Friday, July 10, 2020

अपने ही जाल में फंस गया चीन, हाथ से गया हांगकांग! कैसे- जानने के लिए देखें रिपोर्ट

UNSC में चीन ने जो गड्ढा भारत के लिए खोदा था उसमें आज वो खुद गिरने जा रहा है। UNSC के अधिकांश सदस्यो ने हांगकांग पर चर्चा कासमर्थन किया है।

नई दिल्ली। एक कहावत है कि जो दूसरे के लिए गड्ढा खोदता है, वो एक दिन खुद उसी गड्ढे में गिरता है। यही कहावत चीन पर चरित्रार्थ हो रही है। विश्वसनीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC)में हांग-कांग का मुद्दा उठाया जायेगा। इस मुद्दे पर बहस भी होगी। चीन ने इस मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में न उठाए जाने के लिए ऐड़ी-चोटी का जोर लगा दिया था। हांगकांग मुद्दे पर बहस का प्रस्ताव अमेरिका ने रखा था।
दरअसल, कश्मीर से 370 खत्म किये जाने के बाद अकेला चीन ही एक ऐसा देश था जिसने संयुक्त परिषद को कश्मीर पर चर्चा के लिए विवश किया था। चीन ने ऐसा सिर्फ अपने पिट्ठू पाकिस्तान के लिए किया था। अब यही दांव चीन के लिए उलटा पड़ गया है। यानी जो गड्ढा चीन ने भारत के लिए खोदा था उस गड्ढे में आज वो खुद गड्ढे गिरने जा रहा है।

हॉन्ग-कॉन्ग पर अधिकार जमा रहे चीन को अपना ही पुराना पैंतरा भारी पड़ गया। दरअसल, डिप्लोमैटिक सूत्रों के मुताबिक संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने फैसला किया है कि हॉन्ग-कॉन्ग के मुद्दे पर ‘एनी अदर बिजनैस’ के अंतर्गत चर्चा की जाएगी। यानी इसे लेकर औपचारिक नहीं, बल्कि बंद कमरे में बात होगी। दरअसल, इससे पहले चीन ने ऐसे ही यूएनएससी में कश्मीर के मुद्दे को पाकिस्तान के कहने पर बंद कमरे में उठाया था। हालांकि, उसका दांव उल्टा पड़ गया था और परिषद के सदस्यों ने उसे दो-टूक जवाब दिया था कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान का द्विपक्षीय मुद्दा है।

हॉन्ग-कॉन्ग को लेकर चीन के रवैये से नाराज अमेरिका और ब्रिटेन की अपील पर बंद कमरे में यह चर्चा होगी। यह परिषद के अजेंडे में शामिल नहीं होगा। अमेरिका ने भी कहा था कि यह वैश्विक चिंता का मुद्दा है जिसमें अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा भी शामिल है और यूएनएससी को इस पर ध्यान देना चाहिए। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉनम्पियो ने कहा था कि आज की तारीख में कोई भी यह नहीं कह सकता कि हॉन्ग कॉन्ग को चीन से स्वायतत्ता मिली हुई है। इसे लेकर अब कोई उम्मीद नहीं बची है।

माइक ने कहा था, ‘मैंने यूएस कांग्रेस को बता दिया है कि हॉन्ग कॉन्ग को अब चीन से मिली स्वायतत्ता खत्म हो गई है। इसे लेकर तथ्य भी पेश किए गए हैं। अमेरिका हॉन्ग कॉन्ग के लोगों के साथ खड़ा रहेगा।’ ब्रिटेन ने भी चीन से अपने कदम पीछे खींचने की मांग की थी और कहा था कि अगर चीन ने हॉन्ग-कॉन्ग में नैशनल सिक्यॉरिटी कानून लागू किया तो ब्रिटिश नैशनल ओवरसीज पासपोर्ट होल्डर्स का दर्जा बदल दिया जाएगा।

पाकिस्तान के समर्थन में चीन ने यूएनएससीकी बैठक के दौरान बंद कमरे में कश्मीर का मामला उठाने की कोशिश की थी। हालांकि, बाकी देशों का समर्थन मिलना तो दूर, उसे फजीहत झेलनी पड़ी क्योंकि परिषद के सभी सदस्य देशों ने इसक कदम का विरोध किया। उन्होंने साफ कहा कि इस मुद्दे पर बहस के लिए वह जगह सही नहीं थी। उन्होंने चीन को दो-टूक जवाब दिया था कि यह भारत और पाकिस्तान का द्विपक्षीय मुद्दा है। लेकिन यहां एकदम उलटा है। हांगकांग के मुद्दे पर चीन को छोड़कर बाकी सभी देश चर्चा में शामिल होने फैसला लेने के पक्ष में हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

चित्रकूट में लड़कियों के यौन शोषण पर बोले राहुल गांधी- क्‍या ये ही हमारे सपनों का भारत?

रमन झा, नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी किसी ना किसी मुद्दे को लेकर आए दिन केंद्र सरकार को सवालों में घेर...

विकास ने पुलिस से कहा, मैं विकास दुबे हूं कानपुर वाला

https://www.youtube.com/watch?v=40SA8PcdbDY कानपुर कांड का मास्टरमाइंड विकास दुबे को एमपी के उज्जैन से गिरफ्तार कर लिया गया है। आज सुबह विकास दुबे उज्जैन महाकाल मंदिर पहुंचा...

विकास दुबे के दो और साथी एनकाउंटर में ढेर

https://www.youtube.com/watch?v=OSko0EfaskY विकास दुबे के दो और साथी एनकाउंटर में मारे गए हैं। कानपुर में प्रभात मिश्रा मारा गया जबकि इटावा में बउअन को पुलिस ने...

जम्मू कश्मीर में 6 पुलों का उद्घाटन करेंगे राजनाथ

https://www.youtube.com/watch?v=8iN74Tg1Wz0 रक्षामंत्री राजनाथ सिंह चीन से जारी सीमा तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में BRO द्वारा बानाए गए 6 महत्वपूर्ण पुलों का उद्घाटन का करेंगे।...