News24 Hindi

मीडिया के दिग्गज Rupert Murdoch ने छोड़ा चेयरमैन पद, अब नए रोल में नजर आएंगे

Rupert Murdoch

Rupert Murdoch Stepping Down: मीडिया सेक्टर के दिग्गज रूपर्ट मर्डोक ने गुरुवार को फॉक्स कॉर्प और न्यूज कॉर्प के चेयरमैन पद से इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया है। इस बाबत उन्होंने अपने स्टाफ मेंबर्स को एक मेमो भी भेजा है। मर्डोक ने कहा कि अलग-अलग भूमिकाएं निभाने का यह सही समय है। चेयरमैन पद से इस्तीफा देने के बाद वह दोनों कंपनियों को परामर्श और सलाह देना जारी रखेंगे। रूपर्ट मर्डोक 92 साल के हैं। हाल ही में उन्होंने 5वीं शादी करने का ऐलान किया था।

70 साल से मीडिया सेक्टर में एक्टिव

रूपर्ट मर्डोक करीब 70 साल से मीडिया सेक्टर में एक्टिव हैं। उन्होंने करीब 50 साल पहले द सन को एक टैब्लॉइड के रूप में लॉन्च किया था। उन्होंने यूके में लाइव फुटबॉल देखने के तरीके में क्रांति ला दी थी।

बेटे को सौंपा चेयरमैन पद

रूपर्ट के बाद उनके 52 वर्षीय बेटे लैशलेन मर्डोक न्यूज कॉर्प के एकमात्र अध्यक्ष बनेंगे। इसके अलावा फॉक्स कॉर्पोरेशन के कार्यकारी अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी बने रहेंगे।

अब इस रोल में नजर आएंगे मर्डोक

रूपर्ट मर्डोक ने कहा, ‘मेरे पास टैलेंटेड और समर्पित टीम है। अब समय आ गया है कि मैं कुछ अलग रोल को अपनाऊं। अब लैशलेन, जो एक भावुक, सिद्धांतवादी लीडर हैं, वे दोनों कंपनियों के एकमात्र अध्यक्ष बनेंगे। मेरी कंपनियों की स्थिति मेरी तरह मजबूत है। मैं अपने पूरे प्रोफेशनल लाइफ में रोजाना न्यूज और आइडियाज के साथ व्यस्त रहा हूं। लेकिन ये बदलने वाला नहीं।

मर्डोक ने कहा कि मेरे पिता बोलने की आजादी में विश्वास करते थे, और लैशलेन इस उद्देश्य के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं। नौकरशाही उन लोगों को चुप कराने की कोशिश कर रही है जो उनकी उत्पत्ति और उद्देश्य पर सवाल उठाएंगे।

मर्डोक ने कहा कि हमारी कंपनी एक समुदाय की तरह है। मैं इसका सक्रिय सदस्य हूं। अब मैं एक आलोचक के रोल में रहूंगा। समाचार पत्रों और वेबसाइटों और पुस्तकों को पढ़ूंगा, और विचारों, सुझावों और सलाह के साथ आप तक पहुंचूंगा।

हाल ही में शादी का किया ऐलान

हाल ही में रूपर्ट ने 92 साल की उम्र में 66 साल की एक पूर्व वैज्ञानिक एन लेस्ली स्मिथ के साथ शादी का ऐलान किया था। लेस्ली से रूपर्ट कैलिफोनिर्या में एक प्राइवेट कार्यक्रम में मिले थे।

यह भी पढ़ें: 11 KG का लड्डू चढ़ाकर सो गए गणपति जी के प्यारे; आंख खुली तो फिरे मारे-मारे

Exit mobile version