Wednesday, July 8, 2020

अपनी डिमांड पर अडिग भारत, चीन के साथ आज फिर लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत

भारत और चीन के बीच लद्दाख की गलवान घाटी में गतिरोध जारी है। इस गतिरोध को खत्म करने और वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव को कम करने के लिए की आज  भारत और चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर एक और दौर की वार्ता होगी। जानकारी के मुताबिक वार्ता में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह करेंगे जबकि चीनी पक्ष का नेतृत्व तिब्बत मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट के कमांडर कर सकते हैं।

मनीष कुमार, नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच लद्दाख की गलवान घाटी में गतिरोध जारी है। इस गतिरोध को खत्म करने और वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव को कम करने के लिए की आज  भारत और चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर एक और दौर की वार्ता होगी। जानकारी के मुताबिक वार्ता में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह करेंगे जबकि चीनी पक्ष का नेतृत्व तिब्बत मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट के कमांडर कर सकते हैं।

भारत और चीन के लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की ये तीसरे दौर की बातचीत होगी। इससे पहले दोनों देशों के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की दो दौर की वार्ता हो चुकी है। इससे पहले दोनों देशों के लेफ्टिनेंट जनरल रैंक के अधिकारियों की बैठक 6 जून और 22 जून को चीन के मोलदो मैं हुई थी।

जानकारी के मुताबिक इस बार के एजेंडे के तहत उन मुद्दों पर विचार विमर्श किया जाएगा जिस पर 22 जून को हुई बैठक में सहमति बनी थी। बताया जा रहा है कि इस बैठक में पूर्वी लद्दाख में तनाव को कम करने और संवेदनशील क्षेत्र से सेनाओं को पीछे करने के तौर-तरीकों को अंतिम रूप देने पर चर्चा होगी। लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की यह वार्ता चुशूल सेक्टर  में वास्तविक नियंत्रण रेखा  पर भारतीय जमीन पर होगी। पहली दो बैठकें मोलदो में एलएसी (LAC) पर चीन की जमीन पर हुई थी।

पहले दो दौर की वार्ताओं में भारतीय पक्ष ने यथास्थिति की बहाली और गलवान घाटी, पैंगोंग सो और अन्य क्षेत्रों से हजारों चीनी सैनिकों की तत्काल वापसी पर जोर दिया था। दूसरे दौर की वार्ता में 22 जून को दोनों पक्षों के बीच पूर्वी लद्दाख में तनाव वाले स्थानों पर पीछे हटने के लिए परस्पर सहमति बनी थी। सूत्रों ने कहा कि मंगलवार को बलों को पीछे हटाने को लेकर हुए फैसले को क्रियान्वित करने की दिशा में आगे बढ़ने पर दोनों पक्षों के चर्चा करने की उम्मीद है।

आपको बता दें कि पूर्वी लद्दाख में कई जगहों पर पिछले सात सप्ताह से भारत और चीन की सेनाएं आमने-सामने हैं। 15 जून को गलवान घाटी में हुए संघर्ष में 20 भारतीय जवानों के वीरगति को प्राप्त होने के बाद तनाव कई गुना बढ़ गया है। जबकि चीन के 43 से ज्यादा सैनिक मारे गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कोरोना के बाद इंडिया से बाहर इंडिया का अद्भुत कारनामा, चीन और पाकिस्तान कर रहे स्यापा

नई दिल्ली। यूरोपियन यूनियन हो या फिर यूनाईटेड नेशंस हर तरफ भारत का बोलवाला है। अमेरिका, ब्रिटेन हो फिर रूस हर कोई भारत से...

नेपाल में उठा सियासी तूफान, चालबाज चीन ने राष्ट्रपति भवन को भी जाल में फंसाया

नई दिल्ली। चालबाज चीन ने नेपाल के राष्ट्रपति भवन को भी अपने जाल में फंसा लिया है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग चाहते हैं...

सपना चौधरी ने इस गाने पर डांस से जीता फैंस का दिल, पागल हो गए लोग, देखें वीडियो

नई दिल्लीः हरियाणवी सिंगर (Haryanvi Dancer) और डांसर सपना चौधरी (Sapna Chaudhary) की पहचान किसी बॉलीवुड सिलेब्स से कम नहीं है। वो जब मंच...

लॉकडाउन में बुक कराए गये टिकटों का रिफंड नहीं दे रहीं एयरलाइंस, सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया नोटिस

नई दिल्ली। कोरोना लॉकडाउन के दौरान बुक किए गये हवाई टिकटों की वापसी में एयर लाइन हीलाहवाली कर रही हैं। यात्रियों पर जबरन क्रेडिट...