Thursday, July 9, 2020

अमेरिका को बर्बाद करने के लिए चीन ने शुरू किया ये नया प्रोजेक्‍ट, अब दुनिया में आर्थिक मोर्चे पर होगा विश्‍व युद्ध

जिस वक्त सारी दुनिया कोरोना वायरस को फैलने से रोकने की कोशिश कर रही है, उस वक्त चीन ने एक ऐसा प्रोजेक्ट शुरू किया है, जो दुनिया में आर्थिक मोर्चे पर नए तरह का वैश्विक युद्ध शुरू कर सकता है। अमेरिका हर मोर्चे पर चीन के ख़िलाफ़ लामबंदी कर रहा है, जिसके जवाब में चीन ने अमेरिका को पीछे छोड़ने की नीयत से डिजिटल करेंसी का प्रोजेक्ट लॉन्च कर दिया है।

नई दिल्‍ली: सारी दुनिया कोरोना से लड़ रही है और इसी बीच दुनिया में एक नई जंग की शुरुआत हो चुकी है। कोरोना और इस नई जंग में एक बात समान है, दोनों जंग की वजह है चीन। चीन पर ये आरोप है कि उसने सारी दुनिया में कोरोना वायरस फैलाया और अब चीन ने ही एक ऐसा कदम उठाया है, जिससे विश्व में पाई-पाई की लड़ाई को हवा मिल गई है। ये लड़ाई ऐसी है, जो सारी दुनिया की सियासत और आर्थिक हालत को बदलकर रख सकती है। इसे आप करेंसी का विश्व युद्ध भी कह सकते हैं।

जिस वक्त सारी दुनिया कोरोना वायरस को फैलने से रोकने की कोशिश कर रही है, उस वक्त चीन ने एक ऐसा प्रोजेक्ट शुरू किया है, जो दुनिया में आर्थिक मोर्चे पर नए तरह का वैश्विक युद्ध शुरू कर सकता है। अमेरिका हर मोर्चे पर चीन के ख़िलाफ़ लामबंदी कर रहा है, जिसके जवाब में चीन ने अमेरिका को पीछे छोड़ने की नीयत से डिजिटल करेंसी का प्रोजेक्ट लॉन्च कर दिया है। दुनिया को ये बात हैरान कर रही है कि चीन ने अचानक इस फ़ैसले को पायलट प्रोजेक्ट के तहत लागू करने का फ़ैसला ऐसे मुश्कि़ल समय में क्यों लिया है? जबकि इस योजना पर 2014 से ही काम शुरू हो गया था। इसे लागू करने में चीन की तेज़ी के क्या मायने हैं?

  • चीन अपने 4 प्रमुख शहरों में डिजिटल युआन शुरू करेगा
  • अप्रैल में पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना ने चार बड़े शहर चुने थे
  • शेन्ज़ेन, चेंग्दू, सूज़ो और जिओनगान में डिजिटल युआन की शुरुआत होगी
  • सरकारी कर्मचारियों को कुछ वेतन डिजिटल युआन में दिया जाएगा
  • करीब 20 निजी कारोबार में डिजिटल युआन का इस्तेमाल होगा
  • स्टारबक्स और मैकडॉनल्ड ने भी इस प्रयोग में हिस्सा लिया है
  • प्रयोग कामयाब रहा तो 2022 विंटर ओलंपिक में सारे देश में लागू होगा

चीन के डिजिटल युआन की पूरी कहानी बहुत दिलचस्प है। दरअसल, चीन का डिटिजल युआन लाना एक ऐसी रणनीति है, जिससे विश्व के आर्थिक संतुलन में बदलाव आ सकता है। ये चीन की उन महत्वाकांक्षी परियोजनाओं का हिस्सा है, जिसका उद्देश्य अमेरिका के प्रभाव को ख़त्म करना है। चीन 21वीं सदी में तकनीक और करेंसी के मामले में सबसे शक्तिशाली देश बनकर उभरना चाहता है।

चीन की अदृश्य करेंसी को लेकर कुछ अहम सवाल हैं, जिनका जवाब सारी दुनिया जानना चाहती है। क्या चीन ने डिजिटल युआन वाला ट्रायल अमेरिका को पीछे छोड़ने के लिए जल्दबाज़ी में शुरू किया है? क्या चीन सच में पूरे देश में कागज़ की करेंसी ख़त्म करना चाहता है? अगर ऐसा है, तो इस अभूतपूर्व प्रोजेक्ट को वैश्विक मंदी के दौर में लाने की मुख्य वजह क्या है?

