह मर्डर केस में बलवंत सिंह राजोआना को फांसी की सजा हुई थी, लेकिन वह, सिख समुदाया और SGPC उसकी फांसी की सजा को उम्रकैद में बदलवाना चाहता है। इसके लिए SGPC ने साल 2011 में राष्ट्रपति को एक याचिका भेजी थी। हालांकि याचिका के कारण न तो उन्हें फांसी दी गई, न ही फांसी की सजा को अभी तक उम्रकैद में बदला गया है, लेकिन याचिका अभी तक पेंडिंग है। इस याचिका पर जल्द फैसला लेने की मांग करते हुए ही राजोआना ने जेल में भूख हड़ताल शुरू कर है। वह पिछले 2 दिन से पानी पीकर ही गुजारा कर रहे हैं। इसी हड़ताल को खत्म करने का आदेश SGPC ने बलवंत सिंह राजोआना को दिया है।

Exit mobile version