Tuesday, June 2, 2020

चीन से बढ़ी टेंशन के बीच अमेरिका ने किया इस अचूक हथियार का सफल परीक्षण

अमेरिकी नौसेना के एक युद्धपोत ने नए उच्च-ऊर्जा लेजर हथियार का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है, जो विमान को उड़ान के दौरान नष्ट कर सकता है। अमेरिकी नौसेना ने प्रशांत महासागर में एक बेड़े से इसका सफल परीक्षण किया।

नई दिल्‍ली: दुनिया में कोरोना फैलाने के बाद चीन ने अपने सैन्‍य बजट में इजाफा करके यह दिखा दिया है कि वह किसी भी कीमत पर रूकने वाला नहीं है। इसके साथ ही उसने हांगकांग को लेकर भी कानूनों में परिवर्तन किया जबकि ताइवान को भी धमकी दे डाली कि वह उसे चीन में मिलाने के लिए बल का भी प्रयोग कर सकता है। ड्रैगन की इन्‍हीं हरकतों को देखते हुए अमेरिका ने उसे कई बार आगाह किया है, लेकिन वह बाज नहीं आ रहा है।

अब अमेरिकी नौसेना के एक युद्धपोत ने नए उच्च-ऊर्जा लेजर हथियार का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है, जो विमान को उड़ान के दौरान नष्ट कर सकता है। अमेरिकी नौसेना ने प्रशांत महासागर में एक बेड़े से इसका सफल परीक्षण किया। परीक्षण के बाद नौसेना द्वारा इसके चित्र और वीडियो उपलब्ध कराए गए, जिसमें एक हवाई ड्रोन विमान को निशाना बनाया गया। इस वीडियो में युद्धपोत के डेक से लेजर निकलती है और वह ड्रोन को जला देती है।

अमेरिकी नौसेना ने लेजर हथियार प्रणाली (LWSD) परीक्षण का स्‍थान नहीं बताया, लेकिन सिर्फ इस बात की जानकारी दी कि यह 16 मई को प्रशांत महासागर में हुआ था। अमेरिका ने अभी तक इस हथियार की शक्ति का खुलासा भी नहीं किया है, लेकिन इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटेजिक स्टडीज की 2018 की रिपोर्ट में कहा गया है कि इसमें 150 किलोवाट का लेजर होने की उम्मीद है।

पोर्टलैंड के कमांडिंग ऑफिसर कैप्टन कर्रे सैंडर्स ने कहा, ”हम फिर से यूएवी और छोटे विमानों पर परीक्षण करेंगे ताकि संभावित खतरों के खिलाफ ठोस लेजर हथियार प्रणाली की क्षमताओं पर बहुमूल्य जानकारी प्राप्त कर सकें। इस नई उन्नत क्षमता के साथ, हम नौसेना के लिए समुद्र में युद्ध को फिर से परिभाषित कर रहे हैं।” नौसेना का कहना है कि लेजर, जिसे ऊर्जा हथियार (DEW) कहते हैं, ड्रोन या सशस्त्र छोटी नौकाओं के खिलाफ प्रभावी बचाव हो सकता है। बयान में कहा गया है, “LWSD की तरह नेवी के DEWs का विकास तत्काल युद्ध के लाभ प्रदान करता है और कमांडर को समय और विकल्प प्रदान करता है।”

2017 में, फारस की खाड़ी में परिवहन जहाज यूएसएस पोंस से 30-किलोवाट के लेजर हथियार का लाइव-फायर अभ्यास किया गया था। उस समय, एक लेजर हथियार प्रणाली अधिकारी लेफ्टिनेंट काले ह्यूजेस ने बताया कि वे कैसे काम करते हैं। ह्यूजेस ने कहा, “यह एक भारी मात्रा में फोटॉनों को फेंक रहा है। इस हथियार का प्रयोग करते समय हम हवा के बारे में चिंता नहीं करते हैं, हम सीमा के बारे में चिंता नहीं करते हैं, हम किसी और चीज के बारे में चिंता नहीं करते हैं। हम प्रकाश की गति से टारगेट को निशाना बनाने में सक्षम हैं।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

महाराष्ट्र और गुजरात पर बढ़ा चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ का खतरा, NDRF की कई टीमें तैनात

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच देश पर एक नया खतरा मंडरा रहा है। बंगाल और ओडिशा में चक्रवाती तूफान अम्फान की तबाही के...

क्या भारत के नाम से हट जाएगा ‘इंडिया’? सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

प्रभाकर मिश्रा, नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट आज उस याचिका पर सुनवाई करेगा जिसमें मांग की गई है कि संविधान संसोधन करके इंडिया शब्द हटा...

Aaj ka Rashifal 2 June 2020:  इन राशि वालों को आज रहना होगा सावधान वरना बिगड़ सकते हैं काम, जानें अपना राशिफल

Aaj ka Rashifal 2 June 2020: आज दिनांक 2 जून 2020 और दिन मंगलवार (Mangalwar ka Rashifal) है। आज का दिन सभी 12 राशियों...

‘CHAMPIONS’ से मजबूत होंगे छोटे उद्योग, रोजगार की लग जायेगी झड़ी!

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की मीटिंग में 20 लाख करोड़ के पैकेज और लोकल के लिए वोकल अभियान...