चीन क्यों लाया डिजिटल करेंसी?

  • अमेरिका के साथ वैश्विक बाज़ार में चीन के साथ बढ़ता ट्रेड वॉर
  • अमेरिका समेत पश्चिमी देशों का चीन पर कोरोना फैलाने का आरोप
  • फ़ेसबुक की डिजिटल करेंसी लिब्रा को इस साल लाने की तैयारी
  • चीन का प्रयोग सफल रहा तो नयी आर्थिक व्यवस्था जन्म ले सकती है
  • 10-15 साल में दुनिया की अर्थव्यवस्था और सियासी बदल सकते हैं
  • चीन डिजिटल मुद्रा को सॉफ्ट या हार्ड-पावर टूल की तरह इस्तेमाल करेगा
  • चीन अपने यहां विदेशी कंपनियों को डिजिटल युआन के लिए मजबूर कर सकता है
  • चीन ने ऐसा किया तो वैश्विक आर्थिक बाज़ार में डॉलर के वर्चस्व को ख़तरा होगा
  • चीन में दुनिया की कई बड़ी कंपनियां डॉलर में कारोबार करती हैं
  • बीसवीं सदी की शुरुआत में अमेरिका ने डॉलर को बढ़ावा दिया था
  • अब चीन उसी तरह अपने युआन को डिजिटल की शक्ल में बढ़ावा देगा
  • साल 2000 में चीन के वैश्विक लेन-देन में युआन का हिस्सा शून्य था
  • लेकिन, 2015 तक चीन के व्यापारिक लेन-देन में युआन का हिस्सा 25% हो गया

डिजिटल युआन निश्चित रूप से अमेरिका डॉलर से दूरी बनाने की तरफ़ एक बड़ा क़दम है। वर्तमान में अमेरिकी डॉलर सारी दुनिया में सबसे ज़्यादा प्रचलित मुद्रा है। 1970 के दशक की शुरुआत में गोल्ड स्टैंडर्ड के अंत के बाद से डॉलर में ही वैश्विक व्यापार होता है, लेकिन अब बदले हुए हालात में अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर शुरू हो चुकी है। इसी व्यापारिक और आर्थिक मोर्चे पर चल रही जंग को जीतने के लिए चीन ने अदृश्य करेंसी के रूप में डिजिटल युआन का प्रोजेक्ट लॉन्च किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 7 लाख 67 हजार के पार, अबतक 21000 से ज्यादा लोगों की जा चुकी है जान

नई दिल्ली: चीनी वायरस कोरोना (Coronavirus) यानी कोविड 19 (Covid 19) के संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए देश में 24 मार्च से...

BIG BREAKING: विकास दुबे उज्‍जैन में गिरफ्तार

नई दिल्‍ली: कानुपर के बिकरू गांव से 8 पुलिसकर्मियों की हत्‍या के बार फरार विकास दुबे को उज्‍जैन में गिरफ्तार कर लिया गया है।...

रेलवे में निजीकरण के आरोप पर बचाव में आये रेल मंत्री, कहा- इससे रोजगार के मौके और यात्री सुविधा बढ़ेगी

कुन्दन सिंह, नई दिल्ली: रेल मंत्रालय के द्वारा 109 रूट्स पर 151 प्राइवेट ट्रेन चलाए के निर्णय से उठे निजीकरण के सवाल के जवाब...

एक दूल्हे ने दो दुल्हनों से की शादी, दोनों हैं प्रेमिका

बैतूल: बैतुल जिले की घोडाडोंगरी ब्लॉक में केरिया गांव में युवक ने एक मंडप में अपनी दो प्रेमिकाओं के साथ सात फेरे लिये। इस...