पाकिस्‍तान हुआ कंगाल, अस्‍पतालों में नहीं ऑक्‍सीजन, मरीज तड़प-तड़पकर मरने को मजबूर

कराची:

कोरोना ने दुनिया को आर्थिक रूप से भी बड़ी मार दी है। विश्‍व के कई बड़े देश इस समय लॉकडाउन से जूझ रहे हैं, जिसमें सभी उद्योग धंधे बंद हैं। इस वजह से सरकारों के पास पैसे की भारी कमी हो गई है। पड़ोसी देश पाकिस्‍तान की हालत तो पहले से ही खराब थी और रही-सही कसर कोरोना ने पूरी कर दी। कोरोना के कारण पाकिस्‍तान पर ऐसी मार पड़ी है कि वह कंगाल हो गया है। वहां के अस्‍पतालों में मरीजों को बचाने के लिए ऑक्‍सीजन भी खत्‍म हो रही है।

मिली जानकारी के अनुसार, पाकिस्तान के सिंध प्रांत की राजधानी कराची में कोरोना संक्रमित एक डॉक्टर को वेंटिलेटर नहीं मिल सका, जिसकी वजह से उनकी मौत हो गई है। सिंध में कोरोना ने सबसे ज्‍यादा कोहराम मचाया हुआ है। यहां पर प्राइवेट अस्‍पतालों में मरीजों की तादाद में लगातार इजाफा हो रहा है। इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण है कि सरकारी अस्‍पतालों में कोरोना महामारी से लड़ने के लिए ज्‍यादा साधन नहीं है। ऐसे में लोग प्राइवेट अस्‍पतालों की तरफ रुख कर रहे हैं।

कराची इंस्टिट्यूट ऑफ हार्ट डिजीज से सेवानिवृत्त डॉ. फुरकान कोरोना वायरस के शिकार हो गए थे। उन्होंने खुद को घर में आइसोलेट कर लिया था। उनके परिजनों ने बताया कि तबियत बिगड़ने पर फुरकान को पहले शहर के बड़े अस्पतालों, एसआईयूटी और फिर इंडस अस्पताल ले जाया गया। लेकिन, कहीं भी आईसीयू या कोई वेंटिलेटर खाली नहीं मिला। फुरकान को सरकारी अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहां वेंटिलेटर खराब मिले। कुछ जो काम कर रहे थे, वे खाली नहीं थे। परिजनों ने बताया कि डॉ. फुरकान करीब दो घंटे तक ऐम्बुलेंस में रहे और वे लोग उन्हें लेकर अस्पतालों का चक्कर लगाते रहे। बड़े अस्पतालों ने वापस भेज दिया, जिसके बाद उन्हें एक और अस्पताल ले जाया गया। लेकिन तब तक देर हो चुकी थी और फुरकान की मौत हो चुकी थी।

पाकिस्‍तान में पिछने 24 घंटे में कोरोना ने कहर मचाया हुआ है। यहां पर एक दिन में 1315 कोरोना के मरीज मिले। यहां पर 9893 लोगों का एक दिन में टेस्‍ट किया गया था, जिनमें से इतने ज्‍यादा लोगों में कोरोना संक्रमण पाया गया। इसके साथ ही पाकिस्‍तान में कोरोना के मरीजों की संख्‍या बढ़कर 21501 हो गई है, जबकि अबतक यहां पर 486 लोग कोरोना के कारण दम तोड़ चुके हैं।

Share