News24 Hindi

पाक की नापाक हरकत; मंदिरों को बनाया जा रहा निशाना, कॉफी हाउस के नाम पर तोड़ी शारदा पीठ की दीवार

पंकज शर्मा/श्रीनगर

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में पंडितों के प्रमुख तीर्थ स्थल शारदा पीठ मंदिर की दीवार को पाकिस्तानी सेना ने तोड़ दिया और वहां पर एक कॉफी हाउस का निर्माण कर दिया है। पाक सेना के ब्रिगेडियर ने नींव पत्थर रख दिया है, जिससे कश्मीरी पंडित समुदाय में भारी रोष है। हालांकि पीओके की सिविल सोसायटी ने भी इसका विरोध किया है और एक वीडियो बनाकर भेजा है।

2400 साल पुराना है शारदा पीठ मंदिर

दरअसल, शारदापीठ देवी सरस्वती का प्राचीन मन्दिर है, जो पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में शारदा के निकट किशनगंगा नदी (नीलम नदी) के किनारे स्थित है। मुजफ्फराबाद से लगभग 140 किलोमीटर और कुपवाड़ा से करीब 30 किलोमीटर दूर इस मंदिर के भग्नावशेष भारत-पाक नियन्त्रण-रेखा के निकट स्थित हैं। इस पर भारत का अधिकार है। करीब 2400 साल पुराना बताया जाता शारदा पीठ मंदिर शुरू से कश्मीरी पंडितों की आस्था का प्रतीक रहा है, लेकिन सदियों पुराना ये मंदिर अब खंडहर में बदल चुका है। कश्मीर पंडित लंबे समय से इसके जीर्णोद्धार की मांग करते रहे हैं। सरकार ने कुछ समय पहले इसे सुधारने का काम शुरू किया था। इसका पहला चरण पूरा कर लेने के बाद मंदिर को जनता को सौंप दिया गया है। जिस शारदा पीठ मंदिर को पाकिस्तानी आर्मी ने तोड़ा है, वो UNESCO की तरफ से मान्यता प्राप्त मंदिर था।

आजादी के बाद पहली बार हुई थी दिवाली की पूजा

हाल ही में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कश्मीर में एलओसी के पास माता शारदा देवी मंदिर का वर्चुअल उद्घाटन किया था और 1947 के बाद पहली बार मंदिर के दीपावली की पूजा की गई। अब मंदिर की रक्षा के उद्देश्य से सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद मंदिर को ध्वस्त कर दिया गया। रिपोर्ट में मंदिर के पास एक कॉफी हाउस के निर्माण का भी संकेत दिया गया है। उधर, इससे पहले सिंध के मां हिंगलाज देवी मंदिर में तोड़फोड़ की गई है। इस तरह की घटनाएं देश में हिंदुओं पर चल रहे उत्पीड़न को रेखांकित करती हैं। दूसरी ओर क्या वे कभी इसी तरह पाकिस्तान में भी कोई मस्जिद तोड़ेंगे? दुनिया ऐसे दुर्व्यवहार पर चुप रहती है।

यह भी पढ़ें: नासा प्रमुख ने भारत को बताया भविष्य का अहम भागीदार, मिलकर करेंगे इस खास प्रोजेक्ट पर काम

21 से घटकर 1 प्रतिशत रह गई हिंदुओं की आबादी

यहा इस मामले में उल्लेखनीय पहलू यह भी है कि आजादी के वक्त पाकिस्तान में 21 फीसदी हिंदू थे। ये घटकर अब सिर्फ 1 प्रतिशत रह गए हैं। इस हिंदू आबादी की आस्था का प्रतीक शारदा पीठ मंदिर दुनिया के 18 महाशक्ति पीठों में से एक है। हालांकि यह पहली बार नहीं है, जब किसी हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ की गई हो। इस मसले को लेकर ऑल पाकिस्तान हिंदू राइट्स मूवमेंट की रिपोर्ट की मानें तो आजादी के 76 साल के बाद 428 मंदिरों में से अब सिर्फ 20 ही बचे हैं।

यह भी पढ़ें: चार महीने बाद पाकिस्तान से वापस आई अंजू; सरहद लांघने के बाद कर ली थी सोशल मीडिया फ्रेंड से शादी

Exit mobile version