Friday, July 10, 2020

पाक टेलिवीजन और सूचना मंत्रालय पर फौज का कब्जा, जनरल बाजवा ने इमरान खान पर कसा शिकंजा

पाकिस्तानी आर्मी चीफ जनरल बाजवा ने बड़ी ही खूबसूरती से इमरान खान के मुंह पर ताला लगा दिया है। मतलब यह कि पाकिस्तानी टेलिवीजन और इनफॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्ट मिनिस्ट्री फौजी जनरलों के हवाले कर दी गयी है।

नई दिल्ली। पाकिस्तान के सरकारी सूचना तंत्र यानी इनफॉरमेशन एंड ब्रॉडकास्ट मिनिस्ट्री और पाकिस्तान टेलिवीजन पर फौज ने कब्जा कर लिया है। इसका सीधा सा मतलब यह कि पाकिस्तान के प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में वही लिखा और दिखाया जायेगा जिस पर पाकिस्तान आर्मी की मुहर लगी होगी। पाकिस्तान के विदेश और वित्त मंत्रालय के सभी फैसले पहले से ही आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा की मर्जी से ही होते थे। कोरोना लॉकडाउन हो या पाकिस्तान में लॉ एंड ऑर्डर सब कुछ जनरल बाजवा की मर्जी सेही चल रहा है।

कहने का मतलब यह कि पाकिस्तान में इमरान खान के हाथों से सत्ता बहुत तेजी से फिसल रही है। जिस फौज की उंगली पकड़ कर इमरान प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुंचे थे वही फौज अब उन्हें ‘किक’ मार कर सत्ता से बाहर भेजने वाली है। इमरान खान को भी अपना अंजान दिखाई देने लगा है इसलिए अब वो आम जनता की तरफदारी और आर्मी के खिलाफ बयान देने लगे हैं। पाकिस्तान की आवाम को नेताओं से ज्यादा भरोसा फौज पर है। इसी लिए फिरदौस आशिक अवान की जगह इनफॉरमेशन एंड ब्रॉडकास्ट मिनिस्ट्री जनरल असीम बाजवा के हवाले करने और जनरल आसिफ गफूर को पाकिस्तान टेलिवीजन का डायरेक्टर जनरल बनाकर बैठाने के बावजूद पाकिस्तान में किसी की कान पर जूं तक नहीं रेंगी। बल्कि लोग य़इस बात से खुश है कि आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा ने इमरान खान की मुश्कें कस दीं हैं। अब प्रधानमंत्री कार्यालय से मीडिया में भी वही बयान जारी हो सकेंगे जिन पर फौज की मुहर की लगी होगी। यानी पाकिस्तानी फौज ने इमरान खान के मुंह पर ताला लगा दिया है। अब देखना यह है कि वो इमरान खान को हथकड़ी पहना कर कैदखाने में कब डालती है।

ऐसा कहा जा रहा है कि चीनी और गेहुं घोटाले की गाज इमरान खान के ऊपर ही गिरनी तय है। क्योंकि इन दोनों घोटालों में इमरान खान के करीबी लोग ही फंसे हुए हैं। अगर वो लोग जेल जाते हैं तो फिर इमरान को बचाने वाला भी कोई नहीं है। इस सब घटनाक्रम के बीच पाकिस्तान में यह भी अफवाह जोरों पर है कि पाकिस्तानी आर्मी इमरान खान के विकल्प के तौर पर पाकिस्तान क्रिकेट टीम के ही एक और पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी को अपना मोहरा बनाकर प्रधानमंत्री के तौर पर पेश कर सकती है। पाकिस्तान के सियासी हलकों के साथ-साथ आम पब्लिक के बीच भी शाहिद अफरीदी की गतिविधियां बढ़ गयी हैं। खास बात यह है कि शाहिद अफरीदी जब भी पब्लिक गैदरिंग को संबोधित करने जाते हैं तो उनकी सुरक्षा में पाकिस्तानी फौज के स्पेशल कमाण्डो रहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

चित्रकूट में लड़कियों के यौन शोषण पर बोले राहुल गांधी- क्‍या ये ही हमारे सपनों का भारत?

रमन झा, नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी किसी ना किसी मुद्दे को लेकर आए दिन केंद्र सरकार को सवालों में घेर...

विकास ने पुलिस से कहा, मैं विकास दुबे हूं कानपुर वाला

https://www.youtube.com/watch?v=40SA8PcdbDY कानपुर कांड का मास्टरमाइंड विकास दुबे को एमपी के उज्जैन से गिरफ्तार कर लिया गया है। आज सुबह विकास दुबे उज्जैन महाकाल मंदिर पहुंचा...

विकास दुबे के दो और साथी एनकाउंटर में ढेर

https://www.youtube.com/watch?v=OSko0EfaskY विकास दुबे के दो और साथी एनकाउंटर में मारे गए हैं। कानपुर में प्रभात मिश्रा मारा गया जबकि इटावा में बउअन को पुलिस ने...

जम्मू कश्मीर में 6 पुलों का उद्घाटन करेंगे राजनाथ

https://www.youtube.com/watch?v=8iN74Tg1Wz0 रक्षामंत्री राजनाथ सिंह चीन से जारी सीमा तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में BRO द्वारा बानाए गए 6 महत्वपूर्ण पुलों का उद्घाटन का करेंगे।...