रिसर्च में हुआ डराने वाला खुलासा, कोरोना से होंगी 7 लाख लोगों की मौत

नई दिल्‍ली:

कोरोना के सामने दुनिया पूरी तरह से पस्‍त हो गई है। किसी भी देश को समझ नहीं आ रहा है कि आखिर इस महामारी से कैसे निपटा जाए। लॉकडाउन और सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करने के बावजूद भी कोरोना के मामलों में कोई कमी नहीं हो रही है। ऐसे में ब्रिटेन की एक रिसर्च ने सभी को डराने का काम किया है। रिसर्च के अनुसार, अगर ऐसा ही चलता रहा तो सिर्फ अकेले ब्रिटेन में ही सात लाख लोगों की मौत हो गई है।

अध्ययन में कहा गया है कि यह महामारी ऐसे ही चलती रही और अगर पर काबू नहीं पाया गया, तो इस साल के अंत तक ब्रिटेन में मरने वालों की संख्या एक लाख तक हो सकती है। इसके साथ ही एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि कोरोना वायरस और इसके लिए लॉकडाउन जैसे उठाए गए कदमों के कारण ब्रिटेन में सात लाख लोगों की मौत हो सकती है। इसके पीछे मंदी के कारण लोगों की होने वाली मौत को भी कारण बताया गया है। यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल के अध्ययन के अनुसार, ब्रिटेन में सात लाख लोग इस जानलेवा वायरस से जान गंवा सकते हैं। यह संख्या द्वितीय विश्व युद्ध में हुई मौतों से भी ज्यादा है।

रिसर्च में यह अभी अनुमान लगाया गया है कि अगर इस महामारी की दवा नहीं बनती है तो कोविड-19 को हराने के लिए 2024 तक सोशल डिस्टेंसिंग के लिए मजबूर होना पड़ सकता है। कोरोना के कारण दुनिया के ज्‍यादातर देशों ने लॉकडाउन लगाया हुआ है, जिस वजह से मंदी भी आ सकती है। ऐसे में कोरोना वायरस, खराब स्वास्थ्य प्रणाली और गरीबी की वजह से पांच साल में 6.75 लाख लोगों की मौत हो सकती है।

बता दें कि दुनिया में कोरोना का कहर तेजी से बढ़ता ही जा रहा है। अभी तक विश्‍व भर में कोरोना से 4,256,022 से ज्‍यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 287,332 लोगों की इस महामारी के कारण मौत हो गई है। वहीं राहत की खबर यह है कि इस बीमारी से 1,527,517 लोग ठीक हो चुके हैं।

वहीं देश में कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। अब तक 70 हजार 756 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि कोरोना की चपेट में आकर अब तक 2293 लोगों की मौत हो चुकी है। अच्छी बात ये है कि देश में अब तक 22454 लोग ठीक होकर अपने-अपने घरों को पहुंच चुके हैं।

Share